धुएं से धुआं हुई है जिंदगी आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on April 16, 2021, 12:15:43 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 654 times)
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 69
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
30 days, 18 hours and 41 minutes.

Posts: 4960
Member Since: Oct 2010


View Profile
Reply with quote
धुएँ से धुआँ हुई है,अब जिंदगी ,
तम्बाकू से बर्बाद हुई है जिंदगी |
बचना चाहते हो अगर तुम इससे ,
तम्बाकू छोड़ो बचा लो ये जिंदगी ||

धुआँ राख़ कर रहा है ये जिंदगी ,
मिला रहा है ये ख़ाक में जिंदगी |
बंद करो उड़ाना तुम इस धुएँ को ,
वरना ख़त्म हो जायेगी ये जिंदगी ||

धुएँ से धुँधली हो रही है ये जिंदगी ,
अपने आग़ोश में ले रहा है जिंदगी |
मौत को बुला ले किसी को पता नहीं ,
धुएँ से बचा लो अपनी ये जिंदगी ||

जिसने दिया तम्बाकू को निमंत्रण ,
उसको आ गया मौत का निमत्रण |
कैसे बचोगे तुम इस निमंत्रण से।
बस कर लो तम्बाकू पर नियत्रण ||

धुएँ को इस धरा से अब हटाना है ,
धुएँ से विश्व को मुक्त अब कराना है |
जब तक धुआँ रहेगा इस भू पर ,
तब तक मृत्यु को निकट आना है ||

आर के रस्तोगी गुरुग्राम
Logged
surindarn
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 273
Offline Offline

Waqt Bitaya:
134 days, 2 hours and 27 minutes.
Posts: 31520
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: April 16, 2021, 01:39:02 PM »
Reply with quote
धुएँ से धुआँ हुई है,अब जिंदगी ,
तम्बाकू से बर्बाद हुई है जिंदगी |
बचना चाहते हो अगर तुम इससे ,
तम्बाकू छोड़ो बचा लो ये जिंदगी ||

धुआँ राख़ कर रहा है ये जिंदगी ,
मिला रहा है ये ख़ाक में जिंदगी |
बंद करो उड़ाना तुम इस धुएँ को ,
वरना ख़त्म हो जायेगी ये जिंदगी ||

धुएँ से धुँधली हो रही है ये जिंदगी ,
अपने आग़ोश में ले रहा है जिंदगी |
मौत को बुला ले किसी को पता नहीं ,
धुएँ से बचा लो अपनी ये जिंदगी ||

जिसने दिया तम्बाकू को निमंत्रण ,
उसको आ गया मौत का निमत्रण |
कैसे बचोगे तुम इस निमंत्रण से।
बस कर लो तम्बाकू पर नियत्रण ||

धुएँ को इस धरा से अब हटाना है ,
धुएँ से विश्व को मुक्त अब कराना है |
जब तक धुआँ रहेगा इस भू पर ,
तब तक मृत्यु को निकट आना है ||

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Bahut achhaaa ehsaas hai, dheron daad.
 Thumbs UP Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 69
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
30 days, 18 hours and 41 minutes.

Posts: 4960
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #2 on: April 16, 2021, 06:22:56 PM »
Reply with quote
श्री सुरेंद्रन जी शुक्रिया
Logged
surindarn
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 273
Offline Offline

Waqt Bitaya:
134 days, 2 hours and 27 minutes.
Posts: 31520
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #3 on: April 16, 2021, 10:11:54 PM »
Reply with quote
श्री सुरेंद्रन जी शुक्रिया
You are welcome.
Logged
nandbahu
Mashhur Shayar
***

Rau: 122
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
20 days, 2 hours and 15 minutes.
Posts: 14540
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #4 on: April 18, 2021, 12:22:09 AM »
Reply with quote
बहुत सुंदर, समाज की वविशेषकर युवाओं में बढ़ती प्रवृति पर लिखा है।
Logged
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 69
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
30 days, 18 hours and 41 minutes.

Posts: 4960
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #5 on: April 18, 2021, 07:04:33 AM »
Reply with quote
shri Bahukhandi ji shukriya
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 08, 2022, 12:44:18 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 06, 2022, 12:57:55 PM]

[August 06, 2022, 12:57:05 PM]

[August 05, 2022, 06:12:55 AM]

by ass
[August 04, 2022, 11:32:44 AM]

[August 04, 2022, 03:12:09 AM]

[August 04, 2022, 03:09:55 AM]

[August 04, 2022, 03:07:30 AM]

[August 04, 2022, 03:06:42 AM]

[August 03, 2022, 03:17:25 PM]

[August 01, 2022, 07:51:14 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.117 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 8450 Real Poets and poetry admirer