करीब

by anjaanajnabi on June 07, 2010, 04:31:17 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 744 times)
anjaanajnabi
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
23 hours and 6 minutes.
Posts: 140
Member Since: Feb 2010


View Profile
Reply with quote
न जाने वो मेरे करीब कैसे आ गए
एक क्षण भी न लगा  उनको दिल में समाने में
 
और भी तो थे ज़माने में
फिर मुझे ही क्यों खिंच लाये मैखाने में
 
इतना पिलाया हैं उन्होंने होठों से
की जाम झलकने लगा   है इन आँखों से

खूबसूरत हो गया है मेरा हर एक पल
शायद इसलिए मज़ा आता है साकी तुझको पिलाने में

मोहब्बत ही बसी है हर जर्रे जर्रे में
दर्द ही पाया है हर बार उसे जलाने में

जिन झपकियों से दूर था तू "अंजान"
आज वही काम आ रही हैं  तुझे सपने दिखाने में
Logged
MANOJ6568
Khaas Shayar
**

Rau: 28
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 5 hours and 43 minutes.

Astrologer & Shayer

Posts: 9814
Member Since: Feb 2010


View Profile
«Reply #1 on: June 07, 2010, 10:21:00 PM »
Reply with quote
न जाने वो मेरे करीब कैसे आ गए
एक क्षण भी न लगा  उनको दिल में समाने में
 
और भी तो थे ज़माने में
फिर मुझे ही क्यों खिंच लाये मैखाने में
 
इतना पिलाया हैं उन्होंने होठों से
की जाम झलकने लगा   है इन आँखों से

खूबसूरत हो गया है मेरा हर एक पल
शायद इसलिए मज़ा आता है साकी तुझको पिलाने में

मोहब्बत ही बसी है हर जर्रे जर्रे में
दर्द ही पाया है हर बार उसे जलाने में

जिन झपकियों से दूर था तू "अंजान"
आज वही काम आ रही हैं  तुझे सपने दिखाने में


NICE
Logged
~Hriday~
Poetic Patrol
Mashhur Shayar
***

Rau: 114
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
101 days, 2 hours and 59 minutes.

kalam k chalne ko zamaana paagalpan samajhta hai.

Posts: 16238
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #2 on: June 15, 2010, 04:41:38 AM »
Reply with quote
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley

Bahut khoob likha hai aapne Anjaan ji... bahut khoob...!!!
Logged
Ghulam Haider
Maqbool Shayar
****

Rau: 12
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
6 days, 14 hours and 11 minutes.
Posts: 425
Member Since: Sep 2008


View Profile
«Reply #3 on: June 16, 2010, 08:39:32 PM »
Reply with quote
न जाने वो मेरे करीब कैसे आ गए
एक क्षण भी न लगा  उनको दिल में समाने में
 
और भी तो थे ज़माने में
फिर मुझे ही क्यों खिंच लाये मैखाने में
 
इतना पिलाया हैं उन्होंने होठों से
की जाम झलकने लगा   है इन आँखों से

खूबसूरत हो गया है मेरा हर एक पल
शायद इसलिए मज़ा आता है साकी तुझको पिलाने में

मोहब्बत ही बसी है हर जर्रे जर्रे में
दर्द ही पाया है हर बार उसे जलाने में

जिन झपकियों से दूर था तू "अंजान"
आज वही काम आ रही हैं  तुझे सपने दिखाने में

Anjaanajnabi, Aapka Kalaam Bohot Khoobsoorat Hai.
Khayalaat Achhe Hain,
Mujhe Ummeed Hai Ke Agar Aap Koshish Kren to Aazaad Shayeri Ke Alava Achhi Ghazal Bhi Keh Sakte Hain
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 24, 2019, 08:28:04 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 24, 2019, 04:06:19 AM]

[August 24, 2019, 03:13:42 AM]

[August 23, 2019, 11:41:04 PM]

[August 23, 2019, 11:33:09 PM]

[August 23, 2019, 11:31:29 PM]

[August 23, 2019, 11:30:06 PM]

[August 23, 2019, 11:28:21 PM]

[August 23, 2019, 11:25:14 PM]

[August 23, 2019, 11:24:33 PM]

[August 23, 2019, 09:59:39 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.152 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer