Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
waqt ne jinko bhi gulaam banaya hai,
woh log kabhi aage nahi badh paaye hai,

Posted by:jeet jainam
See More»
Birthdays this Month
Pallavi Gupta on 21-01
nazar ghouri on 25-01
bekarar on 29-01
1tarun on 26-01
soniaji on 26-01
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
January 18, 2017, 05:32:33 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[January 18, 2017, 04:04:06 AM]

[January 17, 2017, 09:26:55 PM]

[January 17, 2017, 09:01:12 PM]

[January 17, 2017, 09:00:44 PM]

[January 17, 2017, 08:59:51 PM]

[January 17, 2017, 08:57:55 PM]

[January 17, 2017, 08:57:11 PM]

[January 17, 2017, 08:52:56 PM]

[January 17, 2017, 04:52:51 PM]

[January 17, 2017, 04:51:13 PM]
Members
Total Members: 55456
Latest: miss impossible
Stats
Total Posts: 1563459
Total Topics: 88180
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 03:13:10 PM)
Users Online
Users: 0
Guests: 182
Total: 182

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 55456 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!




सुनो इन दिनो कुछ और हुआ,
ना आवाज़ हुई, ना शोर हुआ ।

दिल में कही एक कसक उठी,
उफ़्फ़ जैसे दर्द बेशुमार हुआ...
Jadd vichdan lagge,
dill mera roya Gumm de samundar kai,
Varona te sannu kise ne ki si,

Zakham lagge jo dill utte oh duunge bade,
Malham utte lona kise ne ki si,

Reh-reh ke hun oh naasoor bann gaye,
Gumm khaan di aadat ki pai Bains nu
Gumm dain de sannu dastoor bann gaye..!!
आदाब
122*4

हमेशा...  तुम्हारा !  हमारा .कहाँ  है ?
बताओ  न  रिश्ता वो  प्यारा कहाँ है

है आंसू  ही  आंसू  मुहब्बत में  यारो
मगर इस के बिन भी गुज़ारा कहाँ है

चले  आते चौखट पे तेरी  सितमगर
मगर  दिल  से तुमने पुकारा कहाँ है

ज़माने की हर शय को देखा है हमने
त...
अब जो खामोश हुई तो फिर न कहना
यूं ही मदहोश हुई तो फिर न कहना
तनहा तनहा तो गुजर ही गयी है
तेरी संगत हुई तो फिर न कहना
लबो पे यु तो ताला ही है
जबान फिसल गई तो फिर न कहना
वक़्त तो कभी हुआ नही हमारा
अब तो तेरा न हुआ तो फिर न कहना
सादगी को पसंद करना तेरे बस में नही
मुझमे नही वो बात फिर न कहना
AAO HUM MATDAAN KAREN
खुशियों के पावन दीपों से रौशन हिंदुस्तान करें !
आओ हम मतदान करें
ख़ुद अपना सम्मान करें

अपने मत का मोल समझिये, मत का देश से नाता है
देश का भाग जगाने वाला, देश का हर मतदाता है
कौन है सच्चा कौन है झूठा, इसकी हम पहचान करें  
आओ हम मतदान करें
ख़ुद अपना सम्मान करें

अ...
क्यों दर दर भटकता है तू
अपनी मांगों के लिए

क्यों रोज अड्डे बदलता है तू
अपनी चाहतों के लिए

क्यों तू उस इंसान के पास जाता है
जो खुद अल्लाह के भिखारी है

अरे ये तो बस एक व्यापार है
असल में इनका हाथ भी खाली है  
EK NAYAA ROZ

Kal kaa dhalaa suraj phir baahir hai aayaa
                Lo ek aur nayaa roz zaahir hai aayaa!

Gunchon kee aarzu unhein gul banaanein
        Paton ko zindagi deney maahir hai aayaa!

