Nurse Aur Main....Sadiq Rizvi / नर्स और मैं......सादिक़ रिज़वी

by Sadiq Rizvi on October 09, 2011, 08:39:48 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 1190 times)
Sadiq Rizvi
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 16 hours and 38 minutes.

Posts: 143
Member Since: Sep 2011


View Profile
Reply with quote
तड़प तड़प के गुजारीं शबें न नींद आई
अजीब कर्ब के आलम में गुज़री तन्हाई

शिकम के दर्द ने साँसों की डोर तक तोड़ी
यहाँ तलक के सहर ने भी ले ली अंगड़ाई

परेशां 'जेनिफर', दिल से खयाल रखती है
ये नर्स सारे मरीजों की थी भी शैदाई

मरीज़ दर्द की शिद्दत चीखता है जब
तो एक माँ की तरह इनके दिल पे चोट आई

है पेशा नर्स का सच्ची हलाल की रोज़ी
मगर ज़माने ने बख्शी बस इनको रुसवाई

जो इनको मिलती है उजरत उसी में यह खुश हैं
न इनके दिल में कभी हिर्स ने जगह पाई

हैं सारी नर्सों की एक हेड नर्स वर्षा जी
शेफा भी इनकी ही शफ़क़त ने जल्द दिलवाई

नज़र की झील में एक फ़िक्र हो बसी जैसे
बहुत खमोश तबीयत 'मिनी' ने है पाई

'सुनी' को देता हूँ आवाज़ अनसुनी कहकर
हुई है हंस के मुखातिब हमेशा मुस्काई

'जिशा' ने मुझसे बताया की आप लक्की हैं
लहू जो थूके नहीं बचता वोह मेरे भाई

'सुनी' हो 'जूली' हो 'जेसी' हो या 'विजी' सिस्टर
इन्हीं के प्यार से 'सादिक़' ने ज़िन्दगी पाई

                       ---- सादिक़ रिज़वी

(मार्च २००२ में मुंबई के नानावती हस्पताल के हार्ट
इंस्टिट्यूट में इलाज के दौरान कही गयी नज़्म)
Logged
Satish Shukla
Khususi Shayar
*****

Rau: 50
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 5 hours and 5 minutes.

Posts: 1859
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #1 on: October 09, 2011, 09:02:05 PM »
Reply with quote

Sadiq Rizvi Sahab,

Waah janab kya baat hai bahut khoob
nazm kahi hai aapne.

Satish Shukla 'Raqeeb'
Logged
F.H.SIDDIQUI
General Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 528
Offline Offline

Waqt Bitaya:
66 days, 6 hours and 51 minutes.
Posts: 9946
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #2 on: October 09, 2011, 10:25:51 PM »
Reply with quote
               Welcome Banner


Wah Sadiq saheb.Unwaan se main samjha koi mazaahiya peshkash hai.Magar aap ne dard o karb,eesaar o chara gari ki eik khoobsurat tasweer pesh kar di.Mubarakbad,Shukriya aur iss Bazm mein aap ka pur tapaak khair maqdam...HASAN
Logged
ParwaaZ
WeCare
Umda Shayar
*

Rau: 34
Offline Offline

Waqt Bitaya:
66 days, 11 hours and 16 minutes.

Posts: 5624
Member Since: Aug 2010


View Profile WWW
«Reply #3 on: October 10, 2011, 12:19:55 AM »
Reply with quote
Sadiq Sahaab Aadaab!

Janab aapka YO ki mehfil meiN dil se khairmaqdam hai..
 Welcome Banner Welcome Banner Welcome Banner 

Janab kia khub nazm se nawaaza hai aapne.. Hum bhi nazm ke
unwaan se samajh rahe the ke ye kalaam koi mazahiyaa hoNgi
aur dil na chahte huye bhi isliye padh liye kyuN ke YO ki
tareeq meiN naya naam bhi judaa tha.. Usual Smile

Behad achchi nazm kahi hai aapne... aapki is nazm par dil se
hazaroN daad hazir hai...  Applause Applause Applause Applause Applause Applause

Likhate rahiye... Aate rahiye.. Bazm ko roshan karte rahiye..
Khush O aabaad rahiye,
Khuda Hafez... Usual Smile       

         
Logged
qalb
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
41 days, 21 hours and 16 minutes.
Posts: 7189
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #4 on: October 10, 2011, 10:57:01 AM »
Reply with quote
तड़प तड़प के गुजारीं शबें न नींद आई
अजीब कर्ब के आलम में गुज़री तन्हाई

