Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
Maa baap to rab se kam nahi hote ager pass h
To maka kya madina kya
Mandir kya maszid kya
Dur h to un ki shikhai baate un ka pyaar aur un ka ashirbad
Aur bhoo khud ap ke dil mein  rehte h
Fr ap tanha kese hue

Posted by:RAJAN KONDAL
See More»
Birthdays this Month
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
November 29, 2021, 04:56:51 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[November 26, 2021, 01:48:11 PM]

[November 26, 2021, 01:41:34 PM]

[November 26, 2021, 01:18:13 PM]

[November 26, 2021, 10:44:16 AM]

[November 26, 2021, 10:36:22 AM]

[November 24, 2021, 10:44:51 AM]

by Comrade
[November 24, 2021, 10:15:02 AM]

[November 24, 2021, 08:49:46 AM]

[November 23, 2021, 10:41:00 PM]

[November 23, 2021, 10:22:46 PM]
Members
Total Members: 8440
Latest: WilliEpifs
Stats
Total Posts: 1596358
Total Topics: 95090
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 07:13:10 PM)
Users Online
Users: 0
Guests: 125
Total: 125
O_o

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 8440 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!

General

Tip of the moment...
Always post your poem in proper section. A dard poem must be in Dard Section but not in Mazahiya Section or Introduction Section. If posted in wrong section, it will confusion to reader and your beautiful creation may not receive required appreciation.

Latest Shayari at Yoindia Shayariadab


हे चाँद  मेरे वादा निभाओ न
तारे दिन में हमे  दिखाओ न

दिल से दिल की लगी क्या होने लगी
बेतुक्की शायरी की तार्रिफ़  होने लगी
शादी में शामिल होने वालो को कुछ सुझाव
***********************
उतना ही लो तुम थाली में।
व्यर्थ न जाए कुछ नाली में।।

झूठन जो छोड़ता है थाली में।
अगला जन्म लेता है नाली में।।

कम व्यजन बनावाओ शादी में।
झांकी न लगाओ उनकी शादी में।।

दान दहेज न देओ तुम शादी में।
दान...

बेखबर क्यों तुझको अब तक  नहीं दिखा
तेरे ही नाम सनम मेरे दिल पर है लिखा
क़ातिलाना है आपकी झील सी निगाहे
देख कर इन्हे भरता है हर कोई आहे
[दिल की धड़कन सुनो
****************
किसी ने किसी को दिल की धड़कन है माना,
किसी ने किसी को पैरो की अचकन है माना।
जिसकी जैसी होती है भावना अपने मन में,
प्रभु की मूरत को उसने उसे वैसा ही है माना।।

किसी ने पत्थर की मूरत को ईश्वर है माना,
किसी ने ईश्वर की मूरत को पत्थर ...
भारी भारी सा है दिल थोड़ा सा हल्का करने दो
ज्यादा  नहीं थोड़ा सा इश्क़ खुद से हमे करने दो
सच सच बताओ जन्मदिन की ख़ुशी मनाऊ या मनाऊ गम
कहने को उम्र बढ़ी उधर ज़िंदगी का एक साल हो गया कम
इज़हारे इश्क़ का प्रयास रात  भर आईने के सामने करता रहा
जब वो आये सामने तो हुस्न देख उनका उनको बस तकता रहा
बुरा न मान जाओ कही तुम इज़हारे इश्क़ को छुपाता हु
बेखबर जान से ज्यादा तुम्हे में खुद से ज्यादा चाहता हु
Maine Socha Faqat Bichde Hain Magar,.
Hay Ri Kismat, Bhula Diya Usne,.
Jhele kitne gham,taqdeeron ke vaar hain
Zinda hain hum,roohon ka pyar hai,
Meri shaamon ko teri subahon ka intezaar hai
Aankhein bechain,ye dil beqaraar hai,
Paagal hua mann,chaaya khumaar hai,
Mujhe tumse pyaar hai,sirf tumse pyar hai..
[एक पत्नी की इच्छा
***************
तेरे हाथों में मेरा हाथ रहे,
हर साथ में तेरा साथ रहे।
चाहती नही और कुछ मै,
हर जन्म में तेरा साथ रहे।।

हर सुबह तेरा मुझे दीदार हो,
हर वक्त मुझे तेरा इंतजार हो।
आए नही कभी कोई पल ऐसा,
जिसमे तेरी कोई बहार न हो।।

तेरी हर बात में ...
Na socha tha ki aisa hoga,
Na socha tha hamein bhi kisi ka intezar hoga,
Is intezar ka kya sila mila,
Intezar to intezar hi raha koi manzil na mila.
मुझे ख़ामोशियों से अब मोहब्बत हो गयी ,,,,
      जब से वो तुम्हारी बातें करने लगी
Aao kabhi iss naacheez ke paas
Tumse krlein baatein khaas
Hum baithayein sur,tum banao saaz,
Sunn lein dilse dil ki awaaz
Khole ek dooje ke sapon ke raaz
Hum bhi banaa lein aashiyan-e-taaz...

Toofan mein kashti utaare liye,
Aahon ke kitne sahaare liye,
Patjhadh mei sawan ki baharei
liye icon_flower
Yaadon ke kitne pitaare liye
Manjhdaar mein baithe kinaare liye,

Kabhi tum bhi socho hamaare liye happy3
गज़ब का शेर लिखा है आपने शिल्पी सूरी
जितना पास जाते है उतनी बढ़ जाती है दूरि
ग़ज़ल

नींद खुलती है मेरी ख़्वाब तक आते आते
सुब्ह हो जाती है महताब तक आते आते

किस सलीक़े से फ़साना मेरा तहरीर* हुआ
हो गया ख़त्म मेरे बाब* तक आते आते
*लिखना                       *अध्याय

नाख़ुदा* हमको ज़रा झूटी तसल्ली दे दे
लुत्फ़ मौजों का लें गिर्द...
पहनो तिरछी या पहनो आड़ी
सबको भाए भारतीय साड़ी।
हल्की हो या रंगों की गाढ़ी
सबको भाए भारतीय साड़ी।
पहने पंजाबन,पहने पहाड़ी,
सबको भाए भारतीय साड़ी।
चाहे हो गृहणी,या हो खिलाड़ी,
सबको भाए भारतीय साड़ी।

तुम्हारे हाथ की बनी चाय तुम्हारे संग बैठ कर ही हम पिये
बड़ी खवाइश है दिल कीजिंदगी खुल कर एक शाम जिये
Baaton baaton mein baatein to hui
Baaton baaton mein baat naa bani

Baaton baaton mein mulaaqat to hui
Baaton baaton mein awaaz naa mili

Intezaar ki ghadhiyan khatm to hui
Imtihaan ki kadhiiyan baaki rahi

Tasveer unki rubaru to hui
Milte milte umr ...
जब जब तुम करीब मेरे आते हो
तन को मेरे बाखूब महकाते हो
उनसे कौन सा हम कम है
धोकेबाज़ उनसे बड़े हम है
मैंने ख़ामोशियों से गुफ़्तगू की ,,,,
    बहुत कुछ सुना अपने लिए
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.124 seconds with 20 queries.
[x] Join now community of 8440 Real Poets and poetry admirer