zarraa ... shauq ka saamaan hai

by zarraa on September 07, 2019, 11:40:08 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 60 times)
zarraa
Yoindian Shayar
******

Rau: 93
Offline Offline

Waqt Bitaya:
8 days, 5 minutes.
Posts: 2100
Member Since: May 2012


View Profile
शौक़ का सामान है लेकिन तबीअत और है
आलम-ए-ऐश-ओ-मसर्रत में अज़ीयत और है

देख कर लबरेज़ पैमाना भी चेहरा है बुझा
साक़िया अब रिन्द में लगता के वहशत और है

शान-ओ-शौक़त की नुमाइश में न ले जाओ मुझे
मेरी आंखों में निहां जल्वे की अज़मत और है

जश्न के माहौल में जब हर तरफ हों रौनक़ें
मेरे ग़म-ख़ाने में तब एहसास-ए-ज़ुल्मत और है

आरज़ू जो हो नहीं पाई मुकम्मल मुद्दतों
अब वो होने को है हासिल तो ज़रुरत और है

उस का पैमान-ए-वफ़ा था उस ने तोड़ा मुझ को क्या
उस की नीयत और है मेरी अक़ीदत और है

तुझ को बे-ईमां न समझूं तू न बे-चारा मुझे
तेरी फ़ितरत और है और मेरी क़िस्मत और है

सब के आगे जिस में चमके है ख़ुद-आराई का नूर
आइने के आगे उस चेहरे की रंगत और है

मेहनताना हक़ से मांगो इस में मत हो शर्मसार
बिन किये जिन को मिला उन की नदामत और है

तेरे मेरे बीच में जो है रफ़ाक़त वो रहे
तेरे मेरे बीच में जो है अदावत और है

मांगने से दाद मिल जायेगी अहल-ए-बज़्म से
“ज़र्रा” पर तेरे सुखन की आन-ओ-ग़ैरत और है

- ज़र्रा

shauq* ka saamaan hai lekin tabeeat aur hai
aalaam-e-aish-o-masarrat** meiN azeeyat*** aur hai
*desire   **state of enjoyment and happiness  ***torment

dekh kar labrez* paimaana** bhi chehra hai bujha
saaqiya ab rind*** meiN lagta ke vahshat**** aur hai
*overflowing  **wine-glass  ***alchoholic   ****frenzy

shaan-o-shauqat ki numaaish meiN na le jaao mujhe
meri aaNkhoN meiN nihaaN* jalve ki azmat** aur hai
*hidden   **greatness/glory

jashn ke maahaul meiN jab har taraf hoN raunakeiN
mere gham-khaane* meiN tab ehsaas-e-zulmat** aur hai
*house of sorrow    **perception of darkness

aarzoo jo ho naheeN paai mukammal* muddatoN
ab vo hone ko hai haasil to zaroorat aur hai
*complete

us ka paimaan-e-vafa* tha us ne toda mujh ko kya
us ki neeyat aur hai meri aqeedat** aur hai
*promise of faith   **belief/faith

tujh ko be-eemaaN na samjhooN tu na be-chaara mujhe
teri fitrat* aur hai aur meri kismat aur hai
*nature

sab ke aage jis meiN chamke hai khud-aaraai* ka noor**
aaine ke aage us chehre ki rangat aur hai
*self adoration  **light

mehntaana haq se maaNgo is meiN mat ho sharmsaar*
bin kiye jin ko mila un ki nadaamat** aur hai
*ashamed   **shame

tere mere beech meiN jo hai rafaaqat* vo rahe
tere mere beech meiN jo hai adaavat** aur hai
*companionship   **enmity

maaNgne se daad mil jaayegi ahl-e-bazm* se
“zarraa” par tere sukhan** ki aan-o-ghairat*** aur hai
*people in the gathering   **poetry   ***pride and self-respect

- zarraa
Logged
surindarn
Sarparast ae Shayari
****

Rau: 258
Offline Offline

Waqt Bitaya:
97 days, 14 hours and 39 minutes.
Posts: 20289
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #1 on: September 07, 2019, 09:41:56 PM »
शौक़ का सामान है लेकिन तबीअत और है
आलम-ए-ऐश-ओ-मसर्रत में अज़ीयत और है

देख कर लबरेज़ पैमाना भी चेहरा है बुझा
साक़िया अब रिन्द में लगता के वहशत और है

शान-ओ-शौक़त की नुमाइश में न ले जाओ मुझे
मेरी आंखों में निहां जल्वे की अज़मत और है

जश्न के माहौल में जब हर तरफ हों रौनक़ें
मेरे ग़म-ख़ाने में तब एहसास-ए-ज़ुल्मत और है

आरज़ू जो हो नहीं पाई मुकम्मल मुद्दतों
अब वो होने को है हासिल तो ज़रुरत और है

उस का पैमान-ए-वफ़ा था उस ने तोड़ा मुझ को क्या
उस की नीयत और है मेरी अक़ीदत और है

तुझ को बे-ईमां न समझूं तू न बे-चारा मुझे
तेरी फ़ितरत और है और मेरी क़िस्मत और है

सब के आगे जिस में चमके है ख़ुद-आराई का नूर
आइने के आगे उस चेहरे की रंगत और है

मेहनताना हक़ से मांगो इस में मत हो शर्मसार
बिन किये जिन को मिला उन की नदामत और है

तेरे मेरे बीच में जो है रफ़ाक़त वो रहे
तेरे मेरे बीच में जो है अदावत और है

मांगने से दाद मिल जायेगी अहल-ए-बज़्म से
“ज़र्रा” पर तेरे सुखन की आन-ओ-ग़ैरत और है

- ज़र्रा

shauq* ka saamaan hai lekin tabeeat aur hai
aalaam-e-aish-o-masarrat** meiN azeeyat*** aur hai
*desire   **state of enjoyment and happiness  ***torment

dekh kar labrez* paimaana** bhi chehra hai bujha
saaqiya ab rind*** meiN lagta ke vahshat**** aur hai
*overflowing  **wine-glass  ***alchoholic   ****frenzy

shaan-o-shauqat ki numaaish meiN na le jaao mujhe
meri aaNkhoN meiN nihaaN* jalve ki azmat** aur hai
*hidden   **greatness/glory

jashn ke maahaul meiN jab har taraf hoN raunakeiN
mere gham-khaane* meiN tab ehsaas-e-zulmat** aur hai
*house of sorrow    **perception of darkness

aarzoo jo ho naheeN paai mukammal* muddatoN
ab vo hone ko hai haasil to zaroorat aur hai
*complete

us ka paimaan-e-vafa* tha us ne toda mujh ko kya
us ki neeyat aur hai meri aqeedat** aur hai
*promise of faith   **belief/faith

tujh ko be-eemaaN na samjhooN tu na be-chaara mujhe
teri fitrat* aur hai aur meri kismat aur hai
*nature

sab ke aage jis meiN chamke hai khud-aaraai* ka noor**
aaine ke aage us chehre ki rangat aur hai
*self adoration  **light

mehntaana haq se maaNgo is meiN mat ho sharmsaar*
bin kiye jin ko mila un ki nadaamat** aur hai
*ashamed   **shame

tere mere beech meiN jo hai rafaaqat* vo rahe
tere mere beech meiN jo hai adaavat** aur hai
*companionship   **enmity

maaNgne se daad mil jaayegi ahl-e-bazm* se
“zarraa” par tere sukhan** ki aan-o-ghairat*** aur hai
*people in the gathering   **poetry   ***pride and self-respect

- zarraa
waah waah kyaa baat hai rao ke saath daad
 Thumbs UP Thumbs UP
 Applause Applause Applause Applause Applause
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
September 21, 2019, 11:41:46 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[September 21, 2019, 10:17:32 AM]

[September 21, 2019, 05:49:26 AM]

[September 21, 2019, 03:33:11 AM]

[September 21, 2019, 03:21:53 AM]

[September 21, 2019, 03:20:29 AM]

[September 21, 2019, 03:18:58 AM]

[September 21, 2019, 03:18:33 AM]

[September 21, 2019, 03:17:59 AM]

[September 21, 2019, 03:17:01 AM]

[September 21, 2019, 03:16:08 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.172 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48366 Real Poets and poetry admirer