Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
Maa baap to rab se kam nahi hote ager pass h
To maka kya madina kya
Mandir kya maszid kya
Dur h to un ki shikhai baate un ka pyaar aur un ka ashirbad
Aur bhoo khud ap ke dil mein  rehte h
Fr ap tanha kese hue

Posted by:RAJAN KONDAL
See More»
Birthdays this Month
khwaish on 23-04
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
April 23, 2024, 01:46:40 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[April 23, 2024, 09:54:09 AM]

by ASIF
[April 22, 2024, 01:50:33 PM]

[April 04, 2024, 04:49:28 PM]

[April 02, 2024, 12:27:12 PM]

by ASIF
[March 24, 2024, 04:34:54 AM]

by ASIF
[March 24, 2024, 04:30:44 AM]

by ASIF
[March 24, 2024, 04:26:39 AM]

by ASIF
[March 23, 2024, 08:50:46 AM]

[March 21, 2024, 07:59:38 PM]

[March 17, 2024, 02:01:29 PM]
Members
Total Members: 8498
Latest: mudassir ali
Stats
Total Posts: 1597785
Total Topics: 95533
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 07:13:10 PM)
Users Online
Users: 0
Guests: 323
Total: 323

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 8498 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!

Jaan Pe Jaan Ko Warna Padta
Ishq Me Dil Ko Harna Padta

Kahte Hain Aag Ka Dariya Hai Ye
Pyar Me Khud Ko Marna Padta

Written by Syed Iqtedar Hussain
[/color][/b]
फिर वही ज़िंदगी फिर मौत का ये फेरा है
गुम न हो जाना यहाँ पर बोहोत अंधेरा है
चाँद तारों की छिड़ी बात तो किसी ने कहा
वो तारा तेरा है और ये चाँद मेरा है

मेरे दर पर मेरे नाम की तख्ती जो मिली
वो समझ बैठा यहीं पर मेरा बसेरा है
इल्म तो उसको भी ये होगा कभी न कभी
रात छोटी है यहाँ बसने को, खड़ा सवेर...
Dosto kaise hai aap? Main Asif haazir hua hoo apni ek nayi daastan ke saath jo 2024 ki meri pehli likhi story hone jaa rahi hai, is baar maine bedard ka sequel likha hai jo kahani 2018 romantic crime thriller thi, uske baad jo do crime thriller series likhi "anjaan" aur "Firaaq" unka is kahani se mi...
Hain guzre hove afsaan-e muhabbat men hikayaten har sad
Phir dil hi par zakhm kyon khate hain ashik har sad

Marna hi tha usse so mar gaya dil-e nadaan
Phir bhi tere zikr par ye dil dhadakta hai kyon kar

Abul Asad

हमने सारी ही घूम ली दुनिया
घर में लौटे हैं तब मिली दुनिया

कभी अच्छी कभी बुरी दुनिया
हम थे जैसे हमें लगी दुनिया

हमने इक शाम बाम पर आकर
अपने इक जाम में भरी दुनिया

मैंने तेरे इवज़ अकेलापन
तूने मेरे इवज़ चुनी दुनिया

एक कौन्ट्रैक्ट ह...
किताब पुछे पन्नों से
इतना क्यों फ़डफ़डा रहे हो?
औकाद क्या तुम्हारी, कागज के पुतलों?

पन्ने तिलमिलाये, बोले -
हमारी औकाद से होना बेहतर वाकिफ़
सिमटे है हम एक जगह, तो है तेरी ये मस्ती,
जो बिखर गये हम तो मिटेगी तेरी हस्ती.

पन्ने छेडने लगे वाक्यों को ...
लहरों की तरह जज़्बात भी होते हैं
गिरते उठते हँसते और रोते हैं
जीवन की मंज़िल मौत के धागे से
जुड़कर फिर से जीवन ही होते हैं

हर मौज में इतना शोर के सन्नाटे
आराम से गहराई में सोते हैं

कुछ कहती है हर बूँद ये जीवन की
कुछ शख्स यहाँ पहचान के होते हैं

आवाज़ नहीं होती गहराई में
ऐसे ही तो ...
याद आती जो तेरी तुझसे मिलने आ जाता
तुम मेरे साथ ही रहते हो तो क्या याद करूँ
भूल जाने की कोई बात कहाँ बनती है
याद आते नहीं क्या ये बड़ा सुबूत नहीं

बात बनती है बनाता हूँ जहां तक हो सके
मेरी फितरत ही ऐसी है तो मैं क्या ही करूँ
वैसे चुप रहता हूँ कहता हूँ मैं तो कुछ भी नहीं
मुझको छेड़ोगे कह...
आजकल हम भी तेरी उल्फतों में रहते हैं
बारहा चारों पहर मयकदों में रहते हैं
नज़्म, शेरों में ग़ज़ल में और मिसरों में
तेरी  बातों के कई शायरों में रहते हैं

तेरे रुखसार पे जो तिल की तरह दिखता है
ये तेरे हुस्न की ही ख़िदमतों में रहते हैं

रौशनी के लिए हम छत पे खड़े हैं कबसे
चाँद के साथ हम भी ज़...
Kuch nami si hai,
Kuch kami si hai..
Khair chodho, tum batao..
Sab thik hain?

