Latest Shayari update in Email!

Enter your email address:

Original Quotes of Yoindians
waqt ne jinko bhi gulaam banaya hai,
woh log kabhi aage nahi badh paaye hai,

Posted by:jeet jainam
See More»
Birthdays this Month
NakulG on 20-07
JayRoy on 09-07
robinatri09 on 10-07
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 07, 2020, 10:21:54 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 07, 2020, 06:24:37 PM]

[July 07, 2020, 03:31:53 PM]

[July 07, 2020, 03:26:38 PM]

[July 07, 2020, 03:23:38 PM]

[July 07, 2020, 03:22:06 PM]

[July 07, 2020, 03:20:19 PM]

[July 07, 2020, 03:20:10 PM]

[July 07, 2020, 03:19:44 PM]

[July 07, 2020, 03:18:53 PM]

[July 07, 2020, 03:18:17 PM]
Members
Total Members: 8383
Latest: I Am...!!
Stats
Total Posts: 1584938
Total Topics: 92603
Online Today: 472
Online Ever: 517
(April 10, 2011, 07:13:10 PM)
Users Online
Users: 1
Guests: 129
Total: 130

Welcome to Yoindia Shayariadab

A community of 8383 of real poets and poetry admirer from whole globe. Join Now and unleash the poet inside you!

PUR.SAKUN

Pur.sakun woh hai jissey kam yaa zayaadaa kee fiqr nahin
Gar gham hai to ziqr nahin gar khushi hai to mittar nahin

Surindar N.      "MohaN"  

MAIN SAMAJHTAA HOON. 119

LAZAT-E-ZUBAN

Main samajhtaa hoon...
Hai jo zuban mein lazat-o-pacheedaapan
Woh pecheedagee hayaat mein bhi nahin
Agar bole karwaa to iss sii karwaat nahin
Gar bole meethhaa to iss sii mithaas nahin
Gar t...
जुदा हुआ वो मुझसे कुछ ऐसे
ज़िस्म से रूह निकली हो जैसे  
पसंद थी उसे खानी बहुत ज्यादा खीर
जाने कितने दिलो को उसने दिया चीर 
जिनके कारण मनोज वो ज़िस्म के व्यापार में आई
इज्जतदार थे वो लोग नाम को आंच तक न आई   
गज़ब का है तुम्हारा कातिलाना नज़रो का वार
जिसे भी तुम देखोगे जाएगा वो अपना दिल हार   
दिल में अपने किया है तुम्हे हमने  ब्लॉक
ज़िन्दगी हो तुम मेरी कैसे कर दू अनब्लॉक   
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक

अगर एक बार तुम आ जाते,
ये आंसू आंखो से रुक जाते।
लगा लेते तुम मुझको सीने से,
सारे मन के मैल भी धुल जाते।।

विरह वेदना से मै जलती हू,
बिन अग्नि के  मै जलती हूं ।
जरूरत नहीं है अब माचिस की,
बिन माचिस के अब जलती हूं।।

बिन पानी के मै नह...
Hamare Jaese Diwane, Jahan Me Kam Nikle
Unhen Hayat Banate Hain, Jin Pe Dam Nikle

Bahot Hasin To Na They Wo, Magar Na Jane Kyon
Unhi Ke Konche Se, Masroor Ho Ke Ham Nikle

Dua Ab Rab Se Yehi, Har Ghadi Hamari Hai
Unhi Ke Ishq Me Uljhe Rahen, Ta’Dam Nikle

Wo Jis...
मैंने सीरत को तूने सूरत को चाहा 
मेरा प्यार तुझे कभी समझ न आया  
हम लिखना नहीं  पढ़ना जानते है 
दिल से तुम्हे बस अपना मानते है  
चलो अब से नहीं बोलूंगा तुम्हे में बाबू 
इतना तो बताओ तुम्हे कैसे करू  काबू 
कोई ऐसा कोई वैसा 
में हु हूबहू तेरे जैसा  
अर्जी क्यों लगाऊ दिल की अदालत में 
जीत कौन सकता है तुमसे वकालत में 

राख को मत कुरेदिये
उभर के आना वैसे
जज़्बातों को ही है ।
- आशिक़ ❧
RAASTYE

Hazoor tere liye do hee raastye hain
Ek to tujhe khushi ke raastye le jaaye gaa
Doosraa ek paagalpan ke raastye le jaaye gaa
Naseehat hai chalaa chal ik waqt hee bataaye gaa


Surindar N.
TAJURBAA

Hazoor aaiye zaroor yeh koi
Shikaayat to nahin ek tajurbaa hai
Azmaaiye mohabbat kaa hee jazbaa hai
Dekhnaa hai kis ke liye hotaa marhabaa hai


Surindar N.     "MohaN"

शिव अराधना

मिलता है सच्चा सुख केवल,
शिव जी तुम्हारे ही चरणों में।
रहे कृपा सदा तुम्हारी हम पर,
और ध्यान रहे तुम्हारे चरणों में।।

चाहे मौत गले का हार बने,
चाहे बैरी सारा संसार बने।
हम डिगे नहीं सच्चे पथ से,
ये जीवन का संस्कार बने।।

करे नित्य नियम से तेरी पूजा,...
Agar Bewafa Tujhko Pehchaan Jaate
Khuda Ki Khasam Hum Mohabbat Na Karte
Jo Maloom Hota Yeh Anjaam E Ulfat To
Dil Ko Lagaane Ki Jurrat Na Karte
Agar Bewafa Tujhko Pehchaan Jaate
Khuda Ki Khasam Hum Mohabbat Na Karte
https://www.youtube.com/watch?v=HieQUh9C2y8

Jinhe Tumne Sam...
सावन के मौसम में तुम्हारी, याद बड़ा तड़पाती है।
अबकी बार आ जाओ प्रिये, तन्हाई सही ना जाती है।
बागों में झूले पड़े है, गीत सावन के गाती सखियाँ।
दरवाजे के चौखट में बैठी, राह तुम्हारी तकती अँखियाँ।
रिमझिम बूंदे गिरती तन पे, हवा लहरा कर जाए आँचल।
अगन सी उठती है काया पर,याद सनम की आती हर पल।
तन मुरललि...
क्या कमी है तुममें तुम्हे यह एहसास कराउ
सोचता हूं थोड़ी देर के लिए तुम जैसा हो जाऊं   
इश्क़ क्या है कभी समझ ही नही पाई
सबकी आँखों में सिर्फ हवस नज़र आई
बदनामी  से जो जनाब डरते है 
पाक इश्क़ कहाँ  कर सकते है  
सच कहु गर तुम्हे नफरत में  भी तेरे प्यार है 
कूट कूट कर भरे तुझमें इश्क़ के संस्कार है   
दिल जानबूझ कर कुछ लोगो का मैं मनोज दुखाता हु
मैं दिल में नही दिमाग में उनके खुद को बसाता हु   
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.129 seconds with 19 queries.
[x] Join now community of 8383 Real Poets and poetry admirer