तीन लफ़्ज़ में तलाक़ तीन लफ़्ज़ में निक़ाह

by kavyadharateam on April 18, 2017, 10:10:24 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 657 times)
kavyadharateam
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 15
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
21 hours and 6 minutes.

Deepak Sharmaa

Posts: 196
Member Since: Sep 2008


View Profile WWW
Reply with quote
तीन लफ़्ज़ में तलाक़ तीन लफ़्ज़ में निक़ाह
एक  में  क़ाज़ी  गवाह  एक में ख़ुदा गवाह।

हवस को अपनी मर्द ने मज़हबी  दे  वास्ता  
ओढ़ा बिछाया ज़िस्म बस औरतें करीं तबाह।  

लूटा खसोटा ऐश की और जब जी भर गया
नई सेज तलाश ली कर लिया नया निक़ाह।  



मेहर के नाम फेंक दीं  क़ीमतें ऐय्याशी की
पाक़ साफ़ हो गये लो साहिब के सारे गुनाह।


कभी इल्ज़ाम रख दिया दोष सिर लगा दिया
और तलाक़ दे दिया होता नहीं हमसे निबाह।


रस्मो रिवाज़ के नाम पर रसूल के पयाम पर
हो रहीं औरत हलाल रोतीं किस्मत पे कराह।  

क़ानून अगर बन गया मनमर्ज़ियाँ रुक जायेंगी
इसलिये मुल्ला मौलवी रो रहे  चिल्ला  चिल्ला।  


सबके लिए एक नज़र हिन्दू की मुसलमान की
क़ानून की सब बेटियाँ सब पर एक सी निगाह।


दर के पीछे अब कोई भी बेदर नहीं हो पायेगी
"दीपक " नहीं बुझ पाएगी कोई रौशनी बेवज़ह।

#दीपक शर्मा  


Logged
surindarn
Mashhur Shayar
***

Rau: 244
Offline Offline

Waqt Bitaya:
82 days, 5 hours and 50 minutes.
Posts: 15588
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: April 18, 2017, 06:41:33 PM »
Reply with quote
kyaa baat hai bahut suder ehsaas hai. dheron daad.
 Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
111 days, 22 hours and 28 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #2 on: April 18, 2017, 09:46:35 PM »
Reply with quote
 icon_flower icon_flower
Logged
RAJAN KONDAL
Umda Shayar
*

Rau: 10
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
24 days, 1 hours and 11 minutes.

main shaiyar ta nahi magar shaiyri meri zindgi hai

Posts: 5103
Member Since: Jan 2013


View Profile WWW
«Reply #3 on: April 22, 2017, 02:10:27 PM »
Reply with quote
bahoot khoob
Logged
Pooja
WeCare
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 3
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
65 days, 5 hours and 23 minutes.
Posts: 44544
Member Since: Jul 2004


View Profile
«Reply #4 on: August 31, 2017, 03:13:40 PM »
Reply with quote
तीन लफ़्ज़ में तलाक़ तीन लफ़्ज़ में निक़ाह
एक  में  क़ाज़ी  गवाह  एक में ख़ुदा गवाह।

हवस को अपनी मर्द ने मज़हबी  दे  वास्ता 
ओढ़ा बिछाया ज़िस्म बस औरतें करीं तबाह।   

लूटा खसोटा ऐश की और जब जी भर गया
नई सेज तलाश ली कर लिया नया निक़ाह। 



मेहर के नाम फेंक दीं  क़ीमतें ऐय्याशी की
पाक़ साफ़ हो गये लो साहिब के सारे गुनाह।


कभी इल्ज़ाम रख दिया दोष सिर लगा दिया
और तलाक़ दे दिया होता नहीं हमसे निबाह।


रस्मो रिवाज़ के नाम पर रसूल के पयाम पर
हो रहीं औरत हलाल रोतीं किस्मत पे कराह। 

क़ानून अगर बन गया मनमर्ज़ियाँ रुक जायेंगी
इसलिये मुल्ला मौलवी रो रहे  चिल्ला  चिल्ला। 


सबके लिए एक नज़र हिन्दू की मुसलमान की
क़ानून की सब बेटियाँ सब पर एक सी निगाह।


दर के पीछे अब कोई भी बेदर नहीं हो पायेगी
"दीपक " नहीं बुझ पाएगी कोई रौशनी बेवज़ह।

#दीपक शर्मा 




wah dil khush ho gaya is kavita ko par kar.. bahoot khoob!!!
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 19, 2018, 05:47:53 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 19, 2018, 02:29:54 AM]

[June 19, 2018, 01:48:38 AM]

[June 19, 2018, 01:35:05 AM]

[June 18, 2018, 11:02:24 PM]

[June 18, 2018, 10:18:33 PM]

[June 18, 2018, 07:20:10 PM]

[June 18, 2018, 07:15:06 PM]

[June 18, 2018, 07:14:26 PM]

[June 18, 2018, 07:13:41 PM]

[June 18, 2018, 07:12:34 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.185 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 55716 Real Poets and poetry admirer