मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ||

by ManishTiwari on November 09, 2013, 07:00:30 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 361 times)
ManishTiwari
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
9 hours and 35 minutes.
Posts: 131
Member Since: Apr 2013


View Profile
Reply with quote
मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है
ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है
हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी
हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है
सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को हर
जगह दुस्साशन सिपहसालार नज़र आते है
सत्ता से समझौता करके बिक गयी है लेखनी
ख़बरों को सिर्फ अब बाज़ार नज़र आते है
सच का साथ देना भी बन गया है जुर्म अब
सच्चे ही आज गुनाहगार नज़र आते है
मुल्क की हिफाज़त सौंपी है जिनके हाथों मे
वे ही हुकुमशाह आज गद्दार नज़र आते है
खंड खंड मे खंडित भारत रो रहा है ज़ोरों से
हर जाति , हर धर्म के, ठेकेदार नज़र आते है
Logged
Mohammad Touhid
Umda Shayar
*

Rau: 34
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 10 hours and 45 minutes.

'I' 'Luv' d Way 'U' 'Forget' Me..!.!

Posts: 7158
Member Since: Aug 2009


View Profile
«Reply #1 on: November 09, 2013, 07:24:26 PM »
Reply with quote
मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है

ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है

हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी
हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है

सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को हर
जगह दुस्साशन सिपहसालार नज़र आते है

सत्ता से समझौता करके बिक गयी है लेखनी
ख़बरों को सिर्फ अब बाज़ार नज़र आते है

सच का साथ देना भी बन गया है जुर्म अब
सच्चे ही आज गुनाहगार नज़र आते है

मुल्क की हिफाज़त सौंपी है जिनके हाथों मे
वे ही हुकुमशाह आज गद्दार नज़र आते है

खंड खंड मे खंडित भारत रो रहा है ज़ोरों से
हर जाति , हर धर्म के, ठेकेदार नज़र आते है

waah waah bahut khoob.. Usual Smile Applause Applause Applause Applause
Logged
qalb
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
41 days, 21 hours and 16 minutes.
Posts: 7189
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #2 on: November 09, 2013, 07:27:36 PM »
Reply with quote
मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है
ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है
हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी
हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है
सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को हर
जगह दुस्साशन सिपहसालार नज़र आते है
सत्ता से समझौता करके बिक गयी है लेखनी
ख़बरों को सिर्फ अब बाज़ार नज़र आते है
सच का साथ देना भी बन गया है जुर्म अब
सच्चे ही आज गुनाहगार नज़र आते है
मुल्क की हिफाज़त सौंपी है जिनके हाथों मे
वे ही हुकुमशाह आज गद्दार नज़र आते है
खंड खंड मे खंडित भारत रो रहा है ज़ोरों से
हर जाति , हर धर्म के, ठेकेदार नज़र आते है


 Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 4 hours and 19 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #3 on: November 09, 2013, 07:28:01 PM »
Reply with quote
 Applause  Applause Applause
Logged
amit_prakash_meet
Umda Shayar
*

Rau: 33
Offline Offline

Waqt Bitaya:
15 days, 15 hours and 30 minutes.
Posts: 5686
Member Since: Dec 2011


View Profile
«Reply #4 on: November 09, 2013, 07:36:07 PM »
Reply with quote
बहुत बहुत बहुत खूब....आपकी सोच पर.....ढेरों दाद.....
Logged
marhoom bahayaat
Yoindian Shayar
******

Rau: 100
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
19 days, 9 hours and 9 minutes.
be humble

Posts: 4149
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #5 on: November 09, 2013, 09:47:10 PM »
Reply with quote
मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है
ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है
हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी
हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है
सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को हर
जगह दुस्साशन सिपहसालार नज़र आते है
सत्ता से समझौता करके बिक गयी है लेखनी
ख़बरों को सिर्फ अब बाज़ार नज़र आते है
सच का साथ देना भी बन गया है जुर्म अब
सच्चे ही आज गुनाहगार नज़र आते है
मुल्क की हिफाज़त सौंपी है जिनके हाथों मे
वे ही हुकुमशाह आज गद्दार नज़र आते है
खंड खंड मे खंडित भारत रो रहा है ज़ोरों से
हर जाति , हर धर्म के, ठेकेदार नज़र आते है


nice,sir
Logged
suman59
Umda Shayar
*

Rau: 102
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
20 days, 7 hours and 56 minutes.
Your Breath Touched My Soul

Posts: 6539
Member Since: Jun 2012


View Profile
«Reply #6 on: November 09, 2013, 10:02:13 PM »
Reply with quote
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
zarraa
Yoindian Shayar
******

Rau: 95
Offline Offline

Waqt Bitaya:
8 days, 54 minutes.
Posts: 2109
Member Since: May 2012


View Profile
«Reply #7 on: November 09, 2013, 11:38:56 PM »
Reply with quote
Ahl E watan ki aawaaz uthaataa huwa ek asardaar qalaam ... dheron daad aap ko Manish ji ...  Applause Applause Applause
Logged
ManishTiwari
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
9 hours and 35 minutes.
Posts: 131
Member Since: Apr 2013


View Profile
«Reply #8 on: November 13, 2013, 06:56:35 PM »
Reply with quote
Thanks!
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
December 08, 2019, 06:28:48 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[December 08, 2019, 10:21:07 AM]

[December 08, 2019, 03:16:00 AM]

[December 08, 2019, 01:04:50 AM]

[December 08, 2019, 12:57:31 AM]

[December 08, 2019, 12:56:27 AM]

[December 08, 2019, 12:54:14 AM]

[December 08, 2019, 12:53:34 AM]

[December 08, 2019, 12:52:28 AM]

[December 08, 2019, 12:50:53 AM]

[December 08, 2019, 12:42:14 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.204 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48419 Real Poets and poetry admirer