उन्ही दरख्तों पर - By "Betaab".

by dksaxenabsnl on May 11, 2016, 06:48:33 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 480 times)
dksaxenabsnl
YOS Friend of the Month
Yoindian Shayar
*

Rau: 109
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
20 days, 17 hours and 4 minutes.

खुश रहो खुश रहने दो l

Posts: 4126
Member Since: Feb 2013


View Profile
Reply with quote
उन्ही दरख्तों पर पंछियों का बसेरा होगा,
जिनकी छाया में कोई अज़नबी ठहरा होगा.

कोशिशें लाख की पर उनके दिल तक न पहुँच पाये,
दिल तो उनका है पर किसी और का पहरा होगा.

कभी तन्हाई में मिलने की जुर्रत तो कीजिये,
या तभी मिलोगे जब मेला या दशहरा होगा.

उनकी बस्ती में क्यों आग लग गई "बेताब",
जरूर उनकी बस्ती में कोई दिलजला ठहरा होगा.


  Composed by D K Saxena "Betaab".
Logged
~Hriday~
Poetic Patrol
Mashhur Shayar
***

Rau: 114
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
101 days, 2 hours and 59 minutes.

kalam k chalne ko zamaana paagalpan samajhta hai.

Posts: 16238
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #1 on: May 12, 2016, 01:14:00 AM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
surindarn
Sarparast ae Shayari
****

Rau: 258
Online Online

Waqt Bitaya:
98 days, 49 minutes.
Posts: 20427
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #2 on: May 12, 2016, 01:59:37 AM »
Reply with quote
उन्ही दरख्तों पर पंछियों का बसेरा होगा,
जिनकी छाया में कोई अज़नबी ठहरा होगा.

कोशिशें लाख की पर उनके दिल तक न पहुँच पाये,
दिल तो उनका है पर किसी और का पहरा होगा.

कभी तन्हाई में मिलने की जुर्रत तो कीजिये,
या तभी मिलोगे जब मेला या दशहरा होगा.

उनकी बस्ती में क्यों आग लग गई "बेताब",
जरूर उनकी बस्ती में कोई दिलजला ठहरा होगा.


  Composed by D K Saxena "Betaab".
bahut umdah waah waah.
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
ahujagd
Maqbool Shayar
****

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
6 days, 20 minutes.
Posts: 837
Member Since: May 2005


View Profile
«Reply #3 on: May 12, 2016, 11:02:44 AM »
Reply with quote
उन्ही दरख्तों पर पंछियों का बसेरा होगा,
जिनकी छाया में कोई अज़नबी ठहरा होगा.

कोशिशें लाख की पर उनके दिल तक न पहुँच पाये,
दिल तो उनका है पर किसी और का पहरा होगा.

कभी तन्हाई में मिलने की जुर्रत तो कीजिये,
या तभी मिलोगे जब मेला या दशहरा होगा.

उनकी बस्ती में क्यों आग लग गई "बेताब",
जरूर उनकी बस्ती में कोई दिलजला ठहरा होगा.


  Composed by D K Saxena "Betaab".
Bahut khoob- shubhkaamnayen
Logged
shiverz
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 2
Offline Offline

Waqt Bitaya:
15 hours and 43 minutes.
Posts: 218
Member Since: Apr 2013


View Profile
«Reply #4 on: May 12, 2016, 03:29:36 PM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley

 Wah kya baat hai. Rau ke sath daad qabool karein.
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 53 minutes.

Posts: 6546
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #5 on: May 12, 2016, 03:59:46 PM »
Reply with quote
उन्ही दरख्तों पर पंछियों का बसेरा होगा,
जिनकी छाया में कोई अज़नबी ठहरा होगा.

कोशिशें लाख की पर उनके दिल तक न पहुँच पाये,
दिल तो उनका है पर किसी और का पहरा होगा.

कभी तन्हाई में मिलने की जुर्रत तो कीजिये,
या तभी मिलोगे जब मेला या दशहरा होगा.

उनकी बस्ती में क्यों आग लग गई "बेताब",
जरूर उनकी बस्ती में कोई दिलजला ठहरा होगा.


  Composed by D K Saxena "Betaab".


 Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Umrav Jan Sikar
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 7
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
2 days, 4 hours and 22 minutes.

Posts: 299
Member Since: May 2015


View Profile
«Reply #6 on: May 14, 2016, 07:15:52 AM »
Reply with quote
उन्ही दरख्तों पर पंछियों का बसेरा होगा,
जिनकी छाया में कोई अज़नबी ठहरा होगा.

कोशिशें लाख की पर उनके दिल तक न पहुँच पाये,
दिल तो उनका है पर किसी और का पहरा होगा.

कभी तन्हाई में मिलने की जुर्रत तो कीजिये,
या तभी मिलोगे जब मेला या दशहरा होगा.

उनकी बस्ती में क्यों आग लग गई "बेताब",
जरूर उनकी बस्ती में कोई दिलजला ठहरा होगा.


  Composed by D K Saxena "Betaab".

वाह वाह... बहुत सुन्दर
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
November 20, 2019, 12:54:46 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[November 20, 2019, 12:33:07 AM]

[November 20, 2019, 12:29:38 AM]

[November 20, 2019, 12:28:18 AM]

[November 20, 2019, 12:27:47 AM]

[November 20, 2019, 12:26:50 AM]

[November 20, 2019, 12:25:59 AM]

[November 20, 2019, 12:25:09 AM]

[November 19, 2019, 11:39:43 PM]

[November 19, 2019, 11:38:14 PM]

[November 19, 2019, 11:36:51 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.189 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 48407 Real Poets and poetry admirer