यक्ष प्रश्न

by jht on April 23, 2015, 06:41:35 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 372 times)
jht
Newbie


Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
48 minutes.
Posts: 1
Member Since: Apr 2015


View Profile
Reply with quote
मैं भेङिया हूँ
वहशी, आदमखोर
नोचना, खसोटना अच्छा लगता है मुझे
जिस्म को रौंद डालना
रूह तक को छलनी कर देना
सब अच्छा लगता है मुझे
फर्क नहीं पङता कि वह मुझे जन्म दी
मेरी कलाई पर राखी बाँधी
या मेरे ही खून से उपजी मेरी बेटी है
मुझे तो उसमें केवल ‘देह’ दीखता है
केवल ‘माँसल देह’
माँस देखकर मेरे रगों में उबाल आता है
मुँह से लार टपकने लगता है
और फिर.. वह मेरे कातिल पंजे में होती है

अगले ही पल -
किसी चौराहे पर
जख्मी जिस्म और उखङती साँसें ,
खून के थक्कों पर भिनभिनाती मक्खियाँ
और
किसी पेङ पर टंगी
जिन्दगी को तरसती रूह को छोङकर
मेरी गिद्ध नजरें निकल पङती हैं
किसी और निर्भया की तलाश में –

पर मुझे शर्म नहीं आती
ना कोई आत्म-ग्लानि होती
ना ही मेरे हृदय में कोई स्पंदन होता
क्योंकि मैं भेङिया हूँ

लेकिन तुम -
खुद को मर्द कहते हो न .. ?
तो कैसे मर्द .. ?
और कैसी तुम्हारी मर्दानगी .. ?

(यह कविता नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति, गुवाहाटी द्वारा पुरस्कृत की गई है ।)
Logged
khujli
Guest
«Reply #1 on: April 23, 2015, 07:36:11 AM »
Reply with quote
मैं भेङिया हूँ
वहशी, आदमखोर
नोचना, खसोटना अच्छा लगता है मुझे
जिस्म को रौंद डालना
रूह तक को छलनी कर देना
सब अच्छा लगता है मुझे
फर्क नहीं पङता कि वह मुझे जन्म दी
मेरी कलाई पर राखी बाँधी
या मेरे ही खून से उपजी मेरी बेटी है
मुझे तो उसमें केवल ‘देह’ दीखता है
केवल ‘माँसल देह’
माँस देखकर मेरे रगों में उबाल आता है
मुँह से लार टपकने लगता है
और फिर.. वह मेरे कातिल पंजे में होती है

अगले ही पल -
किसी चौराहे पर
जख्मी जिस्म और उखङती साँसें ,
खून के थक्कों पर भिनभिनाती मक्खियाँ
और
किसी पेङ पर टंगी
जिन्दगी को तरसती रूह को छोङकर
मेरी गिद्ध नजरें निकल पङती हैं
किसी और निर्भया की तलाश में –

पर मुझे शर्म नहीं आती
ना कोई आत्म-ग्लानि होती
ना ही मेरे हृदय में कोई स्पंदन होता
क्योंकि मैं भेङिया हूँ

लेकिन तुम -
खुद को मर्द कहते हो न .. ?
तो कैसे मर्द .. ?
और कैसी तुम्हारी मर्दानगी .. ?

(यह कविता नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति, गुवाहाटी द्वारा पुरस्कृत की गई है ।)




 Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
Logged
surindarn
Sarparast ae Shayari
****

Rau: 262
Offline Offline

Waqt Bitaya:
104 days, 16 hours and 56 minutes.
Posts: 22618
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #2 on: April 23, 2015, 08:40:11 PM »
Reply with quote
Waah bahut sundar, thank you for sharing. Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
jeet jainam
Khaas Shayar
**

Rau: 237
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
60 days, 12 hours and 13 minutes.

my rule no type no life and ,i m happy single

Posts: 10150
Member Since: Dec 2012


View Profile WWW
«Reply #3 on: April 25, 2015, 03:19:57 AM »
Reply with quote
bohat ache thanks for sharing
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 06, 2020, 07:45:49 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 06, 2020, 06:45:06 PM]

[June 06, 2020, 06:14:56 PM]

[June 06, 2020, 02:42:32 PM]

[June 06, 2020, 02:39:58 PM]

[June 06, 2020, 02:38:48 PM]

[June 06, 2020, 02:36:54 PM]

[June 06, 2020, 02:35:05 PM]

[June 06, 2020, 02:33:35 PM]

[June 06, 2020, 02:32:30 PM]

[June 06, 2020, 02:31:18 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.192 seconds with 23 queries.
[x] Join now community of 12693 Real Poets and poetry admirer