सहमा सहमा पाक (त्रिपदी) काव्य की एक नई विधा -आर के रस्तोगी के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on August 10, 2019, 08:32:24 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 24 times)
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 61
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
27 days, 15 hours and 25 minutes.

Posts: 4081
Member Since: Oct 2010


View Profile
देखकर 370 की छाप,
पाक को हुआ है संताप,
सहमा सहमा हुआ है अपने आप |१|

समझौता एक्सप्रेस करके बंद,
व्यापार को भी करके बंद,
नुक्सान कर रहा है अपने आप |२|

देकर गीदड़ की भपकी,
जंग करने की धमकी,
पाक डर रहा है अपने आप |३|

घर में नहीं है दाने,
अम्मा चली है भुनाने,
पाक भुन रहा है अपने आप |४|

बुलाये सारे राजनयिक,
लगाये सारे अपने सैनिक,
फिर भी डर रहा अपने आप |५|

महबूबा डर रही अपने आप,
उमर भी डर रहा अपने आप,
पता नहीं क्यों डरते अपने आप |6|

भाव आ रहे अपने आप,
कलम चल रही अपने आप,
लिख रहा हूँ अपने आप |७|

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)
 
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 19, 2019, 12:18:14 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 19, 2019, 10:15:03 AM]

[August 19, 2019, 10:12:00 AM]

[August 19, 2019, 06:33:37 AM]

[August 19, 2019, 01:28:03 AM]

[August 19, 2019, 12:05:42 AM]

[August 18, 2019, 11:58:22 PM]

[August 18, 2019, 11:56:02 PM]

[August 18, 2019, 11:55:13 PM]

[August 18, 2019, 11:54:30 PM]

[August 18, 2019, 11:53:40 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.144 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer