कहनी है एक बात मुझे,देश के युवाओं से --आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on November 03, 2019, 08:57:12 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 54 times)
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 62
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
27 days, 23 hours and 33 minutes.

Posts: 4167
Member Since: Oct 2010


View Profile
कहनी है एक बात मुझे,देश के सभी युवाओं से |
छीन लो सत्ता की बागडोर,इन भ्रष्ट नेताओ से ||

काले कारनामे ये करते है,देश का हित नहीं सोचते है |
पहले अपनी ये जेबे भरते,फिर रिश्तेदारों की भरते है ||

संसद में ये जाकर,वहाँ भी कुछ करना नहीं चाहते है |
केवल गाली गलोच करके,ये कीचड़ ही उछाला करते है ||

सफेद कुर्ता पजामा पहन कर,काले कारनामे ये करते है |
रिश्वत खा खा करके, ये अपना ही पेट बढाया करते है ||

एक बार जब सत्ता मिल जाती,देश के मालिक बन जाते है |
परिवारवाद को बढ़ावा देकर,बेटे बेटियों को सत्ता में लाते है ||

करोड़ो की संपत्ति इनके पास है,पूछो ये कहाँ से लाये है |
केवल गरीबो का पेट काटकर,ये अथाह संपत्ति बनाये है ||

ये देश के असली गुनाहगार है,देश का भी सौदा करते है |
आंतकवादियो को पनाह देकर,देश की जनता को मरवाते है ||

काला मुहँ करके इनका तुम,इनको गधे पर बिठाओ तुम |
जूते की माला गले में डालकर,सारे शहरो में घुमाओ तुम ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)
मो 9971006425
 
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
November 15, 2019, 06:02:12 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[November 15, 2019, 10:44:15 AM]

[November 15, 2019, 10:03:21 AM]

[November 15, 2019, 06:22:44 AM]

[November 15, 2019, 12:04:11 AM]

[November 15, 2019, 12:00:25 AM]

[November 14, 2019, 11:58:36 PM]

[November 14, 2019, 11:57:14 PM]

[November 14, 2019, 11:56:38 PM]

[November 14, 2019, 11:55:55 PM]

[November 14, 2019, 11:40:41 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.167 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48405 Real Poets and poetry admirer