मेरी सांसों में यही दहशत समाई रहती है ....Kavi Deepak Sharma

by kavyadharateam on March 28, 2009, 07:29:27 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 1061 times)
kavyadharateam
Guest
Reply with quote
मेरी सांसों में यही दहशत समाई रहती है
मज़हब से कौमें बँटी तो वतन का क्या होगा।
यूँ ही खिंचती रही दीवार ग़र दरम्यान दिल के
तो सोचो हश्र क्या कल घर के आँगन का होगा।
जिस जगह की बुनियाद बशर की लाश पर ठहरे
वो कुछ भी हो लेकिन ख़ुदा का घर नहीं होगा।
मज़हब के नाम पर कौ़में बनाने वालों सुन लो तुम
काम कोई दूसरा इससे ज़हाँ में बदतर नहीं होगा।
मज़हब के नाम पर दंगे, सियासत के हुक्म पे फितन
यूँ ही चलते रहे तो सोचो, ज़रा अमन का क्या होगा।
अहले-वतन शोलों के हाथों दामन न अपना दो
दामन रेशमी है "दीपक" फिर दामन का क्या होगा।
@कवि दीपक शर्मा
इस सन्देश को भारत के जन मानस तक पहुँचाने मे सहयोग दे.ताकि इस स्वस्थ समाज की नींव रखी जा सके और आवाम चुनाव मे सोच कर मतदान करे.
काव्यधारा टीम
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 09, 2020, 01:43:40 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 09, 2020, 11:47:58 AM]

[August 09, 2020, 11:47:40 AM]

[August 09, 2020, 11:47:36 AM]

[August 09, 2020, 11:47:32 AM]

[August 09, 2020, 11:47:28 AM]

[August 09, 2020, 11:47:16 AM]

[August 09, 2020, 11:42:28 AM]

[August 09, 2020, 11:01:50 AM]

[August 09, 2020, 10:51:27 AM]

[August 09, 2020, 10:49:51 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.196 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 8388 Real Poets and poetry admirer