आइना मन का.........bansi

by BANSI DHAMEJA on January 07, 2019, 09:06:37 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 64 times)
BANSI DHAMEJA
Yoindian Shayar
******

Rau: 16
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
17 days, 13 minutes.
Posts: 3589
Member Since: May 2012


View Profile
Reply with quote
आइना मन का
 
आइना मन का मुझसे
बचपन की मासूमियत मांगे

खोता गया मासूमियत
ज़िन्दगी के तजरबों में

ढालता गया खुद को
बदलते जीवन के उसूलों में

चाह आगे बड़ने की बड़ाली इतनी
गुम होता गया अपने ही इरादों में

देख सच की राह मुश्किल
पकड़ता रहा झूठी राहों को

बुन कर जाल आपना खुद ही
फसाता गया मकडी जैसे खुद को
 
सुलझाने चाही  ज़िन्दगी जब मैंने
उलझता गया उल्ल्झनो में खुद को

दूर करता चला गया खुद को
बचपन की मासूमियत से

 
कैसे लौटाए ‘बंसी’ मासूमियत वो
जो मासूमियत आइना मन का मांगे

आइना मन का मुझसे
बचपन की मासूमियत मांगे
                          बंसी

  
 
[16/size]
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
उस दिल में खुदा बसे--------bansi by BANSI DHAMEJA in Share:Miscellaneous Shayari « 1 2  All »
मर कर भी भुलाना आसन नहीं होता...bansi by BANSI DHAMEJA in Miscellaneous Shayri
‘bansi’jeeyen to aise jiyeen, ta ki, beete lamhe pe afsos na ho ..bansi by BANSI DHAMEJA in Miscellaneous Shayri
चुप रहने से बहुत सी मुश्किलें दूर होती हैं....bansi by BANSI DHAMEJA in Miscellaneous Shayri « 1 2  All »
मुझे सिर्फ एक साचा दोस्त , हम्स्सफ़र , और दिलदार चाहिए....bansi by BANSI DHAMEJA in Miscellaneous Shayri
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 252
Offline Offline

Waqt Bitaya:
90 days, 1 hours and 48 minutes.
Posts: 18305
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: January 07, 2019, 03:18:07 PM »
Reply with quote
bahut khoob waah waah
आइना मन का
 
आइना मन का मुझसे
बचपन की मासूमियत मांगे

खोता गया मासूमियत
ज़िन्दगी के तजरबों में

ढालता गया खुद को
बदलते जीवन के उसूलों में

चाह आगे बड़ने की बड़ाली इतनी
गुम होता गया अपने ही इरादों में

देख सच की राह मुश्किल
पकड़ता रहा झूठी राहों को    bhataktaa

बुन कर जाल आपना खुद ही
फसाता गया मकडी जैसे खुद को
 
सुलझाने चाही  ज़िन्दगी जब मैंने
उलझता गया उल्ल्झनो में खुद को

दूर करता चला गया खुद को
बचपन की मासूमियत से

 
कैसे लौटाए ‘बंसी’ मासूमियत वो
जो मासूमियत आइना मन का मांगे

आइना मन का मुझसे
बचपन की मासूमियत मांगे
                          बंसी

 
 
[16/size]
waah waah bahut khoob.
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
January 16, 2019, 09:17:27 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[January 15, 2019, 05:05:27 PM]

[January 15, 2019, 02:39:38 PM]

[January 15, 2019, 02:35:59 PM]

[January 15, 2019, 02:35:15 PM]

[January 15, 2019, 02:34:37 PM]

[January 15, 2019, 02:34:00 PM]

[January 15, 2019, 02:33:21 PM]

[January 15, 2019, 02:31:58 PM]

[January 15, 2019, 02:30:30 PM]

[January 15, 2019, 02:23:15 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.169 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48342 Real Poets and poetry admirer