कहानी एक अनुभव की....Rishi

by Rishi Agarwal on September 28, 2009, 05:54:07 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 1296 times)
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
            एक बहुत बड़ा जहाज एक बार ख़राब हो गया ! जहाज का इंजन स्टार्ट ही नही हो रहा था ! तमाम बड़े-बड़े इंजिनियर ने सुधारने की कोशिश की, लेकिन कोई लाभ नही हुआ ! इंजन को सुधारना तो दूर, कोई उसकी खराबी भी नही पकड़ पा रहा था ! इसी बीच किसी ने मालिको कोई एक बुजुर्ग का नाम सुझाया ! वह इंजिनियर नही था ! उसके पास कोई डिग्री-डिप्लोमा भी नही था ! पर वह बहुत अनुभवी था !वह अपने समय का जाना मन मकैनिक था ! और इस एरिया में लम्बे समय तक कम करने के बाद अब नाती-पोतो के साथ समय बिता रहा था ! उसे बुलाया गया जब वह आया, तो उसकी दशा देखकर मालिको को भरोसा ही नहीं हुआ, की वह इतने बड़े और जटिल जहाज के बारे में कुछ जानता भी होगा !पर उनके पास कोई और चारा भी नही था ! सो, उन्होंने बुजुर्ग को काम शुरू करने की इज्जाजत दे दी ! बुजुर्ग ने भारी-भरकम इंजन का ऊपर से नीचे तक मुआयना किया ! उसने हर चीज़ को टटोलकर देखा ! उसने इंजन के पुर्जे नहीं खोले ! मालिको में से दो लोग उससे कम करते देख रहे थे की आखिर वह करने क्या जा रहा है !
            बुजुर्ग ने कुछ भी नहीं किया ! इंजन की चारो तरफ देखने के बाद उसने अपना औजारों वाला बैग खोला और उसमे से एक छोटी सी हथोडी निकाल ली ! दोनों मालिको की निगाह उसी पर जमी थी ! बुजुर्ग ने उस हथोडी से इंजन पर एक जगह हलके से प्रहार किया !और इसके साथ ही, वह घरघराकर चलने लगा ! बुजुर्ग ने हथोडी बेग में रख ली ! उसका काम हो चूका था ! एक हफ्ते बाद मालिको को उसकी तरफ से 10000/- रुपयों का बिल मिला ! हालाँकि इंजन को बड़े से बड़े इंजिनियर भी ठीक नहीं कर पाए थे, और इस चक्कर में काफी पैसा खर्च हो चूका था ! बावजूद इसके उन्हें 10000/- रुपये का बिल उन्हें बहुत जायदा लगे ! यह इंसानी फितरत ही हैं, जो कम हो जाने के बाद किसी के योगदान को कम आंकने लगती हैं ! उन्हें लगा, सिर्फ दो-तीन हथोडी मारने के 10000/- रुपये ! यहा तो कोई जायदा काम भी नही हुआ ! तो उन्होंने उस मकैनिक को लिखा की आप डिटेल बिल भेजे, जिसमे अलग-अलग कम के लिए अलग-अलग चार्ज का विवरण हो

कुछ दिनों बाद उन्हें नया बिल मिला, जिसमे बुजुर्ग ने यह विवरण दिया था:--
हथोडी से चोट करने के    ....................................  20/- रुपये
यह जानने के लिए की चोट कहा पे करनी हैं  उसके................ 9980/- रुपये !



सबक ज़िन्दगी का.....
अनुभव से ज्ञान मिलता हैं और ज्ञान उम्र के किसी भी मोड़ पर बेकार नहीं होता ! अनुभव आपको हमेशा लाभ पहुचायेगा..............Jai shree krishana
Logged
{Angel}
Khair-Khwah
Ustaad ae Shayari
*

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
21 days, 15 hours and 48 minutes.

Nazar Samete Hue Khadi Hoon

Posts: 37158
Member Since: Apr 2006


View Profile
«Reply #1 on: September 28, 2009, 07:17:19 PM »
Nice one...
vivran was good Usual Smile
Logged
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #2 on: September 28, 2009, 08:53:06 PM »
Nice one...
vivran was good Usual Smile

thnx angel ji
Logged
Roja
Mashhur Shayar
***

Rau: 5
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
48 days, 20 hours and 0 minutes.

Posts: 15972
Member Since: Dec 2006


View Profile
«Reply #3 on: September 28, 2009, 08:59:49 PM »
Nice story Rishi  Usual Smile
Logged
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #4 on: September 28, 2009, 09:01:59 PM »
Nice story Rishi  Usual Smile

thnku roja ji
Logged
madhuwesh
Umda Shayar
*

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
62 days, 22 hours and 36 minutes.

Don't think who you are ~ Just Respect your self.

Posts: 8109
Member Since: Feb 2009


View Profile
«Reply #5 on: October 02, 2009, 11:43:15 AM »
Very nice story ,thanx for sharing Rishi ji. icon_thumleft Applause Applause Applause Applause
Logged
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #6 on: October 02, 2009, 11:51:57 AM »
Very nice story ,thanx for sharing Rishi ji. icon_thumleft Applause Applause Applause Applause

Thnx madhu ji
Logged
Rajesh Harish
Khaas Shayar
**

Rau: 1
Offline Offline

Waqt Bitaya:
38 days, 16 hours and 37 minutes.
Posts: 10584
Member Since: Aug 2008


View Profile
«Reply #7 on: December 31, 2009, 12:36:56 AM »
Bahut hi achchhi kahani hai
Yeh duniya hi aisi hai
Logged
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #8 on: January 01, 2010, 04:21:27 PM »
Bahut hi achchhi kahani hai
Yeh duniya hi aisi hai


Ha Sahi Hai Kaha Aapne Sir
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
February 28, 2020, 10:22:26 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[February 28, 2020, 10:21:38 PM]

[February 28, 2020, 10:20:28 PM]

[February 28, 2020, 10:19:41 PM]

[February 28, 2020, 10:17:32 PM]

[February 28, 2020, 10:16:21 PM]

[February 28, 2020, 04:27:12 AM]

[February 28, 2020, 12:42:15 AM]

[February 28, 2020, 12:37:29 AM]

[February 28, 2020, 12:32:58 AM]

[February 28, 2020, 12:24:21 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.18 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48464 Real Poets and poetry admirer