Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
insaan mitti ka bana hai mitti me mil jana hai,
fir bhi insaan jiyada ki chah me dusro ke gher tabah ker deta hai

Posted by:jeet jainam
See More»
Birthdays this Month
R.Pankaj on 28-08
diljala on 29-08
banku on 29-08
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 21, 2014, 11:58:34 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
Members
Total Members: 47625
Latest: manju sharma
Stats
Total Posts: 1495849
Total Topics: 80286
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 03:13:10 PM)
Users Online
Users: 4
Guests: 194
Total: 198
O_o

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 47625 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!

Chup kyon ho gaye apni baat kahte kahte,
Ab to raaten bhi thak gayee hain tera sath dete dete.

Ansooyon ne bhi ab saath tera chhod diya,
Ab to dariya ban gaya hai aansooyon ka sailab bahte bahte.

Ishq ki raah mein to bahut kuchh khona padhta hai,
Ibtida mein hi ...
पीने की देर है न पिलाने की देर है !
अपने गले से उसको लगाने की देर है !!
घुल जाएगा हवा में भी नश्शा शराब का !
उसके लबों से जाम लगाने की देर है !!
~ प्रदीप श्रीवास्तव "रौनक़ कानपुरी"
ye zindagi badnaam hai.
na subhah ka pata na shaam hai..

hijar  main yuh lamhe  kaat te huye..
apne gamo main dubna aasaan hai..

takhth o taaz ka kiya reh gaya mol.
akhir   Jana     to   shamshaan   hai..

woh  kiya janega ishq...
main raaz dil ke sunawunga mere chahanewale ko
par koyi to batawo mere dil me  basanewale ko

kafan sajane wale mil jayege kahi baad mein
dhundu kaise abhi mere raste ko sajaanewale ko

jab hashr pata hai ke ishq se kuch na hota hashil,
fir kaise bachaye khudawo ki nazar se maranewale ko .
...

वज़ह पूछी नही हम ने उनसे, जुदा होने की,
एक बार उसने मुझसे कहा था, के प्यार करने वाले कभी सवाल नही किया करते.
churaate ho kaha se shero-shayeri
naam kibaab ka kyu nahi bataate ho
pucho na kuch bhi apne baare mei
hame to aap bus pagel nazer aate ho
जब तक जिन्दा थी,मेरी दहलीज पर न आये होगे 
मेरे मरने के बाद ही मेरा जनाजा उठाने आये होगे

बड़ी हसरतो के साथ दुल्हन का जोड़ा लेकर वे जब आये होगे
जब मै कफन ओढ़े मिली उनको,दहलीज से वापिस गये होगे

दुल्हन का जोड़ा व शादी का माहोल देख लोग इकठ्ठा हो गये होगे
जब मेरे मरने ...

आपकी बारगाह में जिसको पनाह मिल गई |
उसकी तमाम ज़िन्दगी खुशबुओं में ढल गई ||
ऐसे क़दम की बरकतें जिसको नसीब से मिली |
उसको खिज़ां न छू सकी दूर से निकल गयी ||
उसकी गली में जो गया सर बा सजूद ही रहा |
किस्साये हयात की शक्ल ही बदल गयी ||
कैसे बताएं ज़िन्दगी ज़िन्दगी न थी मगर |
उनके दस्ते नाज़ ने छू लि...
बड़े बे आबरू होकर आंसू आँखों से निकले
हंसी जज्वात जब घर की राखों से निकले,

जुदा होकर डाली से पल में ही सूख गया है
कई अरमान लेके नए पत्ते शाखों से निकले,

हुआ यूँ असर तीखी बातों का पत्थर दिल पर
बनके लावा अश्क दिल के सुराखों से निकले,

रो दी हैं ये दीवारें...
DIL KEE SAAYATEN RAAT DIN GIN.GIN KE JEETAA HOON...
LOG SAMAJHTE HAIN KE MAIN BAADAH PEETAA HOON,
PHIR SE JHAANK KE TO DEKHO APNAA WATAN...
JAANTE BHI HO KE MAIN KIS BHAROSE PE JEETAA HOON!