Dard hai dil mein,
Sard mehfil mein,
Khair chodho, tum batao
Sab thik hain?

Yaad aati hai
Be-baat aati hai
Khair chodho, tum batao
Sab thik hain?
Hi all. I am Aroon. I was searching a good poetry community and finally landed to yoindia. Hope to share and read many new poetry.     

जंगल में शबरी के झूठे बेर को सस्नेह पूर्वक खाना
दुश्मन को युद्ध से पहले ही चरणों में अपने गिराना
दिल में ज़रा भी नफरत माँ कैकई के लिए न लाना  
भाईयों को अपने अपनी पलकों पर पल पल बैठाना  
बिना किसी भेद भाव न्याय प्रणाली को राज्य में चलाना
...
हुस्न तेरा ये कोहिनूरी है
अब्र की शिद्दतें भी पूरी हैं .... (अब्र = बादल, शिद्दत  = intensity)
दिल संभाले तो कोई कैसे बता
कुछ तो कहना तुझे ज़रूरी है

ये चमक है तेरा सुरूर-ए-नशा  .... (सुरूर = toxic)
आँख तेरी ये चश्म-ए-नूरी है  .... (चश्म-ए-नूरी = प्रकाश सी नज़र )
देख अपनी नज़र को देख ज़रा
देख...
Rakh diya Girbee,, Khud ko unki mohabbat ke liye...

Aur woh hai ki tadapte Hain kisi aur ki mohabbat ke liye...

Kisi Ne Poocha !!!
Kabhi Ishq Hua Tha,
Hum Muskuraake Bole,
Aaj Bhi Hai,.

-Azeem Azaad,.
Jabse Huwe Hain Unkay Ham
Door Huwe Hain Saare Gham

Dil Ab Bada Hi Shaad Hai
Aankhen Bhi Ab Nahi Hain Nam

Har Shae Mili, Milay Jo Wo
Khushiyan Hi Ab Hain Dam’ba’Dam

Ranj’o’Malaal Mit Gaye
Dard’o’Alam Huwe Hain Kam

Unkay Hi Ek Saath Se
Jeena Hai Ab Khadam Kha...
#माँ शारदे का

हम कमाल है वो बवाल है,
लगता अपने आप में सवाल है।
हर बात में है सन्देह की पुड़िया,
इशारों पर नचानेवाली पत्थर की गुड़िया।
न श्रृंगार उसे भाता है कुरूपता की मूर्ति,
पर अपने को समझे मेनका की प्रतिमूर्ति।
सुना है ताड़का, सूपनखा थी राक्षसीयां,
पर वो है कलयुग की जागती प्रेतात्मा।
मन्द...
Wo Hawa si ban kar Gujar Gaye
Pass se humare

Wo humare liye Rukk bhi na sake
To ,,,SHIKAYAT,,, bhi kya kare
अश्क हूं मैं तुम्हारा,आंखे हो तुम।मेरी।
कंठ हूं मै तुम्हारा,आवाज हो तुम मेरी।।
कैसे अलग हो सकता हूं मैं अब तुमसे,
जब जोड़ी बनाई है प्रभु ने हमारी तुम्हारी।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम
करना ही पड़ा जिक्र तुम्हारा ,,,,
   शायरी में मोहब्बत कुछ कम थी
इश्क ना हो जाए पढ़ते हुए तुमको ,,,,,
      काग़ज़ पर कहानी नही मोहब्बत लिखी है
तुम्हे सोच कर बेचैन रहते हैं ,,
     ऐसा सुकून कहीं और नही मिलता
तमाम गुनाह कबूल कर लिए हमने ,,,,
    उनके इल्जाम ही इतने हसीन थे
खुद ही कर ली कबूल सजा हमने ,,,,,
    मेरा दिल भी तुम्हारे हक में गवाही दे रहा था
तुम्हारे ख्वाब आना कोई इत्तेफाक नही ,,,,,
    हमें नींद ही इस शर्त पे आती है
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.068 seconds with 20 queries.
[x] Join now community of 8498 Real Poets and poetry admirer