sooni kalaai poochti kai aakhir humne kiya kiya hai........Kavi Deepak Sharma

by kavyadharateam on November 29, 2008, 11:18:12 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 1605 times)
kavyadharateam
Guest
जाती है दृष्टि जहाँ तक बादल धुएँ के देखता हूँ
अर्चना के दीप से ही मन्दिर जलते देखता हूँ ।
देखता हूँ रात्रि से भी ज्यादा काली भोर को
आदमी की मूकता को गोलियों के शोर को
देखता हूँ नम्रता जकडे हिंसा की जंजीर है
आख़िर यकीं कैसे करूँ यह हिंद की तस्वीर है ।
कितने बचपन दोष अपना बेबस नज़र से पूछते है
बेघर अनाथ होने का कारन खंडर से घर पूछते हैं
टूटे कुंवारे कंगन अपना पूछते कसूर क्या है
सूनी कलाई पूछती है आख़िर हमने क्या किया है
सप्तवर्णी चुनरियों के तार रोकर बोलते है
स्वप्न हर अनछुआ मन की बन गया पीर है ॥
नोंक पर तूफ़ान की शमा को लुटते देखता हूँ
रोज़ कितनी रोशनी को खुदकुशी करते देखता हूँ
देखता हूँ कुछ सुमन की ही बगावत चमन से
श्वास का ही विद्रोह लहू , हृदय और तन से ।
लगता है सरिताएं भी हीनता से सूख रहीं
क्योंकि हर हृदय समंदर आँख बनी क्षीर है ॥
हर हृदय की आस होती लौटकर न अतीत लाये
वर्तमान से भी ज्यादा उसका भविष्य मुस्कुराये
लेकिन प्रभु से प्रार्थना कि भविष्य देश का अतीत हो
कुछ नहीं तो हर हृदय में निष्कपट प्रीति हो
क्योंकि नफरत की कैंची है जिस तरह चल रही
डरता हूँ कहीं थान सारा बन न जाए चीर है ॥
Kavi Deepak Sharma
posted by Kavyadhara team
All right reserved@kavi deepak sharma

Logged
Prateek Mardia
Guest
«Reply #1 on: November 29, 2008, 11:26:48 AM »
bauht khoob likha he hazoor aapne-desh ke bigadte haalaath ko lekar.
Logged
sajid_ghayel
Guest
«Reply #2 on: November 29, 2008, 12:38:33 PM »
Bohat bohat bohat khoob Deepak jee kitne prabhavshali mudde ko aapne kitni saralta se bayaan kiya hain  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
Pooja
Guest
«Reply #3 on: November 30, 2008, 01:56:42 AM »
nice haring Kavi
Logged
NETRAPAL
Guest
«Reply #4 on: December 02, 2008, 04:03:58 AM »
जाती है दृष्टि जहाँ तक बादल धुएँ के देखता हूँ
अर्चना के दीप से ही मन्दिर जलते देखता हूँ ।
देखता हूँ रात्रि से भी ज्यादा काली भोर को
आदमी की मूकता को गोलियों के शोर को
देखता हूँ नम्रता जकडे हिंसा की जंजीर है
आख़िर यकीं कैसे करूँ यह हिंद की तस्वीर है ।
कितने बचपन दोष अपना बेबस नज़र से पूछते है
बेघर अनाथ होने का कारन खंडर से घर पूछते हैं
टूटे कुंवारे कंगन अपना पूछते कसूर क्या है
सूनी कलाई पूछती है आख़िर हमने क्या किया है
सप्तवर्णी चुनरियों के तार रोकर बोलते है
स्वप्न हर अनछुआ मन की बन गया पीर है ॥
नोंक पर तूफ़ान की शमा को लुटते देखता हूँ
रोज़ कितनी रोशनी को खुदकुशी करते देखता हूँ
देखता हूँ कुछ सुमन की ही बगावत चमन से
श्वास का ही विद्रोह लहू , हृदय और तन से ।
लगता है सरिताएं भी हीनता से सूख रहीं
क्योंकि हर हृदय समंदर आँख बनी क्षीर है ॥
हर हृदय की आस होती लौटकर न अतीत लाये
वर्तमान से भी ज्यादा उसका भविष्य मुस्कुराये
लेकिन प्रभु से प्रार्थना कि भविष्य देश का अतीत हो
कुछ नहीं तो हर हृदय में निष्कपट प्रीति हो
क्योंकि नफरत की कैंची है जिस तरह चल रही
डरता हूँ कहीं थान सारा बन न जाए चीर है ॥
Kavi Deepak Sharma
posted by Kavyadhara team
All right reserved@kavi deepak sharma
http://www.Thankyou Yoindia


bahut khoob deepak ji bahut achee kavitaa aapne likhi hai aaj ke haalaat pe..

netra..
Logged
Azeem Azaad
WeCare
Mashhur Shayar
***

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
64 days, 10 hours and 40 minutes.
Humko Abtak Aashiqi Ka Wo Zamaana Yaad Hai,.

Posts: 19850
Member Since: Feb 2006


View Profile
«Reply #5 on: December 07, 2008, 01:24:38 PM »
Bahoot Khoob Kavya Ji,.
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 02, 2020, 01:28:42 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 02, 2020, 12:45:47 AM]

[June 01, 2020, 06:48:13 PM]

[June 01, 2020, 04:42:09 PM]

[June 01, 2020, 04:35:42 PM]

[June 01, 2020, 04:34:27 PM]

[June 01, 2020, 04:33:45 PM]

[June 01, 2020, 04:32:57 PM]

[June 01, 2020, 04:32:03 PM]

[June 01, 2020, 04:31:16 PM]

[June 01, 2020, 04:30:29 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.204 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 19429 Real Poets and poetry admirer