Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
Jado bhi lage tusi ekale ho esh duniya di behd vich
Udo apne maa baap diya ankha vich dekh laio jwab mil jau

Posted by:RAJAN KONDAL
See More»
Birthdays this Month
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
December 04, 2022, 12:02:00 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[December 04, 2022, 10:40:56 AM]

[December 04, 2022, 08:58:47 AM]

[December 04, 2022, 08:57:21 AM]

[December 04, 2022, 08:56:01 AM]

[December 01, 2022, 06:31:24 AM]

[December 01, 2022, 06:28:26 AM]

[November 14, 2022, 11:06:23 AM]

[November 14, 2022, 07:10:42 AM]

[November 14, 2022, 06:18:12 AM]

[November 14, 2022, 01:41:44 AM]
Members
Total Members: 8454
Latest: BlackVuewdu
Stats
Total Posts: 1597387
Total Topics: 95395
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 07:13:10 PM)
Users Online
Users: 0
Guests: 161
Total: 161

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 8454 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!

नज़्म: अज़्म-ए-सफ़र

दिल सख़्त करके चलना, आहों को थाम चलना
कोई रिक़ाब* पर हो, तुम बे-लगाम चलना
जो रास्ता कठिन हो, तो ख़ुश-ख़िराम* चलना
जो रहगुज़र हो लम्बी, तो तेज़-गाम* चलना
कुछ लोग चल रहे हैं, शायद तुम्हारे पीछे
तुम उनके नाम चलना, तुम अपने नाम चलना
जब हम-सफ़र...
छोटे छोटे अरमान मेरे,छोटे-छोटे से ख्वाब हैं!
इन ख्वाबों में ही मेरी, छोटी सी दुनिया आबाद है!

दो नन्हे फूलों से, आंगन मेरा महकता है,
तुम्हें देखकर सनम मेरे,ये दिल मेरा धड़कता है!
अपने प्रेम के छांव में अब ये आशियाना सजाना है,
बस ये छोटा सा ख्वाब मेरा,दिल की भी आशना है,

दिल की इस आशना में ही...
छोटे छोटे अरमान मेरे,छोटे-छोटे से ख्वाब हैं!
इन ख्वाबों में ही मेरी, छोटी सी दुनिया आबाद है!

दो नन्हे फूलों से, आंगन मेरा महकता है,
तुम्हें देखकर सनम मेरे,ये दिल मेरा धड़कता है!
अपने प्रेम के छांव में अब ये आशियाना सजाना है,
बस ये छोटा सा ख्वाब मेरा,दिल की भी आशना है,

दिल की इस आशना में ही...
[तोड़ देना चाहे,पर कोई वादा तो कर
****************************
तोड़ देना चाहे,पर कोई वादा तो कर।
मेरा महबूब है,तो कोई इशारा तो कर।।

आ तो सही,भले ही आकर चले जाना।
रोकूं नही मै,प्यास बुझाकर चले जाना।।

इंतजार कर रही हूं,इतना इंतजार तो न करा।
तड़प रही हूं ,इस तड़पन को...
Mushkura Kar najre jhuka Lena har kisi ko ata nahi.....

Samne aakar bhi yoon khamosh gujar Jana Hume bhata nahi....

Unke zubaan se lafzon ka aana hota nahi.....

Thaam ke haath Sanam ka apne dil ki baat bayan karna Hume ata nahi......
दास्तां-गोई* में ढलना नहीं आता है मुझे
अपना किरदार बदलना नहीं आता है मुझे
*कथा-वाचन

शर्त मंज़िल की ग़लत राह पे चलना हो अगर
तो ये कहता हूं कि चलना नहीं आता है मुझे

मैं जो कहता हूं उसे करने पे मजबूर भी हूं
जाल फैलाके निकलना नहीं आता है मुझे

तुम ही ब...

तेरी आँखों से यूं बेघर हो जाऊंगा
बहा के देखले समुंदर हो जाऊंगा

नाम से कम ही जाना जाता हूँ मैं
मिलो तो सही असर हो जाऊंगा


मेरे बगैर जीने की ज़िद्द ना कर
सांस हूँ अंदर बाहर  हो जाऊंगा

ए मौत तू अपनी खैर मना ले
मुँह मत लग ज़हर हो जाऊंगा

मंज़िलें मुझे याद कर के रो...
 किसी से ईंट किसी से सिमेंट लाया है
ये घर कब उसका है जिसने इसे बनाया है

कहां-कहां से न जाने हैं मश्वरे आए
कहीं से हाथ बंटाने कोई न आया है

लुटा रहा हूं मोहब्बत के मैं ख़ज़ाने को
कि मेरे काम न आया है जो कमाया है

बस इस सबब से है हल्का तेरे फ़िराक़ का दुख...
Khoobsurat hona gunah to nahi
Par humse yoon parda karna Hume raas nahi ata...

Mushkura kar chalna gunah to nahi
Par humare samne ye mayoosh chahra Lana hame raas nahi ata....