शिकम के दर्द ने साँसों की डोर तक तोड़ी
यहाँ तलक के सहर ने भी ले ली अंगड़ाई

परेशां 'जेनिफर', दिल से खयाल रखती है
ये नर्स सारे मरीजों की थी भी शैदाई

मरीज़ दर्द की शिद्दत चीखता है जब
तो एक माँ की तरह इनके दिल पे चोट आई

है पेशा नर्स का सच्ची हलाल की रोज़ी
मगर ज़माने ने बख्शी बस इनको रुसवाई

जो इनको मिलती है उजरत उसी में यह खुश हैं
न इनके दिल में कभी हिर्स ने जगह पाई

हैं सारी नर्सों की एक हेड नर्स वर्षा जी
शेफा भी इनकी ही शफ़क़त ने जल्द दिलवाई

नज़र की झील में एक फ़िक्र हो बसी जैसे
बहुत खमोश तबीयत 'मिनी' ने है पाई

'सुनी' को देता हूँ आवाज़ अनसुनी कहकर
हुई है हंस के मुखातिब हमेशा मुस्काई

'जिशा' ने मुझसे बताया की आप लक्की हैं
लहू जो थूके नहीं बचता वोह मेरे भाई

'सुनी' हो 'जूली' हो 'जेसी' हो या 'विजी' सिस्टर
इन्हीं के प्यार से 'सादिक़' ने ज़िन्दगी पाई

                       ---- सादिक़ रिज़वी

(मार्च २००२ में मुंबई के नानावती हस्पताल के हार्ट
इंस्टिट्यूट में इलाज के दौरान कही गयी नज़्म)



 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
Logged
khamosh_aawaaz
Umda Shayar
*

Rau: 54
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
23 days, 15 hours and 56 minutes.
zindagi tu kaisi hai

Posts: 5384
Member Since: Apr 2009


View Profile
«Reply #5 on: October 10, 2011, 11:01:17 AM »
Reply with quote
तड़प तड़प के गुजारीं शबें न नींद आई
अजीब कर्ब के आलम में गुज़री तन्हाई

शिकम के दर्द ने साँसों की डोर तक तोड़ी
यहाँ तलक के सहर ने भी ले ली अंगड़ाई

परेशां 'जेनिफर', दिल से खयाल रखती है
ये नर्स सारे मरीजों की थी भी शैदाई

मरीज़ दर्द की शिद्दत चीखता है जब
तो एक माँ की तरह इनके दिल पे चोट आई

है पेशा नर्स का सच्ची हलाल की रोज़ी
मगर ज़माने ने बख्शी बस इनको रुसवाई

जो इनको मिलती है उजरत उसी में यह खुश हैं
न इनके दिल में कभी हिर्स ने जगह पाई

हैं सारी नर्सों की एक हेड नर्स वर्षा जी
शेफा भी इनकी ही शफ़क़त ने जल्द दिलवाई

नज़र की झील में एक फ़िक्र हो बसी जैसे
बहुत खमोश तबीयत 'मिनी' ने है पाई

'सुनी' को देता हूँ आवाज़ अनसुनी कहकर
हुई है हंस के मुखातिब हमेशा मुस्काई

'जिशा' ने मुझसे बताया की आप लक्की हैं
लहू जो थूके नहीं बचता वोह मेरे भाई

'सुनी' हो 'जूली' हो 'जेसी' हो या 'विजी' सिस्टर
इन्हीं के प्यार से 'सादिक़' ने ज़िन्दगी पाई

                       ---- सादिक़ रिज़वी

(मार्च २००२ में मुंबई के नानावती हस्पताल के हार्ट
इंस्टिट्यूट में इलाज के दौरान कही गयी नज़्म)



DIL KO CHOO GAI YE NAZAM. VERI NAAAAAAICE SR


 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
mamta bajpai
Khususi Shayar
*****

Rau: 8
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
12 days, 7 hours and 7 minutes.

Posts: 1769
Member Since: Jan 2010


View Profile
«Reply #6 on: October 10, 2011, 10:11:14 PM »
Reply with quote
Sadiq Saheb! yaqeenan aap kee ye kavish aap kee zindaadilii kee zindah misaal hai varnaa bill ke payment ke saath hum bhool jaate haiN keh apnaa ghar baar chhor kar ,apne dukhoN ko bhool kar bhee raat din jo beemaaron kee sevaa me lag kar unheN phir se nayaa jeevan dete hain...sevaa kee in jeevit pratimoortiyoN ko apnee lekhni se aap ne jo aabhaar pradarshan kiyaa wo bemisaal hai.....is behtareen nazm kee prstuti ke liye aap ko kotish saadhuwaad.....
Logged
Mohammad Touhid
Umda Shayar
*

Rau: 34
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 10 hours and 45 minutes.

'I' 'Luv' d Way 'U' 'Forget' Me..!.!

Posts: 7158
Member Since: Aug 2009


View Profile
«Reply #7 on: October 10, 2011, 10:25:00 PM »
Reply with quote


bahut bahut hi khoob sadiq ji...

wah dil khush ho gaya inki tareef me jo aapne alfaz ko sajaya .. wah

dil se dhero daad.. Usual Smile Usual Smile


 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 34 minutes.

