शिव को अनेको नाम से क्यों पुकारा जाता है ?

by Ram Krishan Rastogi on July 24, 2019, 09:21:51 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 381 times)
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 69
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
30 days, 18 hours and 41 minutes.

Posts: 4960
Member Since: Oct 2010


View Profile
देवो के देव हो तुम,इसलिए सारे जग में महादेव कहलाते |
बिष पीने से पड़ा कंठ नीला,इसलिए वे नीलकंठ कहलाते ||

दी सोने की लंका रावण को,इसलिए भोले बाबा कहलाते |
करते हो सब का कल्याण,इसलिए शिव भी तुम कहलाते ||

धरी है जटा शीश पर,इसलिए जटाधारी भी तुम कहलाते |
धारण किया है गंगा मैया को,इसलिए गंगाधर कहलाते ||

नागो के है आप ईश्वर,इसलिए नागेश्वर भी तुम कहलाते |
काम को किया था वश आपने,इसलिये कामेश्वर कहलाते ||

की थी पूजा राम ने भी ,इसलिए रामेश्वर तुम कहलाते |
पार्वती के पति है आप,इसलिए पार्वती पति भी कहलाते ||

सभी ईशो के है ईश आप,इसलिए महेश भी तुम कहलाते |
किया था स्रष्टि का संहार,इसलिए आप शंकर भी कहलाते ||

रखते हो त्रिशूल हाथ में,इसलिए आप त्रिशूलधारी कहलाते |
रखते हो डमरू हाथ में,इसलिए आप डमरूधारी कहलाते ||

वैसे तो इनके 108 नाम,पर सबको यहाँ नहीं लिख पाते |
हो जाते पढ़ते पढ़ते बोर,इस कविता को पूरी पढ़ न पाते ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम मो 9971006425



Logged
surindarn
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 273
Offline Offline

Waqt Bitaya:
134 days, 2 hours and 27 minutes.
Posts: 31520
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: July 24, 2019, 05:22:15 PM »
देवो के देव हो तुम,इसलिए सारे जग में महादेव कहलाते |
बिष पीने से पड़ा कंठ नीला,इसलिए वे नीलकंठ कहलाते ||

दी सोने की लंका रावण को,इसलिए भोले बाबा कहलाते |
करते हो सब का कल्याण,इसलिए शिव भी तुम कहलाते ||

धरी है जटा शीश पर,इसलिए जटाधारी भी तुम कहलाते |
धारण किया है गंगा मैया को,इसलिए गंगाधर कहलाते ||

नागो के है आप ईश्वर,इसलिए नागेश्वर भी तुम कहलाते |
काम को किया था वश आपने,इसलिये कामेश्वर कहलाते ||

की थी पूजा राम ने भी ,इसलिए रामेश्वर तुम कहलाते |
पार्वती के पति है आप,इसलिए पार्वती पति भी कहलाते ||

सभी ईशो के है ईश आप,इसलिए महेश भी तुम कहलाते |
किया था स्रष्टि का संहार,इसलिए आप शंकर भी कहलाते ||

रखते हो त्रिशूल हाथ में,इसलिए आप त्रिशूलधारी कहलाते |
रखते हो डमरू हाथ में,इसलिए आप डमरूधारी कहलाते ||

वैसे तो इनके 108 नाम,पर सबको यहाँ नहीं लिख पाते |
हो जाते पढ़ते पढ़ते बोर,इस कविता को पूरी पढ़ न पाते ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम मो 9971006425




waah kyaa baat hai, dheron daad.
 Thumbs UP Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 69
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
30 days, 18 hours and 41 minutes.

Posts: 4960
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #2 on: July 26, 2019, 03:33:58 PM »
waah kyaa baat hai, dheron daad.
 Thumbs UP Applause Applause Applause Applause Applause
श्री सुरिन्द्रण जी शुक्रिया
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 09, 2022, 08:41:56 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 09, 2022, 01:30:38 PM]

[August 09, 2022, 12:50:30 AM]

[August 08, 2022, 10:03:55 AM]

[August 08, 2022, 09:59:11 AM]

[August 06, 2022, 12:57:55 PM]

[August 06, 2022, 12:57:05 PM]

[August 05, 2022, 06:12:55 AM]

by ass
[August 04, 2022, 11:32:44 AM]

[August 04, 2022, 03:12:09 AM]

[August 04, 2022, 03:09:55 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.133 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 8450 Real Poets and poetry admirer