Kuda ne di tumhe intni khudai wo gunah to nahi
Par humse yoon naraz hona Hume raas nahi...
कैसे अपने दिल में कोई बसाएगा मेरे ग़मों को
इतना छोटा मकान कैसे समायेगा मेरे ग़मों को


जाने क्यों उदस उदस से रहते हैं आजकल
कोई और ग़म मिले जो हंसाएगा मेरे ग़मों को


उजालों के आदी नहीं ये अंधेरों के बाशिंदे
कैसे सफेद पन्नों पर कोई उतारेगा मेरे ग़मों को


साखी आज इन्हें झूमने दे तेरे मैखाने मे...
Do Batein ab har rat likhungi,
Khushiyan aur gam dono sath likhungi
शाम ढलने को है महफ़िल तो सजा लो यारों
आज के दिन से ज़रा हँस के विदा लो यारों

न सही जश्न मगर जाम उठा लो यारों
आज के काम को अब कल पे न टालो यारों

दोस्तों की कोई मजबूरियाँ होंगीं शायद
दुश्मनों को ही कलेजे से लगा लो यारों

ये न हो हसरत-ए-तामीर* ही मिट जाए क...
Teri yadein teri har baat bhul jayenge
Khwabon mein bhi tujhse mulaqat bhul jayenge

Ek tujhe hi manga tha khuda se dua mein
Dua ke lie uthana ye hath bhul jayenge

Badaliyan bhi chhane se ghabrane lagi hain
Sawan ki wo pehli barsaat bhul jayenge

Pal pal ki maut ab ga...
Teri yadein teri har baat bhul jayenge
Khwabon mein bhi tujhse mulaqat bhul jayenge

Ek tujhe hi manga tha khuda se dua mein
Dua ke lie uthana ye hath bhul jayenge

Badaliyan bhi chhane se ghabrane lagi hain
Sawan ki wo pehli barsaat bhul jayenge

Pal pal...
Tujhe Jana Nahi tha
Mujhe aana nahi tha

Bas yahi ek raasta
Na tu tey kar paya ..
Na Mai...

Aur dekh kya ho gya...
Tu mere liye aa nahi paaya
Aur na Mai tujhse door ja paayi...

Ab kahi toh keh lo Ishq isse ya phir ana samjh lo
K na tu apne dil ki kar paaya...na Mai apne dil ki keh paay...
मोहबत का में अलापु भी तो कहा तक राग
मिलकर उनसे मनोज न दिल बचा न दिमाग
 
प्यार को अपने कुछ यु बचाओ न
कुछ हम कुछ तुम भी निभाओ न
 
Ghar se ghumne nikle the
Dil mein khuch armaan the
Ek taraf aashiyan duji taraf shamshan the
Ek haddi pairon tale aaayi
Uske ye byan the
Ae rahi Zara dekh k chalon
Hum bhi kabhi insaan the
Ghar se ghumne nikle the
Dil mein khuch armaan the
Ek taraf aashiyan duji taraf shamshan the
Ek haddi pairon tale aaayi
Uske ye byan the
Ae rahi Zara dekh k chalon
Hum bhi kabhi insaan the
इस शहर-ए-बेवफ़ा में वफ़ा ढूंढता हूं मैं
क्या खो गया हूं ख़ुद को ही क्या ढूंढता हूं मैं

गुलशन हूं और बाद-ए-सबा* ढूंढता हूं मैं
दस्त-ए-दुआ** हूं और दुआ ढूंढता हूं मैं
*सवेरे की हवा       ** दुआ के लिए उठाया हाथ

क़ायल हूं बंदगी का मगर मसअला ये है
बंदे यहां ख़ुद...
Ghar se ghumne nikle the
Dil mein khuch armaan the
Ek taraf aashiyan duji taraf shamshan the
Ek haddi pairon tale aaayi
Uske ye byan the
Ae rahi Zara dekh k chalon
Hum bhi kabhi insaan the
Aadmi Samjhoton Par Jab Jeeta Hai,.
To Wo Mara Hua Hota Hai, Uski Pehchaan Nahi Rehti.
Zindagi Samjhoton Ke Saath, Bas Guzari Jaa Saakti Hai,.
Jee Nahi Jaa Sakti,.
Aaj Main Samjhoton Ki Jung Haar Gaya,.

-Azeem Azaad,.
Muddaton baad phir se aaye iss mehfil mein..
Na chehre purane hai, na dost purane hai..
Phir bhi lag rha hai k jeene Lage hai hum..
Na wo zindagi mein aata hai
Na wo dil se jaata hai
Bas yahi do maslon mein uljhi hai zindagi...
बात दिल की कही नहीं जाती
चीज़ अपनी है दी नहीं जाती

वो कभी देख मुस्कुराए थे
आज तक ये ख़ुशी नहीं जाती

हम सितम की भी दाद देते हैं
और वो भी सुनी नहीं जाती

लोग हैं बन गए ख़ुदा लेकिन
हमसे ही बंदगी नहीं जाती

रात बेदार होके कटती है
आंख से ...
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.048 seconds with 19 queries.
[x] Join now community of 8454 Real Poets and poetry admirer