हमारे रास्ते रौशन बनाने आ गया कोई

by yati_om on June 05, 2010, 07:15:36 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 1018 times)
yati_om
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
18 hours and 44 minutes.
Posts: 90
Member Since: Feb 2007


View Profile WWW
Reply with quote
हमारे  रास्ते    रौशन  बनाने    आ  गया कोई
अंधेरों    से  हमें  आखिर बचाने  आ गया कोई

लगा कुछ दिन कठिन इस ज़िन्दगी की राह पर चलना
मगर  फिर नेह  के  लेकर  खज़ाने  आ  गया  कोई

नदी   सोई   थी   ओढ़कर    चादर  अंधेरों  की
सुनहरी   रश्मियाँ  लेकर  जगाने  आ  गया  कोई

भुला  बैठे  थे जिनको  हम समय के अन्तरालों में
दिलाने  याद  फिर  वो  दिन  पुराने आ गया कोई

कभी  मन  में  कोई दुविधा हुई तो मैंने ये देखा
सही  मंज़िल, सही राहें  दिखाने   आ गया कोई

                      -ओमप्रकाश यती
Logged
yati_om
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
18 hours and 44 minutes.
Posts: 90
Member Since: Feb 2007


View Profile WWW
«Reply #1 on: June 05, 2010, 07:20:49 AM »
Reply with quote
हमारे  रास्ते    रौशन  बनाने    आ  गया कोई
अंधेरों    से  हमें  आखिर बचाने  आ गया कोई

लगा कुछ दिन कठिन इस ज़िन्दगी की राह पर चलना
मगर  फिर नेह  के  लेकर  खज़ाने  आ  गया  कोई

नदी   सोई   थी   ओढ़कर    चादर  अंधेरों  की
सुनहरी   रश्मियाँ  लेकर  जगाने  आ  गया  कोई

भुला  बैठे  थे जिनको  हम समय के अन्तरालों में
दिलाने  याद  फिर  वो  दिन  पुराने आ गया कोई

कभी  मन  में  कोई दुविधा हुई तो मैंने ये देखा
सही  मंज़िल, सही राहें  दिखाने   आ गया कोई

                      -ओमप्रकाश यती
Logged
anil kumar aksh
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 2
Offline Offline

Waqt Bitaya:
21 hours and 13 minutes.
Posts: 104
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #2 on: June 05, 2010, 08:15:41 AM »
Reply with quote
bahut achhi rachna hai kya baat hai
Logged
yati_om
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
18 hours and 44 minutes.
Posts: 90
Member Since: Feb 2007


View Profile WWW
«Reply #3 on: June 05, 2010, 11:57:48 PM »
Reply with quote
हमारे  रास्ते    रौशन  बनाने    आ  गया कोई
अंधेरों    से  हमें  आखिर बचाने  आ गया कोई

लगा कुछ दिन कठिन इस ज़िन्दगी की राह पर चलना
मगर  फिर नेह  के  लेकर  खज़ाने  आ  गया  कोई

नदी   सोई   थी   ओढ़कर    चादर  अंधेरों  की
सुनहरी   रश्मियाँ  लेकर  जगाने  आ  गया  कोई

भुला  बैठे  थे जिनको  हम समय के अन्तरालों में
दिलाने  याद  फिर  वो  दिन  पुराने आ गया कोई

कभी  मन  में  कोई दुविधा हुई तो मैंने ये देखा
सही  मंज़िल, सही राहें  दिखाने   आ गया कोई

                      -ओमप्रकाश यती
अनिल जी,

     गज़ल पढ़ने और उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.......'यती'
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 24, 2019, 08:14:47 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 24, 2019, 04:06:19 AM]

[August 24, 2019, 03:13:42 AM]

[August 23, 2019, 11:41:04 PM]

[August 23, 2019, 11:33:09 PM]

[August 23, 2019, 11:31:29 PM]

[August 23, 2019, 11:30:06 PM]

[August 23, 2019, 11:28:21 PM]

[August 23, 2019, 11:25:14 PM]

[August 23, 2019, 11:24:33 PM]

[August 23, 2019, 09:59:39 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.149 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer