प्रेम-तत्त्व

by devanshukashyap on February 25, 2011, 07:19:08 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 797 times)
devanshukashyap
Newbie


Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
1 hours and 33 minutes.
Posts: 8
Member Since: Feb 2011


View Profile
Reply with quote

इस धरा पे मैं फिर जन्मा हूँ
मुझे उस तत्त्व कि तलाश है,
जो है सौम्य, अति मनभावन,
जो इस सृष्टि में विद्यमान है |

सोचता रहता हूँ क्या है वो
जिसे पाने पुनः अवतरित हुआ हूँ,
क्या वह वस्तु है? या कोइ भाव है?
सर्वत: जिससे वांछित रहा हूँ |

घोर नियम धर कड़ी तपस्या
क्यों ना मेरी फलीभूत हुई?
क्यूँ आया मैं इस धरा पे फिर से
क्यूँ ना मेरी परिपूर्ति हुई ?

सहसा हुई नुपुरों कि छन छन
अब वाम कोष झंकृत हुआ,
आती दिखी प्रियतमा मुझे तुम
इस सृष्टि का सार सार्थक हुआ |

नमन है तुमको हे वामांगी
बस तुम्हारी ही तलाश थी
युगों युगों से भूला था जिसे
सर्वत: मेरे तुम विद्यमान थी |

ज्ञात हुआ है अब यह मुझको
प्रेम ही सार है इस जीवन का ,
जो है परम सत्य, अति पावन
जो है परम तत्त्व इस जग का |

इस सृष्टि का अणु परमाणु
प्रीत द्वार का रागी है,
नभ के सूरज चाँद – सितारे
इस बात के साक्षी हैं |

गौलोक के मेरे स्वामी
राधा संग ही पूरण हैं ,
जब तक स्मरें ना हम राधे को
तब तक वे ना आते हैं |

स्पर्श तेरा करने जब आया
छम से घुल गई व्योम में तुम,
जागृत हुई मुझमें अब मृगतृष्णा
जिसकी तृप्ति थी केवल तुम |

बन हठयोगी अब मैं हठ साधी
तेरी प्राप्ति कि अब धुन लागी,
पावन राम नाम माला धर
तव नाम का हो गया मैं वैरागी |

प्रतिदिन प्रतिपल हर इक श्वास ले
नाम तेरा जपता रहता हूँ,
संजोग दिवस के मधुर क्षणों का
नित चिंतन करता रहता हूँ |

हर उद्यान के हर इक पुष्प में
तेरे मुख का दर्शन है ,
सुंदर निश्चल मधुर खगोँ का,
राग तेरा ही दर्पण है |

चहुँ दिशा से बहती वायु
स्पर्श तेरा मुझे करवाती है,
और इस मंद पवना के शुभ कर
प्रेम कलश तेरा छलकातीं है |

अब तक नैन टिकाये हूँ मैं
उस ही सुंदर से पथ पे ,
मेरे अवतरण के उत्तर हेतु
संजोग हुआ था जहाँ तुझसे |

सहस्त्र सूर्यों सी आभा जागी
आयी पुनः तुम उस पथ पे,
अब होगा तप मेरा परिपूरण
हमारे मिलन कि वेला पे |

हे प्रियतमा , हे अर्धांगिनी,
धन्य हो तुम यह तत्त्व धरे,
पुरुष तत्त्व की पूर्ति तुम करती,
यह ब्रह्मांड है तुमसे चले |

अति शीघ्र अब तुम आ जाओ
तनिक भी मत विलंब करो,
अपनी शक्ति का ‘इ’ मुझको दे,
शव से मुझे शिव कर दो |

अति शीघ्र अब तुम आ जाओ
तनिक भी मत विलंब करो,
अपनी शक्ति का ‘इ’ मुझको दे,
शव से मुझे शिव कर दो |

संकलित द्वारा :
देवांशु कश्यप
Logged
Nysha
WeCare
Umda Shayar
*

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
60 days, 12 hours and 59 minutes.

I Love Yoindia !

Posts: 8353
Member Since: Jan 2007


View Profile WWW
«Reply #1 on: February 26, 2011, 12:00:15 AM »
Reply with quote
Awesome Job Done !!!! Bahoot Uttam Devanshu ji !
Logged
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile
«Reply #2 on: February 26, 2011, 12:04:41 AM »
Reply with quote
Lajawab Likha Hai Aapne Devanshu JI
Logged
amit suffi
Guest
«Reply #3 on: February 26, 2011, 04:27:51 PM »
Reply with quote
aattma dhayan ka marag dikhati hai
taan ki bhokh rasta bhatkati hai
kayya karam kamane aatti hai
mayya uss ko loot kar le jatti hai.




jo dhondhe hai uss parbhu ko
aapna maan taan hai khoyye
jin gher poojan ko bette maa baap
wahi dar moksh hai hoyye.

                          amit suffi
Logged
kalsun
Newbie


Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
58 minutes.
Posts: 7
Member Since: Nov 2010


View Profile
«Reply #4 on: February 26, 2011, 09:55:13 PM »
Reply with quote
Awesome Job Done !!!! Bahoot Uttam Devanshu ji !
beautiful could not find words to celeberate this
Logged
devanshukashyap
Newbie


Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
1 hours and 33 minutes.
Posts: 8
Member Since: Feb 2011


View Profile
«Reply #5 on: February 27, 2011, 06:50:39 PM »
Reply with quote
@sophie, @rishi, @kalsun, @amit
Thankx a lot for ur appreciation and acceptance
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 22, 2019, 11:29:59 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[October 21, 2019, 07:34:07 PM]

[October 21, 2019, 07:32:59 PM]

[October 20, 2019, 01:01:17 AM]

[October 20, 2019, 01:01:10 AM]

[October 19, 2019, 02:15:17 PM]

[October 19, 2019, 01:58:58 PM]

[October 19, 2019, 01:57:48 PM]

[October 19, 2019, 01:34:20 PM]

[October 19, 2019, 01:32:35 PM]

[October 19, 2019, 12:54:52 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.152 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48390 Real Poets and poetry admirer