Surindar.N                      "MohanN"
aurato ki fitrat mei nahi kabhi khud ko badalna hai
jeete ji bhi aur mar ker bhi chudail bus hi banna hai
जिसे हम बेवफा समझते थे ,वे बफादार निकले
जब हमने अंदर झाका तो खुद गुनाहगार निकले

जब कभी किसी बेवफा का महफिल में जिक्र होता है
उसकी जुदाई का महफिल में मिलन का भ्रम होता है

जिसे हम बड़े दागदार समझते थे वे बेदाग निकले
जब अपना दामन देखा उसमे हजारो  दाग निकले
Dil ki tabiyat achanak bigadne lagi,
Kuchh zyada hi tez nabz chalne lagi.

Yeh kaisa sitam bewafa kaha Mujhko,
Ab to duniya bhi mujhko bewafa kahne lagi.

Itna kamzarf bhi na ban jaao "Betaab",
Ab to meri har baat duniya mein uchhalne lagi.

Kitne nazuk mod se ...


                         ek  ad-add    phhool  kyaa khoyaa.
                         lipat kar kaant.ON se khoob royaa.

                         pata   nahin   din-raat  kaa use .
                         kab      jaagaa      kab    soyaa.

...

De de zara si mujhko jagah Qalb - e - yaar mei.n
Sab kuchh mere Khuda hai tere ikhtiyaar mei.n

Dunya ye sab Andhero.n Ujaalo.n ka khel hai
Jalwe tamaam Qaid hai.n Lail - o - Nahaar mei.n

Mere Ghareeb Khaane pe tuu aa to eik din
Main...
(har aashik ki ore se)
icon_flower HASRAT icon_flower

Kayi baar teri rahon se guzre the hum tere deedar ki hasrat liye,
Teri ek jhalak ki talab, ek najar ki takrar ki hasrat liye.
मांगती है साक़ी जब हिसाब पिलाने का
सोचते है नहीं कोई फायदा होश गबाने का
मन का दर्पण,
है चाल चलन !!

जीवन मेला,
तनहा है गमन!!

हर ओर  à¤¦à¤¿à¤–े,
नैतिक विचलन !!

कटते हैं वन,
हैं क्रोधित घन!!

सेहरा में है,
क्यूँ गीलापन !!

व्याकुल जन जन,
सोया शासन !!

पर्याप्त है धन,
फिर भी क्रंदन!!...
"Makadiyan jaala bunti hain to ye lagta hai....
 Chalo ab apna ghar bhi aabad hua jata hai......

  Mann
इस नये जमाने ने प्यार की रफ्तार इतनी तेज कर दी है
बाते खतो से हफ्तों में होती थी मोबाइल ने सेकंडो में कर दी है

पहले जमाने में जिन्दगी में एक से एक बार प्यार होता था
अब इस जमाने में दिन में चार बार चार से प्यार होता है

इस जमाने में जिन्दगी की रफ्तार इतनी तेज हो गई है
जिन्दगी,जिन्दगी नही...
JUSTUJU JINKO THI ...........DARIYA SE GAUHAR LE AAYE
MAIN KINARE PE KHARA HAATHO'N KO MALTA HI RAHA

                .........Syed Mohd Mahzar

Kabhi sochta hun is zami.n per itne mazhab kyon hai.n?
Agar ek hai Khuda to Adami alag-alag kyon hai.n?

Koi kehta hai uska Khuda hi asli Khuda hai,
Jo nahi manta usko,wo kafir hai, be-wafa hai.
Wo kehta hai chuna tha Khuda ne apne paigamb...
kabhi chahata tha use paana, aaj chahata hu use bulaana
meri kismat mei shayed likha hai bus nakaami ko hi paana
मेरे ख्वाबों में जब वो आये होंगे,
मुझको एकदम तनहा पाये होंगे.

मेरे ख्वाबों की दहलीच पर अचानक,
उनके क़दम जरूर डगमगाए होंगे.

मुझको बर्बाद होता देखकर न जाने क्यों,
मन ही मन में जरूर मुस्कराये होंगे.

रूबरू मिलने की उनमें हिम्मत कहाँ,
इसीलिए नींद में मुझको सतान...
बसी बसाई दुनिया मेरी क्यों उजाड़ दी
बनी बनाई बिगड़ी,मेरी क्यों बिगाड दी
क्या कसूर था मेरा,क्या खोट था मेरा  
प्यार किया था तुमसे ये कसूर था मेरा
पास रहकर भी तुम दूर क्यों रहतो हो
दोस्त बनकर भी क्यों दुश्मनी निभाते हो  
बनी थी जो इज्जत मेरी क्यों उतार दी
बसी बसाई ...
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.163 seconds with 23 queries.
[x] Join now community of 47625 Real Poets and poetry admirer