आराम करो, आराम करो.....originally written by G P VYAS with partial modification by ANAND MOHAN

by anand mohan on November 10, 2013, 06:11:56 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 311 times)
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
Reply with quote
एक मित्र मिले, बोले, "लाला, तुम किस चक्की का खाते हो?
इस डेढ़ छँटाक के राशन में भी तोंद बढ़ाए जाते हो।
क्या रक्खा है माँस बढ़ाने में, मनहूस, अक्ल से काम करो।
संक्रान्ति-काल की बेला है, मर मिटो, जगत में नाम करो।"
हम बोले, "रहने दो लेक्चर, Indians को मत बदनाम करो।
इस दौड़-धूप में क्या रक्खा, आराम करो, आराम करो।

आराम ज़िन्दगी की कुंजी, इससे न तपेदिक होती है।
आराम सुधा की एक बूंद, तन का दुबलापन खोती है।
आराम शब्द में 'राम' छिपा जो भव-बंधन को खोता है।
आराम शब्द का ज्ञाता तो विरला ही योगी होता है।
इसलिए तुम्हें समझाता हूँ, मेरे अनुभव से काम करो।
ये जीवन, यौवन क्षणभंगुर, आराम करो, आराम करो।

यदि करना ही कुछ पड़ जाए तो अधिक न तुम उत्पात करो।
अपने घर में बैठे-बैठे बस लंबी-लंबी बात करो।
करने-धरने में क्या रक्खा जो रक्खा बात बनाने में।
जो ओठ हिलाने में रस है, वह कभी न हाथ हिलाने में।
तुम मुझसे पूछो बतलाऊँ -- है मज़ा मूर्ख कहलाने में।
जीवन-जागृति में क्या रक्खा जो रक्खा है सो जाने में।

मैं यही सोचकर पास अक्ल के, कम ही जाया करता हूँ।
जो बुद्धिमान जन होते हैं, उनसे कतराया करता हूँ।
दीए जलने के पहले ही घर में आ जाया करता हूँ।
जो मिलता है, खा लेता हूँ, चुपके सो जाया करता हूँ।
मेरी गीता में लिखा हुआ -- सच्चे योगी जो होते हैं,
वे कम-से-कम बारह घंटे तो बेफ़िक्री से सोते हैं।

Please go through further lines:

मेरे ही इस फॉर्मूले पर इस देश का सिस्टम चलता है,
अनशन करने वालों से, थोड़े ही देश बदलता है .
कोई लाख कंकरी मारे तो, अज़गर थोड़े ही हिलता है?
अपनी सुविधा और मर्ज़ी से वह अपना ग्रास निगलता है .
झूठ-मुठ तुम गवर्नमेंट को, बस यूँ ही ना बदनाम करो ,
उनको बस उनकी करने दो , तुम अपने में आराम करो .


The above poetry is originally written by GOPAL PRASAD VYAS and I have attempted to write only the last stanza of the poetry to suffice my own views towards contemporary scenario.
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 2 hours and 32 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #1 on: November 10, 2013, 02:43:56 PM »
Reply with quote
bahut khoob
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 113
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 5 hours and 53 minutes.
Posts: 13632
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #2 on: November 10, 2013, 03:39:52 PM »
Reply with quote
very nice
Logged
~Chiragh~
Khaas Shayar
**

Rau: 259
Offline Offline

Waqt Bitaya:
87 days, 14 hours and 59 minutes.
Sabkaa maalik ek !

Posts: 9764
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #3 on: November 10, 2013, 08:44:09 PM »
Reply with quote
Bahut badhiya
Applause Applause
Logged
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
«Reply #4 on: November 11, 2013, 05:07:46 PM »
Reply with quote
bahut khoob
thank you sir
Logged
Zaif
Maqbool Shayar
****

Rau: 23
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 59 minutes.

Posts: 601
Member Since: Feb 2013


View Profile WWW
«Reply #5 on: November 11, 2013, 06:28:43 PM »
Reply with quote
Vry vry nice !!
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 20, 2019, 01:59:59 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 20, 2019, 12:28:49 AM]

[August 20, 2019, 12:24:44 AM]

[August 20, 2019, 12:23:51 AM]

[August 20, 2019, 12:22:30 AM]

[August 20, 2019, 12:21:39 AM]

[August 20, 2019, 12:20:50 AM]

[August 20, 2019, 12:20:14 AM]

[August 20, 2019, 12:19:18 AM]

[August 20, 2019, 12:18:21 AM]

[August 20, 2019, 12:17:21 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.176 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer