राम लला का मंदिर --आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on December 06, 2018, 01:01:57 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 56 times)
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 56
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 23 hours and 0 minutes.

Posts: 3788
Member Since: Oct 2010


View Profile
Reply with quote
मन ही मन सब मांग रहे है
राम लला के मंदिर को
कोई भी पहल न कर रहा है
अयोध्या में इस मंदिर को

मोदी जी भी मौन हुए है
जो मन की बात करते है
वोटो के चक्कर में नेता
कुछ मजहबियो से डरते है

कब तक राम लला रहेगे
बांसों के बने इस तम्बू में
अपने घर में बनवास मिला है
कुटिया बनाई इस तम्बू में

आर के रस्तोगी
Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 251
Online Online

Waqt Bitaya:
88 days, 17 hours and 37 minutes.
Posts: 17860
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: December 06, 2018, 12:52:43 PM »
Reply with quote
मन ही मन सब मांग रहे है
राम लला के मंदिर को
कोई भी पहल न कर रहा है
अयोध्या में इस मंदिर को

मोदी जी भी मौन हुए है
जो मन की बात करते है
वोटो के चक्कर में नेता
कुछ मजहबियो से डरते है

कब तक राम लला रहेगे
बांसों के बने इस तम्बू में
अपने घर में बनवास मिला है
कुटिया बनाई इस तम्बू में

आर के रस्तोगी

 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Rastogi Jee aap shayar hain aapne achhaa likhaa hai usske liye bahut daad. Lekin aap taarikh badal nahin sakte. Delhi mein aap qutb minaar pe jaaiye Aap dekhein ge ke usske paas ek aur minaar ke khandar hain. Inh mein har pathar mein kisee mandir ke devi devtaa kaa aqs mile gaa. Qutb minaar kaa bhi har pathar kisee mandir kaa hee pathar hai. Iss kaa matlab yeh nahin ke aap isse giraa kar wahan mandir banaa dein ge. Aap zaraa sochiye.
Logged
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 56
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 23 hours and 0 minutes.

Posts: 3788
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #2 on: December 08, 2018, 05:19:00 AM »
Reply with quote
श्री सुरिन्द्रण जी ,साहित्य तो समाज का दर्पण होता है | कवि ,शायर या कोई लेखक वही लिखता है जो वह समाज में देखता है |मैंने भी वही लिखा जो समाज में देखा या सुना | मैंने तो उनकी भावनाओ को इस छोटी सी कविता के माध्यम से व्यक्त करने की कोशिश की है |मैंने यह नहीं देखा कि क़ुतुब मीनार किस प्रकार के पत्थरों से बनी है या उस पर किन देवी देवताओ की मूर्ति के चिन्ह है | यह काम तो पुरातत्व इतिहासकारों का है |

मै आपसे एक शुभ और ख़ुशी का समाचार आपसे शेयर करना चाहता हूँ चूकी आप मेरे Wellwisher और शुभचिंतक है| अभी पिछले माह नवम्बर में साहित्य पीडिया संस्था ने अखिल भारतीय स्तर पर एक काव्य प्रतियोगिता कराई थी जिसका शीर्षक "माँ" था | मैंने भी इसमें भाग लिया था और पाठको व कवियों द्वारा वोटिंग हुई थी | मैने पुरुष वर्ग कवियों में प्रथम स्थान प्राप्त किया और समस्त प्रतियोगिता में दसवां स्थान प्रप्त हुआ और इस संस्था द्वरा मुझे सम्मान भी दिया गया |इस प्रतियोगिता में ५०० से ज्यादा कवियों ने भाग लिया था और यह प्रतियोगिता पूरे एक माह चली थी |अगर चाहे तो आप इस कविता को आपको व्हाट्स अप्प कर सकता हूँ.पर मेरे पास आपका व्हाट्स अप्प नंबर नहीं है |

Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 251
Online Online

Waqt Bitaya:
88 days, 17 hours and 37 minutes.
Posts: 17860
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #3 on: December 08, 2018, 12:33:52 PM »
Reply with quote
श्री सुरिन्द्रण जी ,साहित्य तो समाज का दर्पण होता है | कवि ,शायर या कोई लेखक वही लिखता है जो वह समाज में देखता है |मैंने भी वही लिखा जो समाज में देखा या सुना | मैंने तो उनकी भावनाओ को इस छोटी सी कविता के माध्यम से व्यक्त करने की कोशिश की है |मैंने यह नहीं देखा कि क़ुतुब मीनार किस प्रकार के पत्थरों से बनी है या उस पर किन देवी देवताओ की मूर्ति के चिन्ह है | यह काम तो पुरातत्व इतिहासकारों का है |

मै आपसे एक शुभ और ख़ुशी का समाचार आपसे शेयर करना चाहता हूँ चूकी आप मेरे Wellwisher और शुभचिंतक है| अभी पिछले माह नवम्बर में साहित्य पीडिया संस्था ने अखिल भारतीय स्तर पर एक काव्य प्रतियोगिता कराई थी जिसका शीर्षक "माँ" था | मैंने भी इसमें भाग लिया था और पाठको व कवियों द्वारा वोटिंग हुई थी | मैने पुरुष वर्ग कवियों में प्रथम स्थान प्राप्त किया और समस्त प्रतियोगिता में दसवां स्थान प्रप्त हुआ और इस संस्था द्वरा मुझे सम्मान भी दिया गया |इस प्रतियोगिता में ५०० से ज्यादा कवियों ने भाग लिया था और यह प्रतियोगिता पूरे एक माह चली थी |अगर चाहे तो आप इस कविता को आपको व्हाट्स अप्प कर सकता हूँ.पर मेरे पास आपका व्हाट्स अप्प नंबर नहीं है |


Aapko haardik mubarak.
Logged
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 56
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 23 hours and 0 minutes.

Posts: 3788
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #4 on: December 09, 2018, 11:38:11 AM »
Reply with quote
Shri surindran ji Thank you very much .
Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 251
Online Online

Waqt Bitaya:
88 days, 17 hours and 37 minutes.
Posts: 17860
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #5 on: December 09, 2018, 01:14:44 PM »
Reply with quote
Shri surindran ji Thank you very much .
You are welcome
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
December 18, 2018, 07:01:17 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[December 18, 2018, 01:27:06 PM]

[December 18, 2018, 01:12:48 PM]

[December 18, 2018, 01:11:16 PM]

[December 18, 2018, 01:10:18 PM]

[December 18, 2018, 01:08:38 PM]

[December 18, 2018, 01:07:59 PM]

[December 18, 2018, 01:07:10 PM]

[December 18, 2018, 01:06:04 PM]

[December 18, 2018, 01:04:17 PM]

[December 18, 2018, 01:02:33 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.163 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48317 Real Poets and poetry admirer