Parivartan (the change) -'Adab'

by drpandey on December 26, 2012, 08:34:46 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 536 times)
drpandey
Guest
Reply with quote
~~~परिवर्तन~~~

स्वर्णिम प्रभात की नव बेला,
था दिग-दिगंत उन्माद भरा !
खग के कलरव थे पंचम में,
मानष में अगम पराग भरा !
***
पुरवाई का मंद पवन था,
और उपवन था हरा-भरा!
कली एक थी अलसाई सी,
नयनों में मधुमास भरा !
***
ऊषा के रक्तिम किरणों से,
प्रथम मिलन की प्यास लिए!
थी अंगड़ाई ले रही कली
तरुणाई का इतिहास लिए !
***
मादकता की प्रथम लहर का
लेकर भौरों ने चुम्बन !
हँसने पर मजबूर कर गई,
अंसुमाली की प्रथम किरन !
***
झूम-झूम कर पुरवाई में,
दिग-दिग का कर आलिंगन!
पुलक-पुलक कर सिहर रही थी,
लख कर निज तन-मन यौवन !
***
आकर्षित कर रही पथिक को,
अपने पर इठला-इठला कर !
इतराती थी बल खाती थी,
अपने किस्मत के ऊपर !
***
वहीँ पास में पड़ा हुआ था,
राज मिश्रित इक शिलाखंड!
जो सहता था मर्दन पद का,
भुगत रहा था प्रबल दंड !
***
बनी हुई थी इक पगडण्डी,
वहीँ निकट में वर्षों से !
वक्ष हुआ निस्त्रण था जिसका,
पद के दारुण स्पर्शों से !
***
हंसकर मुड़ी कली मदमाती,
पबि पर व्यंग प्रहार किया!
कबसे पड़े यहाँ मतवाले,
कभी किसी ने प्यार किया ?
***
देखो मुझको दो पल की हूँ,
फिरभी कितना प्यार मिला !
जीवन इसको कहते हैं,
तुमतो ठहरे निरा शिला !
***
पत्थर रखकर उर पर अपने,
पैने तीरों को सह-सह कर !
मौन दिगंबर सा बैठा था,
कठिन दंड वर्षों सहकर !
***
लेकिन चक्र हुआ पूरा जब,
पबि पर अमिय प्रपात हुआ!
इक मूर्तिकार गुजरा पथ से,
विस्मृति का प्रथम प्रभात हुआ!
***
कुछ मधुर पुष्प के यौवन थे,
मदमाती हुई दिशाएं थीं !
सौरभ द्रोणी में भर-भर कर,
फैलाती हुई हवाएं थें !
***
फिर एक कल्पना प्रबल हुई,
साकार रूप होकर निकला !
उस मूर्तिकार के उर को वह,
पत्थर जब छू कर निकला !
***
क्या था फिर छेनी और हथौड़े से,
इक मधुर राग छेड़ा उसने !
निज कुशल कला तन्मयता से,
उस पत्थर को तोडा उसने !
***
धीरे-धीरे फिर सहला कर,
इक हल्का सा आकार दिया!
कुछ मधुर तिक्त आघातों से,
निज कल्पित अंग उभार दिया!
***
इक सुन्दर सी मूरत बनकर,
उस शिलाखंड का उदय हुआ !
तब सत्यम शिवम् सुन्दरम का,
उस कलाकृति में विलय हुआ !
***
जब ओंकार की ध्वनि निकली,
मंदिर के प्रथम कपाटों से !
तब स्वेद विन्दु रिसकर निकले,
मानव के श्रमित ललाटों से !
***
खुद गढ़कर निज आराध्य देव,
शिव शंकर की प्रतिमा उसने !
कर प्राण प्रतिष्ठा शम्भू की,
विधिवत फिर नमन किया उसने !
***
कुछ पल पहले जो पथिक वहां,
रुकते थे सौरभ लेने को !
अब वाही वहां पर आते आते हैं,
पत्थर का पद-राज लेने को !
***
फिर एक भक्त आया पथ से,
मन में श्रधा विश्वाश लिए !
हाथों में जल का पात्र लिए,
होठों पर नमः शिवाय लिए !
***
शिव को अर्पित कर तंदुल-तिल,
जल से पूरित इक पात्र पुनः !
कुछ पुष्प समर्पित कर उसने,
लौटा पथ से श्रद्धालु पुनः !
***
वह कली भी वहीँ समर्पित थी,
उन चन्द अरघ के पुष्पों में !
कुछ पल पहले इतराती थी,
अब पड़ी  हुई थी चरणों में !
***
देखा जब पत्थर ने उसको,
जो शंकर बना व्यवस्थित था!
अभिमान तनिक भी पर न हुआ,
ना कली देख कर विचलित था !
***
यह परिवर्तन का नर्तन है,
अब पत्थर बना दिगंबर है !
एक कली अभी मतवाली थी,
उसका सर उसके पगपर है !!
*****

- डा. एच. पी. पाण्डेय 'अदब'
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
PARIVARTAN......... by ranjana in Shayri-E-Dard
PARIVARTAN......... by ranjana in Miscellaneous Shayri
parivartan by panchi1983 in Shairi - E - Zindagi
Change by shivani(9899207979) in SMS , mobile & JOKES
CHANGE...!!! by qalb in Quotable Phrase and Quotes
pritam tripathi
Maqbool Shayar
****

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
7 days, 4 hours and 28 minutes.
my pic

Posts: 815
Member Since: Jul 2010


View Profile
«Reply #1 on: December 26, 2012, 09:20:53 PM »
Reply with quote
bahut hi umda likhi kavita hai bahut hi khoob likha hai sir aapne
jitni taarif ki jaaye utna kam
Logged
sushilbansal
Guest
«Reply #2 on: December 27, 2012, 12:55:49 AM »
Reply with quote
वह कली भी वहीँ समर्पित थी,
उन चन्द अरघ के पुष्पों में !
कुछ पल पहले इतराती थी,
अब पड़ी  हुई थी चरणों में !
bahut sahi
Bahut sundur
dheru daad
mubarik kabul kijiye
Sheel didi
Logged
Aarish
Khususi Shayar
*****

Rau: 43
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 16 hours and 12 minutes.

Posts: 1634
Member Since: May 2012


View Profile
«Reply #3 on: December 27, 2012, 01:45:58 AM »
Reply with quote
bohut khoob daad qubool karen
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 5 hours and 31 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #4 on: December 27, 2012, 04:18:40 AM »
Reply with quote
ati sunder pandey ji
Logged
drpandey
Guest
«Reply #5 on: December 27, 2012, 04:38:17 AM »
Reply with quote
bahut hi umda likhi kavita hai bahut hi khoob likha hai sir aapne
jitni taarif ki jaaye utna kam

Bahut bahut dhanyvaad Pritam Tripathi Ji...!!
Logged
drpandey
Guest
«Reply #6 on: December 27, 2012, 04:40:31 AM »
Reply with quote
वह कली भी वहीँ समर्पित थी,
उन चन्द अरघ के पुष्पों में !
कुछ पल पहले इतराती थी,
अब पड़ी  हुई थी चरणों में !
bahut sahi
Bahut sundur
dheru daad
mubarik kabul kijiye
Sheel didi
Bahut bahut dhanyvaad Sheel ji...!!
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 114
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 9 hours and 7 minutes.
Posts: 13689
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #7 on: December 27, 2012, 04:46:46 AM »
Reply with quote
wah wah ati sundar
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 53 minutes.

Posts: 6546
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #8 on: December 27, 2012, 06:15:31 AM »
Reply with quote
~~~परिवर्तन~~~

स्वर्णिम प्रभात की नव बेला,
था दिग-दिगंत उन्माद भरा !
खग के कलरव थे पंचम में,
मानष में अगम पराग भरा !
***
पुरवाई का मंद पवन था,
और उपवन था हरा-भरा!
कली एक थी अलसाई सी,
नयनों में मधुमास भरा !
***
ऊषा के रक्तिम किरणों से,
प्रथम मिलन की प्यास लिए!
थी अंगड़ाई ले रही कली
तरुणाई का इतिहास लिए !
***
मादकता की प्रथम लहर का
लेकर भौरों ने चुम्बन !
हँसने पर मजबूर कर गई,
अंसुमाली की प्रथम किरन !
***
झूम-झूम कर पुरवाई में,
दिग-दिग का कर आलिंगन!
पुलक-पुलक कर सिहर रही थी,
लख कर निज तन-मन यौवन !
***
आकर्षित कर रही पथिक को,
अपने पर इठला-इठला कर !
इतराती थी बल खाती थी,
अपने किस्मत के ऊपर !
***
वहीँ पास में पड़ा हुआ था,
राज मिश्रित इक शिलाखंड!
जो सहता था मर्दन पद का,
भुगत रहा था प्रबल दंड !
***
बनी हुई थी इक पगडण्डी,
वहीँ निकट में वर्षों से !
वक्ष हुआ निस्त्रण था जिसका,
पद के दारुण स्पर्शों से !
***
हंसकर मुड़ी कली मदमाती,
पबि पर व्यंग प्रहार किया!
कबसे पड़े यहाँ मतवाले,
कभी किसी ने प्यार किया ?
***
देखो मुझको दो पल की हूँ,
फिरभी कितना प्यार मिला !
जीवन इसको कहते हैं,
तुमतो ठहरे निरा शिला !
***
पत्थर रखकर उर पर अपने,
पैने तीरों को सह-सह कर !
मौन दिगंबर सा बैठा था,
कठिन दंड वर्षों सहकर !
***
लेकिन चक्र हुआ पूरा जब,
पबि पर अमिय प्रपात हुआ!
इक मूर्तिकार गुजरा पथ से,
विस्मृति का प्रथम प्रभात हुआ!
***
कुछ मधुर पुष्प के यौवन थे,
मदमाती हुई दिशाएं थीं !
सौरभ द्रोणी में भर-भर कर,
फैलाती हुई हवाएं थें !
***
फिर एक कल्पना प्रबल हुई,
साकार रूप होकर निकला !
उस मूर्तिकार के उर को वह,
पत्थर जब छू कर निकला !
***
क्या था फिर छेनी और हथौड़े से,
इक मधुर राग छेड़ा उसने !
निज कुशल कला तन्मयता से,
उस पत्थर को तोडा उसने !
***
धीरे-धीरे फिर सहला कर,
इक हल्का सा आकार दिया!
कुछ मधुर तिक्त आघातों से,
निज कल्पित अंग उभार दिया!
***
इक सुन्दर सी मूरत बनकर,
उस शिलाखंड का उदय हुआ !
तब सत्यम शिवम् सुन्दरम का,
उस कलाकृति में विलय हुआ !
***
जब ओंकार की ध्वनि निकली,
मंदिर के प्रथम कपाटों से !
तब स्वेद विन्दु रिसकर निकले,
मानव के श्रमित ललाटों से !
***
खुद गढ़कर निज आराध्य देव,
शिव शंकर की प्रतिमा उसने !
कर प्राण प्रतिष्ठा शम्भू की,
विधिवत फिर नमन किया उसने !
***
कुछ पल पहले जो पथिक वहां,
रुकते थे सौरभ लेने को !
अब वाही वहां पर आते आते हैं,
पत्थर का पद-राज लेने को !
***
फिर एक भक्त आया पथ से,
मन में श्रधा विश्वाश लिए !
हाथों में जल का पात्र लिए,
होठों पर नमः शिवाय लिए !
***
शिव को अर्पित कर तंदुल-तिल,
जल से पूरित इक पात्र पुनः !
कुछ पुष्प समर्पित कर उसने,
लौटा पथ से श्रद्धालु पुनः !
***
वह कली भी वहीँ समर्पित थी,
उन चन्द अरघ के पुष्पों में !
कुछ पल पहले इतराती थी,
अब पड़ी  हुई थी चरणों में !
***
देखा जब पत्थर ने उसको,
जो शंकर बना व्यवस्थित था!
अभिमान तनिक भी पर न हुआ,
ना कली देख कर विचलित था !
***
यह परिवर्तन का नर्तन है,
अब पत्थर बना दिगंबर है !
एक कली अभी मतवाली थी,
उसका सर उसके पगपर है !!
*****

- डा. एच. पी. पाण्डेय 'अदब'

kaafi badi kavita hai aur bahut sunder hai Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
drpandey
Guest
«Reply #9 on: December 27, 2012, 06:16:38 AM »
Reply with quote
bohut khoob daad qubool karen
Sukriya Aarish ji...!!
Logged
drpandey
Guest
«Reply #10 on: December 27, 2012, 06:18:22 AM »
Reply with quote
kaafi badi kavita hai aur bahut sunder hai Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Sukriya Bechain Ji...!!!
Logged
drpandey
Guest
«Reply #11 on: January 02, 2013, 07:36:48 AM »
Reply with quote
ati sunder pandey ji

Dhanyvaad Saini Sahab...!!
Logged
drpandey
Guest
«Reply #12 on: January 12, 2013, 08:35:35 AM »
Reply with quote
wah wah ati sundar

Dhanyvaad Nandbahu Ji...!!!
Logged
Advo.RavinderaRavi
Khaas Shayar
**

Rau: 135
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
61 days, 3 hours and 30 minutes.
I Love My Nation.

Posts: 12009
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #13 on: April 15, 2013, 05:23:58 AM »
Reply with quote
Atee Sundar.
Logged
drpandey
Guest
«Reply #14 on: April 15, 2013, 03:36:27 PM »
Reply with quote
Atee Sundar.

Dhanyvaad Advo.Ravindera Ravi ji...!!


Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 02, 2020, 07:01:51 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 02, 2020, 05:27:50 AM]

[June 02, 2020, 05:23:28 AM]

[June 01, 2020, 06:48:13 PM]

[June 01, 2020, 04:42:09 PM]

[June 01, 2020, 04:35:42 PM]

[June 01, 2020, 04:34:27 PM]

[June 01, 2020, 04:33:45 PM]

[June 01, 2020, 04:32:57 PM]

[June 01, 2020, 04:32:03 PM]

[June 01, 2020, 04:31:16 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.272 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 19101 Real Poets and poetry admirer