क्षणिकाएं(राम शिरोमणि पाठक)

by ramspathak on October 28, 2013, 12:45:19 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 315 times)
ramspathak
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 9
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
14 hours and 42 minutes.

Posts: 76
Member Since: Apr 2013


View Profile
Reply with quote
१-मीठा ज़हर

आज फिर खाली हाथ लौटा घर को
मायूसी का जंगल उग आया है
चारों तरफ
फिर भी मै
हँस के पी जाता हूँ दर्द का मीठा ज़हर

२- एहसान

एक एहसान कर दो
जाते जाते
समेट कर ले जाओ अपनी यादें ।
आज जी भर कर सोना है मुझे

३-महान

सम्मान बेचकर भी
ह्रदय अब तक स्पंदित है
आप महान हो

४-तकिया

अब बहुत अच्छी नींद आती है मुझे
पता है क्यूँ?
दर्द को ही तकिया बना लिया मैंने

५-हँसी

तुम्हारे आने और जाने के बीच
बहुत कुछ गुजरता है मुझसे होकर
और एक गुप्त बात बताऊँ आपको
आप की हँसी को मैंने
किताब के पन्नों में दबा रखा हूँ
बस उसे ही उलटता पलटता रहता हूँ

६-देखा है मैंने

टूटी झाडू से
साफ़ करता रहा
सभ्य लोगों द्वारा की गयी गन्दगी
केवल!चंद सिक्कों के लिए

७-ऐसा न करो

दिल तेरा पत्थर का माना
मुझसे प्यार भी नहीं माना
मगर जाते -जाते
मेरे कपडे न उतार
*********************
राम शिरोमणि पाठक"दीपक"
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 5 hours and 31 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #1 on: October 28, 2013, 02:16:30 AM »
Reply with quote
bahut sunder
Logged
Dineshkumarjonty
Khususi Shayar
*****

Rau: 6
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
13 days, 11 hours and 31 minutes.
ashko ka samander mile zaha to samajna humara hi hai......

Posts: 994
Member Since: Apr 2013


View Profile
«Reply #2 on: October 28, 2013, 02:44:01 AM »
Reply with quote
insaan

aakhe band ho to hakikat ko badlna chahta hai
khooli ho to use apna nahi pata hai
zindgi sahi se jini aati nahi
ar zindgi ko ajeeb batata hai.
Logged
Dineshkumarjonty
Khususi Shayar
*****

Rau: 6
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
13 days, 11 hours and 31 minutes.
ashko ka samander mile zaha to samajna humara hi hai......

Posts: 994
Member Since: Apr 2013


View Profile
«Reply #3 on: October 28, 2013, 02:47:50 AM »
Reply with quote
kya baat hai great sir maine bhi try kiya par kuchh dhang ka nahi bana paya
Logged
zarraa
Yoindian Shayar
******

Rau: 96
Offline Offline

Waqt Bitaya:
8 days, 1 hours and 2 minutes.
Posts: 2111
Member Since: May 2012


View Profile
«Reply #4 on: October 28, 2013, 02:53:51 AM »
Reply with quote
Waah bahaut sundar likha hai Ram ji .... badhaiyaan
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 114
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 9 hours and 7 minutes.
Posts: 13689
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #5 on: October 28, 2013, 05:02:53 AM »
Reply with quote
very nice
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 53 minutes.

Posts: 6546
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #6 on: October 28, 2013, 05:13:41 AM »
Reply with quote
१-मीठा ज़हर

आज फिर खाली हाथ लौटा घर को
मायूसी का जंगल उग आया है
चारों तरफ
फिर भी मै
हँस के पी जाता हूँ दर्द का मीठा ज़हर

२- एहसान

एक एहसान कर दो
जाते जाते
समेट कर ले जाओ अपनी यादें ।
आज जी भर कर सोना है मुझे

३-महान

सम्मान बेचकर भी
ह्रदय अब तक स्पंदित है
आप महान हो

४-तकिया

अब बहुत अच्छी नींद आती है मुझे
पता है क्यूँ?
दर्द को ही तकिया बना लिया मैंने

५-हँसी

तुम्हारे आने और जाने के बीच
बहुत कुछ गुजरता है मुझसे होकर
और एक गुप्त बात बताऊँ आपको
आप की हँसी को मैंने
किताब के पन्नों में दबा रखा हूँ
बस उसे ही उलटता पलटता रहता हूँ

६-देखा है मैंने

टूटी झाडू से
साफ़ करता रहा
सभ्य लोगों द्वारा की गयी गन्दगी
केवल!चंद सिक्कों के लिए

७-ऐसा न करो

दिल तेरा पत्थर का माना
मुझसे प्यार भी नहीं माना
मगर जाते -जाते
मेरे कपडे न उतार
*********************
राम शिरोमणि पाठक"दीपक"


bahot achchche muktak hain Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
MANOJ6568
Khaas Shayar
**

Rau: 28
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 17 hours and 59 minutes.

Astrologer & Shayer

Posts: 10037
Member Since: Feb 2010


View Profile
«Reply #7 on: October 28, 2013, 10:55:15 AM »
Reply with quote
१-मीठा ज़हर

आज फिर खाली हाथ लौटा घर को
मायूसी का जंगल उग आया है
चारों तरफ
फिर भी मै
हँस के पी जाता हूँ दर्द का मीठा ज़हर

२- एहसान

एक एहसान कर दो
जाते जाते
समेट कर ले जाओ अपनी यादें ।
आज जी भर कर सोना है मुझे

३-महान

सम्मान बेचकर भी
ह्रदय अब तक स्पंदित है
आप महान हो

४-तकिया

अब बहुत अच्छी नींद आती है मुझे
पता है क्यूँ?
दर्द को ही तकिया बना लिया मैंने

५-हँसी

तुम्हारे आने और जाने के बीच
बहुत कुछ गुजरता है मुझसे होकर
और एक गुप्त बात बताऊँ आपको
आप की हँसी को मैंने
किताब के पन्नों में दबा रखा हूँ
बस उसे ही उलटता पलटता रहता हूँ

६-देखा है मैंने

टूटी झाडू से
साफ़ करता रहा
सभ्य लोगों द्वारा की गयी गन्दगी
केवल!चंद सिक्कों के लिए

७-ऐसा न करो

दिल तेरा पत्थर का माना
मुझसे प्यार भी नहीं माना
मगर जाते -जाते
मेरे कपडे न उतार
*********************
राम शिरोमणि पाठक"दीपक"
nice one
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
February 27, 2020, 05:37:04 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[February 27, 2020, 03:58:46 AM]

[February 27, 2020, 12:40:09 AM]

[February 26, 2020, 10:21:25 PM]

[February 26, 2020, 10:06:20 PM]

[February 26, 2020, 10:05:41 PM]

[February 26, 2020, 10:05:03 PM]

[February 26, 2020, 10:00:16 PM]

[February 26, 2020, 09:58:17 PM]

[February 26, 2020, 09:51:37 PM]

[February 26, 2020, 09:50:56 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.162 seconds with 23 queries.
[x] Join now community of 48462 Real Poets and poetry admirer