Zaraa zaraa roshan-o-halchal machaane
         Bashar ...
وکیل نامہ
اک مسخرے وکیل کی جب دال نہ گلی
سپریم کورٹ میں کوئ بھی  بات نہ چلی
کھسیانی بلی کی طرح کھمبا تھا نوچتا
پھر میڈیا پہ آ کے بے شرمی سے  بو لتا
کس نے کہا مقدمہ ہارے وکیل ھے؟
تاویل ایک سے ایک اور بھاری دلیل ھے
جو ہارتا ھے وہ تو موکل غریب ھے
ہم کیا کریں خراب جو اسکا نصیب ھے!
مظہر ...

EK KAHAANI

Ek subhaa ghorhhe pe swaar maharaj Ranjit Sigh ne dekhaa
Apni roz kee gashat mein ek faqeer bheekh maangte dekhaa!

Fakeer kehtaa thaa khuda bhi kitnaa be.insaaf hai
Kisee ko to detaa woh takhat-o-taaj hai...
Aur kisee ko pe...
ह्रदय के स्पंदन में
आज फिर तेरी  धड़कन है
वही तेरा नाम
मेरे रगों में बहने लगा
मेरे मन के दरवाजे पे
फिर से वही दस्तक है
क्या ये तू है
या फिर से तेरी आरज़ू है
आ आज फिर से मौका है
फना कर दे फिर से
बेवजह ही
बिन बताये
अब तो मज़ा ही आने लगा
तुझसे फना होने में
मेरे लिए तो इतना ही काफ...
"मैं तेरी ज़िंदगी हूँ "

मैं तेरी आंखों का पानी हूँ
मैं तेरे  ख़ाब की रवानी हूँ
मैं तेरे होटों की खिलती हसी
मैं तेरी खिलती जवानी हूँ
राज़ हूँ चुभता हुआ ोई मैं
मैं तेरी  चलती कहानी हूँ

मैं  तेरी  ज़िंदगी  हूँ,  ज़िंदगी  हूँ,  ज़िदगानी हूँ ...

मायूसी   हूँ ...
PEER KO DEKHO

Mujh peer ko dekho kyunkar jawan ho chalaa hoon
Aenaa kyaa dekhte ho woh to jhothh hee kahe gaa
Mujhe mere saaye mein bhi to kabhi dekho...
Gaarhhi kee roshani saath kabhi bhaagte to dekho


Surindar. N           ...
चले जा रहे तेरे नज़दीक
बगैर किसी बाधा के
ये तुम्हारी मोहब्बत हसि
या कशिश है तुम्हारी
खुद को देखना अच्छा सा लगने लगा है
इन निगाहों में तुम्हारी
सजना संवरना भी भाने लगा है कुछ
क्या ये तुम्हारा जादू है
या इसे मोहब्बत कहु
तुम्हारे हर शब्द का इंतज़ार सा रहता है
क्योंकि वो उन लबो से कानो तक आ...
दिल ये लेता रहा लेकर सिसकियाँ,आहें,भरते रहे जज़्बात,
ना आना था,ना कोई आया,फिर भी, जागते रहे सारी रात !!

ऐ काश फिर मिल जाएं शायद,यूँ बस इतनी सी बात हुई  ,
रात भर महकते रहे ख्वाब,क्या हसीं सी वो मुलाकात हुई  !!

कभी आएंगे फुर्सत में तुम्हे मिलने,दिल रखने को कहा था ,
बस उस रात से ही सोया नहीं दी...
jaan lete hain is tarah log mere dard e dil ko mujhe dekhkar
    labh kuch kehtey nahin aur aankhon mein chhupaya nahin jaata
आदाब

