अब यही उसकी पहचान है

by abk2308 on April 18, 2015, 09:03:04 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 307 times)
abk2308
Aghaaz ae Shayar
*

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 17 hours and 48 minutes.
shayar abhi

Posts: 63
Member Since: Feb 2014


View Profile
Reply with quote
जिनको बुरा लगे माफ़ करना
समझ से दूर है ये सबके …

वो बचपन से वेश्या नही थी
वो भी किसी की बेटी थी
जिसको जिस्म के ठेके दारों ने
चन्द पैसो के लिये बेच दिया……

वो वेश्या नही पर यही
अब उसकी पहचान है !

बाप कौन है  उसका इससे भगवान भी अन्जान है !!
माना पतित बहुत  है लेकिन फिर भी अपना धर्म
निभाती है

मा दुर्गा की मूर्ति की पहली
माटी उसके ही आंगन से जाती
ना उसका  रब न  ही मौला ना ईशु , भगवान है
वो वेश्या है यही
उसकी  पहचान है !

तन की सुषमा बेच बेच कर उसने मन को मार लिया है !
नर की हवस मिटाने खातिर ये जीवन
स्वीकार लिया है !

ये तन उसका हवस की खातिर कलंकित वरदान है !

जिस दिन मनती ईद दिवाली और
ख़ुशी से मनती होली !
वो रोती छुप कर अन्धियारे और लगाती खुद
की बोली !
उसके  भी मन-मंदिर में क्या बसते भगवान है ?

रख दिये तन-मन गिरवी रूह तलक को बेचा है
किस मिट्टी से मालिक तुने नारी बना कर
भेजा है
जग के तारणहार बताओ अब क्या वो  भी इनसान नही??

बदल गयी ये दुनिया सारी बदली
है सब तदबीरें !
पर ये अन्धा दर्द सह सह , किस्मत की
मिटी लकीरें !
न तो कोई ज़मीर उनका न ही कोई सम्मान
है !

पिया मिलन की आस कहा अब प्यार हुआ
बेमानी
उसने अब तक देखा जग मे सब रिश्ते जिस्मानी
वो तो बस जालिम दुनिया के भोग का सामान है !

कब नजरो मे बसा कोई कब शीशा देख शर्माई
पेट की आग भुजाने खातिर शर्म बेच कर खाई
हवसी जिसमे घूमें गायें तन तो बना लिया बाग  है !

हर रिश्ते को देखा नंगा हर बिस्तर मे डूब के रोई
ना मालिक ने सुध ली उसकी ना
धरती पर उसका कोई
तन की आग जलता पल पल उसका  शमशान है

वो तो ‘अभी’ इनसे भी घर्णित् देश बेचने पर उतरे है
सता मद मे डूबे जो पापी इनसे भी गये
गुजरे है

जिस दिन  मिटे  ऐसे नरकी  उस दिन का अरमान है

वो वेश्या है यही
उसकी  पहचान है !!

पता नही पर  क्या कहू …
अवाक हू ये क्या लिख डाला मैने

अभिशेक शुक्ला
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 20 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #1 on: April 18, 2015, 09:29:24 AM »
Reply with quote
waah waah
Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 256
Offline Offline

Waqt Bitaya:
92 days, 4 hours and 41 minutes.
Posts: 19016
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #2 on: April 18, 2015, 04:52:54 PM »
Reply with quote
Bahut achhaa ehsaas hai aapkaa, dheron daad.
 icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
 Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
jeet jainam
Khaas Shayar
**

Rau: 237
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
60 days, 8 hours and 57 minutes.

my rule no type no life and ,i m happy single

Posts: 10150
Member Since: Dec 2012


View Profile WWW
«Reply #3 on: April 18, 2015, 11:41:35 PM »
Reply with quote
bohat khubbbbb
Logged
Rajigujral
Khususi Shayar
*****

Rau: 17
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
4 days, 59 minutes.
Posts: 1703
Member Since: Apr 2014


View Profile
«Reply #4 on: April 19, 2015, 01:47:07 AM »
Reply with quote
Bahut  acche, but too long
Logged
~Hriday~
Poetic Patrol
Mashhur Shayar
***

Rau: 113
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
101 days, 1 hours and 55 minutes.

kalam k chalne ko zamaana paagalpan samajhta hai.

Posts: 16232
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #5 on: April 22, 2015, 02:36:56 PM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
February 23, 2019, 09:43:43 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[February 23, 2019, 05:54:55 PM]

[February 23, 2019, 02:09:57 PM]

[February 23, 2019, 01:15:57 PM]

[February 23, 2019, 01:10:16 PM]

[February 23, 2019, 01:07:52 PM]

[February 23, 2019, 01:06:55 PM]

[February 23, 2019, 01:05:00 PM]

[February 23, 2019, 01:04:28 PM]

[February 23, 2019, 01:03:45 PM]

[February 23, 2019, 01:02:08 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.171 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48360 Real Poets and poetry admirer