दूर तलक तक प्रभा प्रकास

by Prabha prakas on August 14, 2015, 11:11:05 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 514 times)
Prabha prakas
Khususi Shayar
*****

Rau: 24
Offline Offline

Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 28 minutes.
Posts: 961
Member Since: Feb 2015


View Profile
अजीब से मयाबी रहस्य में डूबा हैं,
झिलमिलाता कितने पर्दों के पीछे छुपा हैं,
फलक तक छाता-छूता एक रहस्य हैं,
धीरे-धीरे घेर रहा हैं,
मन को मेरे सिहरा-सिहरा जाता हैं ,
दिल रुक-ठहर जाता हैं,
दूर तलक तक
अर्श खोल के देखना चाहती हु,
पर क्या कभी क्षितिज खोल पाउंगी ?
धरती के अंतिम छोर तक
मौन की अथाह गहराई में डूबा हैं,
गहराईयो में मन को खींचता हैं,
एक लिहाफ़ में छिपा-सा,
हवा में उडाता-सा,
साँय-साँय करता-सा,
चला आता दिल पर दस्तक देता-सा।
प्रभा प्रकास
Logged
qalb
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
41 days, 21 hours and 16 minutes.
Posts: 7189
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #1 on: August 14, 2015, 12:05:32 PM »
अजीब से मयाबी रहस्य में डूबा हैं,
झिलमिलाता कितने पर्दों के पीछे छुपा हैं,
फलक तक छाता-छूता एक रहस्य हैं,
धीरे-धीरे घेर रहा हैं,
मन को मेरे सिहरा-सिहरा जाता हैं ,
दिल रुक-ठहर जाता हैं,
दूर तलक तक
अर्श खोल के देखना चाहती हु,
पर क्या कभी क्षितिज खोल पाउंगी ?
धरती के अंतिम छोर तक
मौन की अथाह गहराई में डूबा हैं,
गहराईयो में मन को खींचता हैं,
एक लिहाफ़ में छिपा-सा,
हवा में उडाता-सा,
साँय-साँय करता-सा,
चला आता दिल पर दस्तक देता-सा।
प्रभा प्रकास


 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
Umrav Jan Sikar
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 7
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
2 days, 4 hours and 11 minutes.

Posts: 298
Member Since: May 2015


View Profile
«Reply #2 on: August 14, 2015, 12:22:42 PM »
अजीब से मयाबी रहस्य में डूबा हैं,
झिलमिलाता कितने पर्दों के पीछे छुपा हैं,
फलक तक छाता-छूता एक रहस्य हैं,
धीरे-धीरे घेर रहा हैं,
मन को मेरे सिहरा-सिहरा जाता हैं ,
दिल रुक-ठहर जाता हैं,
दूर तलक तक
अर्श खोल के देखना चाहती हु,
पर क्या कभी क्षितिज खोल पाउंगी ?
धरती के अंतिम छोर तक
मौन की अथाह गहराई में डूबा हैं,
गहराईयो में मन को खींचता हैं,
एक लिहाफ़ में छिपा-सा,
हवा में उडाता-सा,
साँय-साँय करता-सा,
चला आता दिल पर दस्तक देता-सा।
प्रभा प्रकास

बहुत सुन्दर रचना।
Logged
Prabha prakas
Khususi Shayar
*****

Rau: 24
Offline Offline

Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 28 minutes.
Posts: 961
Member Since: Feb 2015


View Profile
«Reply #3 on: August 14, 2015, 02:21:44 PM »
Shukriya Umrav Jan ji
Logged
Prabha prakas
Khususi Shayar
*****

Rau: 24
Offline Offline

Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 28 minutes.
Posts: 961
Member Since: Feb 2015


View Profile
«Reply #4 on: August 14, 2015, 02:22:21 PM »
Shukriya qalb ji
Logged
jeet jainam
Khaas Shayar
**

Rau: 237
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
60 days, 9 hours and 9 minutes.

my rule no type no life and ,i m happy single

Posts: 10150
Member Since: Dec 2012


View Profile WWW
«Reply #5 on: August 16, 2015, 06:52:38 PM »
waah waah bohat khubsurat prabha ji waaaaaahhhhhhh
Logged
Prabha prakas
Khususi Shayar
*****

Rau: 24
Offline Offline

Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 28 minutes.
Posts: 961
Member Since: Feb 2015


View Profile
«Reply #6 on: August 20, 2015, 09:54:42 AM »
Shukriya jeet ji
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 18, 2019, 04:26:38 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.152 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48387 Real Poets and poetry admirer