280 लाख करोड़ का सवाल है ... Rishi

by Rishi Agarwal on February 28, 2011, 04:29:49 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 1066 times)
Rishi Agarwal
Guest
280 लाख करोड़ का सवाल है ...(280 ,00 ,000 ,000 ,000)

भारतीय गरीब है लेकिन भारत देश कभी गरीब नहीं रहा" ये कहना है स्विस बैंक के डाइरेक्टर का.. स्विस बैंक के डाइरेक्टर ने यह भी कहा है कि भारत का लगभग 280 लाख करोड़ रुपये उनके स्विस बैंक में जमा है.. ये रकम इतनी है कि भारत का आने वाले 30 सालों का बजट बिना टैक्स के बनाया जा सकता है.. या यूँ कहें कि 60 करोड़ रोजगार के अवसर दिए जा सकते है.. या यूँ भी कह सकते है कि भारत के किसी भी गाँव से दिल्ली तक 4 लेन रोड बनाया जा सकता है.. ऐसा भी कह सकते है कि 500 से ज्यादा सामाजिक प्रोजेक्ट पूर्ण किये जा सकते है.. ये रकम इतनी ज्यादा है कि अगर हर भारतीय को 2000 रुपये हर महीने भी दिए जाये तो 60 साल तक ख़त्म ना हो. यानी भारत को किसी वर्ल्ड बैंक से लोन लेने कि कोई जरुरत नहीं है.. जरा सोचिये ... हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और नोकरशाहों ने कैसे देश को लूटा है और ये लूट का सिलसिला अभी तक 2011 तक जारी है.. इस सिलसिले को अब रोकना बहुत ज्यादा जरूरी हो गया है.. अंग्रेजो ने हमारे भारत पर करीब 200 सालो तक राज करके करीब 1 लाख करोड़ रुपये लूटा. मगर आजादी के केवल 64 सालों में हमारे भ्रस्टाचार ने 280 लाख करोड़ लूटा है. एक तरफ 200 साल में 1 लाख करोड़ है  और दूसरी तरफ केवल 64 सालों में 280 लाख करोड़ है. यानि हर साल लगभग 4.37 लाख करोड़, या हर महीने करीब 36 हजार करोड़ भारतीय मुद्रा स्विस बैंक में इन भ्रष्ट लोगों द्वारा जमा करवाई गई है.. भारत को किसी वर्ल्ड बैंक के लोन की कोई दरकार नहीं है. सोचो की कितना पैसा हमारे भ्रष्ट राजनेताओं और उच्च अधिकारीयों ने ब्लाक करके रखा हुआ है.. हमे भ्रस्ट राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारीयों के खिलाफ जाने का पूर्ण अधिकार है.. हाल ही में हुवे घोटालों का आप सभी को पता ही है - CWG घोटाला, २ जी स्पेक्ट्रुम घोटाला , आदर्श होउसिंग घोटाला .. और ना जाने कौन कौन से घोटाले  अभी उजागर होने वाले है ..और एक आन्दोलन बन जाये



(भ्रष्टाचार पर एन विट्ठल, किरण बेदी, एपीजे अब्दुल कलाम की राय)


एन विट्ठल (पूर्व केंद्रीय सतर्कता आयुक्त) :-


भ्रष्टाचार समाज में कैंसर की तरह है और इससे देश को व्यापक नुकसान हो रहा है।
भ्रष्टाचार के खिलाफ आम नागरिकों में रोष भी है। सभी इसके बारे में चर्चा करते हैं,
लेकिन कोई कुछ करने की स्थिति में नहीं है।


किरण बेदी (पूर्व आईपीएस अधिकारी):-

भारत में सफेदपोश अपराधी ही भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। जितना बड़ा अपराध और
अपराधी होता है उसके बचने की संभावना भी उतनी ही ज्यादा होती है।

एपीजे अब्दुल कलाम (पूर्व राष्ट्रपति):-

भ्रष्टाचार कैंसर की तरह देश को निगल रहा है और अब इसकी तत्काल कीमोथेरेपी किए जाने की आवश्यकता है।
भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाना आज सबसे बड़ी चुनौती है और इसके लिए युवाओं को आगे आना होगा।
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
कहानी एक अनुभव की....Rishi by Rishi Agarwal in General Stories
Dua.............Rishi by Rishi Agarwal in Shayri for Khumar -e- Ishq
Ek Pal................Rishi by Rishi Agarwal in Shayri for Khumar -e- Ishq
Her Pal............Rishi by Rishi Agarwal in Shayri for Khumar -e- Ishq « 1 2  All »
बहूत खूबसूरत हो तुम............Rishi by Rishi Agarwal in Share:Miscellaneous Shayari
Intezar
Guest
«Reply #1 on: February 28, 2011, 07:32:04 PM »
shukriya aapne share kiya....

Intezar !
Logged
Rishi Agarwal
Guest
«Reply #2 on: March 01, 2011, 12:46:36 PM »
shukriya aapne share kiya....

Intezar !

Shukriya Mat Bolo Intezar Is Ke Liye Ye Bahut Important Baat Hai Jo Hum Sab Ko Milkar Is Baat Ke Liye Sochana  Chahiye
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 11, 2020, 04:26:56 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 11, 2020, 03:32:55 PM]

[July 11, 2020, 03:22:11 PM]

[July 11, 2020, 03:21:00 PM]

[July 11, 2020, 03:20:05 PM]

[July 11, 2020, 03:19:07 PM]

[July 11, 2020, 03:17:57 PM]

[July 11, 2020, 03:14:47 PM]

[July 11, 2020, 03:12:19 PM]

[July 11, 2020, 03:09:56 PM]

[July 11, 2020, 03:08:35 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.235 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 8384 Real Poets and poetry admirer