कुछ कलयुगी मुक्तक ---आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on February 02, 2019, 03:39:06 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 77 times)
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 59
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
26 days, 11 hours and 25 minutes.

Posts: 3870
Member Since: Oct 2010


View Profile
Reply with quote
काश ! मैं तुम्हारा मोबाइल होता
तुम्हारे कानो से चिपका होता
तुम अपने दिल की बात कहती
मैं अपने दिल की बात कहता

काश ! तुम मेरे मोबाइल होते
भले ही मेरे कानो से चिपके होते
पर जब मैं बॉय फ्रेंड से बात करती
तुम्हारे दिल में कडवाहट होती

काश ! मै तुम्हारा दीपक होता
तुम मेरी तेल बाति होती
मै सारी रात जलता रहता
तुमको प्रकाश  देता रहता

काश ! तुम मेरे दीपक होते
भले ही तुम्हारी तेल बाति होती
जब तेल तुम्हारा खत्म हो जाता
सुबह तुम्हे कूड़े में फैक आती

काश ! तुम्हार गणेश होता
घर में तुम्हारे पूजा जाता  
रोज तुम्हारे लडडू खाता
खूब मौज मस्ती मनाता

काश ! तुम मेरे गणेश होते
भले ही तुम रोज पूजे जाते  
और खूब मौज मस्ती मनाते
पर हर वर्ष तुम्हारा विसर्जन करती

काश ! मैं तुम्हारा राम होता
कलयुग में मैं पैदा होता
तुम सीता सी पत्नि होती
कितनी अच्छी ये बात होती

काश ! तुम कलयुग मै पैदा होते
मै सीता सी सावित्री न होती  
तुम अकेले बन बन में भटकते
मैं अकेले ही मौज मस्ती लेती

आर के रस्तोगी  
Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 253
Offline Offline

Waqt Bitaya:
91 days, 19 hours and 3 minutes.
Posts: 18897
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: February 02, 2019, 12:42:00 PM »
Reply with quote
काश ! मैं तुम्हारा मोबाइल होता
तुम्हारे कानो से चिपका होता
तुम अपने दिल की बात कहती
मैं अपने दिल की बात कहता

काश ! तुम मेरे मोबाइल होते
भले ही मेरे कानो से चिपके होते
पर जब मैं बॉय फ्रेंड से बात करती
तुम्हारे दिल में कडवाहट होती

काश ! मै तुम्हारा दीपक होता
तुम मेरी तेल बाति होती
मै सारी रात जलता रहता
तुमको प्रकाश  देता रहता

काश ! तुम मेरे दीपक होते
भले ही तुम्हारी तेल बाति होती
जब तेल तुम्हारा खत्म हो जाता
सुबह तुम्हे कूड़े में फैक आती

काश ! तुम्हार गणेश होता
घर में तुम्हारे पूजा जाता 
रोज तुम्हारे लडडू खाता
खूब मौज मस्ती मनाता

काश ! तुम मेरे गणेश होते
भले ही तुम रोज पूजे जाते 
और खूब मौज मस्ती मनाते
पर हर वर्ष तुम्हारा विसर्जन करती

काश ! मैं तुम्हारा राम होता
कलयुग में मैं पैदा होता
तुम सीता सी पत्नि होती
कितनी अच्छी ये बात होती

काश ! तुम कलयुग मै पैदा होते
मै सीता सी सावित्री न होती 
तुम अकेले बन बन में भटकते
मैं अकेले ही मौज मस्ती लेती

आर के रस्तोगी 

Applause Applause Applause
Logged
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 59
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
26 days, 11 hours and 25 minutes.

Posts: 3870
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #2 on: February 02, 2019, 01:14:44 PM »
Reply with quote
Shri Suriindran ji shukriya
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
February 17, 2019, 10:44:00 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[February 17, 2019, 04:09:12 PM]

[February 17, 2019, 04:01:25 PM]

[February 17, 2019, 01:22:55 PM]

[February 17, 2019, 01:19:00 PM]

[February 17, 2019, 01:18:12 PM]

[February 17, 2019, 01:17:31 PM]

[February 17, 2019, 01:16:46 PM]

[February 17, 2019, 01:16:01 PM]

[February 17, 2019, 01:15:26 PM]

[February 17, 2019, 01:14:52 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.152 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48359 Real Poets and poetry admirer