किस्सा कुर्सी का --आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on November 07, 2019, 10:16:24 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 114 times)
Ram Krishan Rastogi
Umda Shayar
*

Rau: 62
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 11 hours and 45 minutes.

Posts: 4254
Member Since: Oct 2010


View Profile
जब चुनाव सयुक्त रूप से लड़ा था,
फिर सत्ता में सयुक्त क्यों नही रहते हो ?
दोनों ही सी एम की कुर्सी के भूखे हो ,
फिर जनता को क्यों बेवकूफ़ बनाते हो ||

केवल किस्सा एक सी एम कुर्सी का है ,
दोनों ने महाराष्ट में महासंग्राम मचाया है |
अपनी आपनो ढपली लेकर तुमने,
दोनों ने बेसुरा अलाप ही गाया है ||

देश हित नहीं है खून में तुम्हारे,
तुम दोनों ही सत्ता के भूखे हो |
जनता का क्या हित तुम करोगे,
जब आपस में दोनों तुम रूखे हो ||

अभी समय है तुम बदल जाओ,
वर्ना जनता तुमको बदल देगी |
अगले चुनाव में तुम दोनों को,
सत्ता से ही बे दखल कर देगी ||

सी एम की कुर्सी की चार टाँगे है,
फिफ्टी फिफ्टी चाहते हो तुम |
दो टांग की कुर्सी पर कैसे बैठोगे ?
जरा अक्ल से ये सोचो तुम ||

दोनों ही राष्टवादी बनते हो तुम,
राष्ट नही महाराष्ट में रहते तुम |
राष्ट भावना नहीं तुम्हारे मन में,
जब आपस में ही लड़ते हो तुम ||

लौट रहा है महाभारत का समय,  
फिर से तुम्हारे महाराष्ट राज्य में |
कौरव-पांडव की तरह लड़ रहे हो,
भाजपा शिव सेना इस महाराष्ट में ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)
मो 9971006425  


 
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 06, 2020, 09:17:11 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 06, 2020, 06:45:06 PM]

[June 06, 2020, 06:14:56 PM]

[June 06, 2020, 02:42:32 PM]

[June 06, 2020, 02:39:58 PM]

[June 06, 2020, 02:38:48 PM]

[June 06, 2020, 02:36:54 PM]

[June 06, 2020, 02:35:05 PM]

[June 06, 2020, 02:33:35 PM]

[June 06, 2020, 02:32:30 PM]

[June 06, 2020, 02:31:18 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.184 seconds with 23 queries.
[x] Join now community of 12605 Real Poets and poetry admirer