वो कहते हैं ............... आनंद मोहन

by anand mohan on August 19, 2014, 03:38:11 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 389 times)
anand mohan
Guest
वो कहते हैं -

उन्हें गम है मेरे जाने का,

पर भूले ना एक मौका

जश्न मनाने का ।

हर चोट पे तराशे जाएँ

हम वो पत्थर हैं,

उनका एहसान हमपे

ठोकरें लगाने का ।

हम तो समझे की वो

चाहत में मिले हम से गले

फिर ये जाना की बस

दस्तूर था दिखाने का ।

रंज दुनिया के सभी
हमने समेटे खुद में

ये मेरा शौक था ,

या गर्ज़ था जमाने का ।

दर्द के बोझ से ही

दिल मेरा धड़कता है,

सबों को शुक्रिया है,

दिल मेरा दुखाने का ।

------  आनंद मोहन
Logged
ambalika sharma
Guest
«Reply #1 on: August 19, 2014, 05:43:36 PM »
वो कहते हैं -

उन्हें गम है मेरे जाने का,

पर भूले ना एक मौका

जश्न मनाने का ।

हर चोट पे तराशे जाएँ

हम वो पत्थर हैं,

उनका एहसान हमपे

ठोकरें लगाने का ।

हम तो समझे की वो

चाहत में मिले हम से गले

फिर ये जाना की बस

दस्तूर था दिखाने का ।

रंज दुनिया के सभी
हमने समेटे खुद में

ये मेरा शौक था ,

या गर्ज़ था जमाने का ।

दर्द के बोझ से ही

दिल मेरा धड़कता है,

सबों को शुक्रिया है,

दिल मेरा दुखाने का ।

------  आनंद मोहन

bhut khoob....ehsason ko bakhubi tarasha hai apne
Logged
Imdad
Guest
«Reply #2 on: August 19, 2014, 07:24:14 PM »
Waaaaaah!
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 5 hours and 31 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #3 on: August 20, 2014, 12:53:10 AM »
bahut khoob
Logged
mann.mann
Yoindian Shayar
******

Rau: 113
Offline Offline

Waqt Bitaya:
22 days, 10 hours and 54 minutes.
Posts: 3703
Member Since: Aug 2011


View Profile
«Reply #4 on: August 20, 2014, 04:44:22 AM »
 Applause Applause Applause khub....
Logged
amit_prakash_meet
Guest
«Reply #5 on: August 20, 2014, 08:32:42 AM »
खूब कहा.....
Logged
marhoom bahayaat
Guest
«Reply #6 on: August 20, 2014, 03:18:29 PM »
वो कहते हैं -

उन्हें गम है मेरे जाने का,

पर भूले ना एक मौका

जश्न मनाने का ।

हर चोट पे तराशे जाएँ

हम वो पत्थर हैं,

उनका एहसान हमपे

ठोकरें लगाने का ।

हम तो समझे की वो

चाहत में मिले हम से गले

फिर ये जाना की बस

दस्तूर था दिखाने का ।

रंज दुनिया के सभी
हमने समेटे खुद में

ये मेरा शौक था ,

या गर्ज़ था जमाने का ।

दर्द के बोझ से ही

दिल मेरा धड़कता है,

सबों को शुक्रिया है,

दिल मेरा दुखाने का ।

------  आनंद मोहन


nice composition,sir
Logged
anand mohan
Guest
«Reply #7 on: August 20, 2014, 04:12:14 PM »
nice composition,sir
thanks for liking, marhoom sahab.
Logged
RAJAN KONDAL
Guest
«Reply #8 on: August 20, 2014, 05:57:34 PM »
bhot bhot umda
Logged
anand mohan
Guest
«Reply #9 on: August 21, 2014, 02:32:31 AM »
bhot bhot umda
shukriya Rajan sahab
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 07, 2020, 12:18:59 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 06, 2020, 10:50:57 PM]

[July 06, 2020, 10:49:30 PM]

[July 06, 2020, 10:44:11 PM]

[July 06, 2020, 10:42:26 PM]

[July 06, 2020, 10:41:11 PM]

[July 06, 2020, 10:39:13 PM]

[July 06, 2020, 10:37:47 PM]

[July 06, 2020, 10:35:53 PM]

[July 06, 2020, 10:33:38 PM]

[July 06, 2020, 10:32:17 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.191 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 8384 Real Poets and poetry admirer