हर आदमी  के  दिल में  उजाला  दिखाई दे
रौशन  रहे  सदा  न  वो  काला  दिखाई  दे

है  ज़िन्दगी  सराब  सी सहरा  में  जल रही
तरसी  हुई  निगाह  को  प्याला  दिखाई  दे

औरत  की आबरु की  हिफाज़त अगर करे
तो  हर  बशर  यहाँ पे  निराला  दिखाई  दे

इंसानियत  की बात को ...
meri ankhon mein chhupe gham ko dekh chehra par muskurahat hi sahi
  zakham hai rooh par lagey kya hua jo jism par chot ke nishan nahi ,,,

khayaal mere udhaas hain is kadhar ke zehan mein tanhai hai bas
  aalam hai har taraf veeran sa saji hui hain chahe mehfilein kai ,,,
Lo Ek Saal Or Guzer Gaya
Lo Ek Din Or Beat Gaya

Lo Kal Bhi Hum Wohi Khare Thy
Lo Aj Bhi Tum Hum Sy Door Hi Rahy

Lo Wade Kasme Jhuti Sabit Ho Gayie
Lo Dunniya Es Par Khush Ho Gayie

Lo Humari Khair Kal Bhi Thi
Lo ...
मन की कुछ दिलो में नफरत होती है
पर हर दिल में कोई हसरत होती है
इंसान उस के आगे क्यों मजबूर हो जाता है
जिस से उसे बेपनाह महोब्बत होती है........
ज़िन्दगी तेरे दर पे
बेज़ार से खड़े हम
आज तो दीदार की कसक
कम से कम पूरी कर दे
               कदम लड़खड़ाये से है
               होश भी गुम है
                  अब तो झलक दिखला दे
                 मुझे गुलज़ार कर दे
एक बार मैं गरीबी से तंग आकर  
ऐसा सोचने लगा  

कुछ नहीं दिया भगवान तूने मुझे  
ऐसा कहकर उसे कोसने लगा

फिर दूसरी और नजर गुमाई  
मैने दो व्यक्तियो को देखा

एक के पास आंखे नहीं थी
और के पास टाँगे नहीं थी  

वह दर दर जाकर अपनी  
भूख के लिए रोटी माँग रहे थे  

कुछ तो दे दो कोई ऐसा वें ...
चादर से पैर तभी बहार आते है,
जब उसूलों से बड़े ख्वाब हो जाते









याद कर तेरी बेवफाई फिर एक पेगाम लिखता हूँ
आँखो से बहे अश्को से तेरा नाम लिखता  हूँ
तेरी मोहब्बत अब भी इबादत हैं मेरी
दिल की किताब पे तेरा नाम लिखता हूँ
ख्वाहिशों से भरी थी ज़िन्दगी मेरी
इस ज़िन्दगी का कतल तेरे ...
NASHAA

Koi gaflat shuaar naa aaye to kyaa karein
Dil ko koi qaraar naa aaye to kyaa karein!

Aseeraan-e-qafas kee zindagi bhi hai kyaa
Ranj aaye bahaar naa aaye to kyaa karein!

Teree jaanib se to saaqi koi kamee naa ho
Gar phir ...
Tanhayi Ki Yeh Kuch Aisi Ajab Raat H
Tujhse Judi Huwi Har Yaad Mere Saath H

Kis qadar Ki Thi Mohabbat Humne Tumse
Soch Kar Huwi Aaj Ashqo Se Mulaqaat H

Kaisa Junoon Tha Us Ishq Me Dil Ro Aye
Machal Utha Phir Se Har Woh Jazbaat H

Tu Mujhko Bewafa Keh Gayi Najane Kyu
Gar Chahna Bewafayi H...
आदाब

लोगों के दिल में पाक मुहब्बत नहीं  रही
आलूदगी  है  आज  वो  ग़ैरत  नहीं  रही

करते हैं  वार पीठ पे, उल्फत में भी यहाँ
अब दुश्मनी में साफ़, अदावत नहीं  रही

आंखों में मयकशी थी,अदाओं में था नशा
अब  हुस्न की  अदा में  शरारत ...
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.158 seconds with 19 queries.
[x] Join now community of 55456 Real Poets and poetry admirer