Posts: 6544
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #8 on: October 11, 2011, 02:11:01 PM »
Reply with quote
तड़प तड़प के गुजारीं शबें न नींद आई
अजीब कर्ब के आलम में गुज़री तन्हाई

शिकम के दर्द ने साँसों की डोर तक तोड़ी
यहाँ तलक के सहर ने भी ले ली अंगड़ाई

परेशां 'जेनिफर', दिल से खयाल रखती है
ये नर्स सारे मरीजों की थी भी शैदाई

मरीज़ दर्द की शिद्दत चीखता है जब
तो एक माँ की तरह इनके दिल पे चोट आई

है पेशा नर्स का सच्ची हलाल की रोज़ी
मगर ज़माने ने बख्शी बस इनको रुसवाई

जो इनको मिलती है उजरत उसी में यह खुश हैं
न इनके दिल में कभी हिर्स ने जगह पाई

हैं सारी नर्सों की एक हेड नर्स वर्षा जी
शेफा भी इनकी ही शफ़क़त ने जल्द दिलवाई

नज़र की झील में एक फ़िक्र हो बसी जैसे
बहुत खमोश तबीयत 'मिनी' ने है पाई

'सुनी' को देता हूँ आवाज़ अनसुनी कहकर
हुई है हंस के मुखातिब हमेशा मुस्काई

'जिशा' ने मुझसे बताया की आप लक्की हैं
लहू जो थूके नहीं बचता वोह मेरे भाई

'सुनी' हो 'जूली' हो 'जेसी' हो या 'विजी' सिस्टर
इन्हीं के प्यार से 'सादिक़' ने ज़िन्दगी पाई

                       ---- सादिक़ रिज़वी

(मार्च २००२ में मुंबई के नानावती हस्पताल के हार्ट
इंस्टिट्यूट में इलाज के दौरान कही गयी नज़्म)


waaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah[/b][/i][/color] Applause Applause Applause Applause
Logged
Sadiq Rizvi
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 16 hours and 38 minutes.

Posts: 143
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #9 on: October 11, 2011, 10:35:58 PM »
Reply with quote
I am very much thankfull everybody for praising my Nazm "Nurse aur main" It's full of reality not a fiction which is now part of my biography
Logged
Iftakhar Ahmad
Yoindian Shayar
******

Rau: 172
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 22 hours and 17 minutes.

Iftakhar Ahmad Siddiqui

Posts: 4033
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #10 on: October 12, 2011, 03:06:04 AM »
Reply with quote
Bahut Khoob
Logged
Sadiq Rizvi
Shayarana Mizaaj
**

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 16 hours and 38 minutes.

Posts: 143
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #11 on: October 14, 2011, 06:23:21 PM »
Reply with quote
Bahut Khoob
Logged
khwahish
WeCare
Khaas Shayar
**

Rau: 166
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
271 days, 21 hours and 54 minutes.

Posts: 11812
Member Since: Sep 2006


View Profile
«Reply #12 on: October 30, 2011, 02:34:21 PM »
Reply with quote
तड़प तड़प के गुजारीं शबें न नींद आई
अजीब कर्ब के आलम में गुज़री तन्हाई

शिकम के दर्द ने साँसों की डोर तक तोड़ी
यहाँ तलक के सहर ने भी ले ली अंगड़ाई

परेशां 'जेनिफर', दिल से खयाल रखती है
ये नर्स सारे मरीजों की थी भी शैदाई

मरीज़ दर्द की शिद्दत चीखता है जब
तो एक माँ की तरह इनके दिल पे चोट आई

है पेशा नर्स का सच्ची हलाल की रोज़ी
मगर ज़माने ने बख्शी बस इनको रुसवाई

जो इनको मिलती है उजरत उसी में यह खुश हैं
न इनके दिल में कभी हिर्स ने जगह पाई

हैं सारी नर्सों की एक हेड नर्स वर्षा जी
शेफा भी इनकी ही शफ़क़त ने जल्द दिलवाई

नज़र की झील में एक फ़िक्र हो बसी जैसे
बहुत खमोश तबीयत 'मिनी' ने है पाई

'सुनी' को देता हूँ आवाज़ अनसुनी कहकर
हुई है हंस के मुखातिब हमेशा मुस्काई

'जिशा' ने मुझसे बताया की आप लक्की हैं
लहू जो थूके नहीं बचता वोह मेरे भाई

'सुनी' हो 'जूली' हो 'जेसी' हो या 'विजी' सिस्टर
इन्हीं के प्यार से 'सादिक़' ने ज़िन्दगी पाई

                       ---- सादिक़ रिज़वी

(मार्च २००२ में मुंबई के नानावती हस्पताल के हार्ट
इंस्टिट्यूट में इलाज के दौरान कही गयी नज़्म)



Bahut Bahut Khoooooob Sadiq Ji..

Bahut Hi khoobsurat Andaaz-e-Bayaan...

Bahut Ache Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 21, 2019, 10:50:32 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[October 21, 2019, 07:34:07 PM]

[October 21, 2019, 07:32:59 PM]

[October 20, 2019, 01:01:17 AM]

[October 20, 2019, 01:01:10 AM]

[October 19, 2019, 02:15:17 PM]

[October 19, 2019, 01:58:58 PM]

[October 19, 2019, 01:57:48 PM]

[October 19, 2019, 01:34:20 PM]

[October 19, 2019, 01:32:35 PM]

[October 19, 2019, 12:54:52 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.297 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48390 Real Poets and poetry admirer