रात के ख्वाब जो दिन में देखने लगे ----आर के रस्तोगी

by Ram Krishan Rastogi on August 23, 2019, 08:58:07 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 65 times)
Ram Krishan Rastogi
Yoindian Shayar
******

Rau: 61
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
27 days, 18 hours and 28 minutes.

Posts: 4097
Member Since: Oct 2010


View Profile
रात के ख्वाब जो दिन में देखने लगे |
उन्ही को दिन में अब तारे दिखने लगे ||

खता करके पूछती हो,ऐसा मैंने क्या किया ?
नयनो से तीर चलाये थे,आशिक मरने लगे ||

तुम्हारा चेहरा आईने में कैसे दिखाई देता ?
चेहरा देखते ही,आयने के अंग फडकने लगे ||

हटाये जो गेसू,उसने अपने खूबसूरत चेहरे से |
लगा ऐसा किसी चमन में फूल खिलने लगे ||

आस्तीन के साँप छिपा रक्खे थे खुद आस्तीनों में |
फिर क्यों पूछती हो,ये साँप मुझे क्यों डसने लगे ||

भले ही सोना तप कर,खरा भी हो गया होगा |
पर खोटे सिक्के भी बख्त पर काम आने लगे ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)
Logged
surindarn
Sarparast ae Shayari
****

Rau: 258
Offline Offline

Waqt Bitaya:
97 days, 10 hours and 10 minutes.
Posts: 20237
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: August 23, 2019, 04:29:39 PM »
रात के ख्वाब जो दिन में देखने लगे |
उन्ही को दिन में अब तारे दिखने लगे ||

खता करके पूछती हो,ऐसा मैंने क्या किया ?
नयनो से तीर चलाये थे,आशिक मरने लगे ||

तुम्हारा चेहरा आईने में कैसे दिखाई देता ?
चेहरा देखते ही,आयने के अंग फडकने लगे ||

हटाये जो गेसू,उसने अपने खूबसूरत चेहरे से |
लगा ऐसा किसी चमन में फूल खिलने लगे ||

आस्तीन के साँप छिपा रक्खे थे खुद आस्तीनों में |
फिर क्यों पूछती हो,ये साँप मुझे क्यों डसने लगे ||

भले ही सोना तप कर,खरा भी हो गया होगा |
पर खोटे सिक्के भी बख्त पर काम आने लगे ||

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम (हरियाणा)

Applause Applause Applause
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
September 17, 2019, 11:54:10 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[September 16, 2019, 10:58:18 PM]

[September 16, 2019, 10:51:00 PM]

[September 16, 2019, 06:47:42 PM]

[September 16, 2019, 06:41:44 PM]

[September 16, 2019, 06:40:50 PM]

[September 16, 2019, 06:40:07 PM]

[September 16, 2019, 06:39:24 PM]

[September 16, 2019, 06:38:43 PM]

[September 16, 2019, 06:38:01 PM]

[September 16, 2019, 06:37:01 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.185 seconds with 54 queries.
[x] Join now community of 48362 Real Poets and poetry admirer