Delhi Gangrape- Ladai Zari Rahe ----Please share and forward

by kavyadharateam on December 24, 2012, 10:52:41 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 1247 times)
kavyadharateam
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 15
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
23 hours and 26 minutes.

Deepak Sharmaa

Posts: 215
Member Since: Sep 2008


View Profile WWW
Reply with quote
Delhi Gangrape- Ladai Zari Rahe ----Please share and forward
"इस तरह हुँकार दो कि आसमां भी काँप जाए
आवाम  की आवाज़ सुन निजाम सारा  थरथराये
 हौसलों  की आग़ से पिघला दो तख़्त -ओ -ताज को  
ज़म्हूरियत के मायने  नहीं लूट ले कोई लाज को
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए
मुजरिमों के जिस्म को फंदे से लटकना चाहिए .
 
इन्साफ की पुकार को इतना न लम्बा खीचिये
कानून की दुहाई मुंसिफ हर  जुर्म में न दीजिये
कुछ फैसले आज हुकुम सख्त-ओ-सख्त लीजिये  
समाज में इंसाफ की  तो एक पेश नज़ीर कीजिये  
खून है जो रग में तो फिर खून उबलना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
आवाम जब चिल्लाती है सरकारें पलट जाती हैं
सीमाएं सारी खौफ़ से दायरे में सिमट जाती हैं
हवाओं की ख़ामोशी का निजाम न इम्तिहान ले
खामोशियाँ नाराज़ हो तूफ़ान में बदल जाती हैं
सरकार का फ़रियाद से अब सीना दहलना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
देखना फिर आकर कोई बातों में उलझाने न पाए
झूठे कोरे वायदे ले कोई बिचोलिया  मनवाने न आये  
अपना ही कोई आदमी  देखो आग़  सुलगाने न पाए
अंजाम तक आने से पहले ये हौसला जाने न पाए
मौत के कदमों में मुजरिम सिर पटकना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
@ कवि  दीपक शर्मा
Logged
shubham goyal
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 1
Offline Offline

Waqt Bitaya:
4 hours and 51 minutes.
Posts: 291
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #1 on: December 24, 2012, 11:13:38 AM »
Reply with quote
waah waah
Logged
aqsh
Poetic Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 230
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
54 days, 3 hours and 29 minutes.

aqsh

Posts: 13034
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #2 on: December 24, 2012, 11:13:57 AM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
very true
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 2 hours and 32 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #3 on: December 24, 2012, 11:55:16 AM »
Reply with quote
bilkul bilkul
Logged
qalb
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
41 days, 21 hours and 16 minutes.
Posts: 7189
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #4 on: December 24, 2012, 01:52:29 PM »
Reply with quote
Delhi Gangrape- Ladai Zari Rahe ----Please share and forward
"इस तरह हुँकार दो कि आसमां भी काँप जाए
आवाम  की आवाज़ सुन निजाम सारा  थरथराये
 हौसलों  की आग़ से पिघला दो तख़्त -ओ -ताज को 
ज़म्हूरियत के मायने  नहीं लूट ले कोई लाज को
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए
मुजरिमों के जिस्म को फंदे से लटकना चाहिए .
 
इन्साफ की पुकार को इतना न लम्बा खीचिये
कानून की दुहाई मुंसिफ हर  जुर्म में न दीजिये
कुछ फैसले आज हुकुम सख्त-ओ-सख्त लीजिये 
समाज में इंसाफ की  तो एक पेश नज़ीर कीजिये 
खून है जो रग में तो फिर खून उबलना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
आवाम जब चिल्लाती है सरकारें पलट जाती हैं
सीमाएं सारी खौफ़ से दायरे में सिमट जाती हैं
हवाओं की ख़ामोशी का निजाम न इम्तिहान ले
खामोशियाँ नाराज़ हो तूफ़ान में बदल जाती हैं
सरकार का फ़रियाद से अब सीना दहलना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
देखना फिर आकर कोई बातों में उलझाने न पाए
झूठे कोरे वायदे ले कोई बिचोलिया  मनवाने न आये 
अपना ही कोई आदमी  देखो आग़  सुलगाने न पाए
अंजाम तक आने से पहले ये हौसला जाने न पाए
मौत के कदमों में मुजरिम सिर पटकना चाहिए
आज किसी भी हाल में नतीज़ा निकलना चाहिए .
 
@ कवि  दीपक शर्मा



 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
Logged
Kaushal Sharma
Maqbool Shayar
****

Rau: 5
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 18 hours and 42 minutes.
Posts: 849
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #5 on: December 24, 2012, 04:36:25 PM »
Reply with quote
Bilkul Bhai Aisa Hona Chahiye ..Superbbbbb Creaion Janhit Ki Is Rachna Par Rau Kabul Kijiyega Sahab.

 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 113
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 5 hours and 53 minutes.
Posts: 13632
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #6 on: December 26, 2012, 01:51:27 PM »
Reply with quote
wah wah
Logged
kavyadharateam
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 15
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
23 hours and 26 minutes.

Deepak Sharmaa

Posts: 215
Member Since: Sep 2008


View Profile WWW
«Reply #7 on: March 27, 2014, 09:44:54 PM »
Reply with quote
thnx for appreciation
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 18, 2019, 10:36:34 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 18, 2019, 09:19:51 PM]

[August 18, 2019, 05:38:08 AM]

[August 18, 2019, 04:58:41 AM]

[August 17, 2019, 11:56:42 PM]

[August 17, 2019, 11:22:11 PM]

[August 17, 2019, 11:21:25 PM]

[August 17, 2019, 11:20:22 PM]

[August 17, 2019, 11:19:49 PM]

[August 17, 2019, 11:18:34 PM]

[August 17, 2019, 11:18:00 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.193 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer