"बच्चे बड़े हो गए हैं बेटा"

by suman59 on December 07, 2013, 04:07:01 PM
Pages: [1] 2  All
Print
Author  (Read 1337 times)
suman59
Guest
एक युवक क़रीब 20 साल के बाद विदेश से अपने शहर लौटा था !

बाज़ार में घुमते हुए सहसा उसकी नज़रें सब्जी का ठेला लगाये एक बूढे पर जा टिकीं,

बहुत कोशिश के बावजूद भी युवक उसको पहचान
नहीं पा रहा था !

लेकिन न जाने बार बार ऐसा क्यों लग रहा था की वो उसे बड़ी अच्छी तरह से जनता है !

उत्सुकता उस बूढ़े से भी छुपी न रही , उसके चेहरे पर आई अचानक मुस्कान से मैं समझ गया था कि उसने युवक को पहचान लिया था!

काफी देर की जेहनी कशमकश के बाद जब युवक ने उसे पहचाना तो उसके पाँव के नीचे से मानो ज़मीन खिसक गई !

जब युवक विदेश गया था तो उनकी एक बड़ी आटा मिल हुआ करती थी घर में नौकर चाकर कIम किया करते थे !

धर्म कर्म, दान पुण्य में सब से अग्रणी इस दानवीर पुरुष को युवक ताऊजी कह कर बुलाया करता था !

वही आटा मिल का मालिक और आज सब्जी का ठेला लगाने पर मजबूर .. ?

युवक से रहा नहीं गया और वो उसके पास जा पहुँचा और बहुत मुश्किल से रुंधे गले से पूछा :"ताऊ जी, ये सब कैसे हो गया ...?"

भरी ऑंखें से बूढ़े ने युवक के कंधे पर हाथ रख उत्तर दिया:-
.
.
"बच्चे बड़े हो गए हैं बेटा"..
Logged
lovely_charan
Guest
«Reply #1 on: December 07, 2013, 04:23:41 PM »
 sad11 tearyeyed sad5
bahut buri magar yathartha ko vyakta karti ek laghukatha hai sad5 kaash hum sab un maa-baap ko utni hi tawaz'zo dete jitni hamare mata pita hume dete hain..
 crybaby2 crybaby2
Logged
Saman Firdaus
Guest
«Reply #2 on: December 07, 2013, 04:26:48 PM »
Hmmmm bahot achhii story h... tearyeyed tearyeyed sad5 sad5

 icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut
Logged
amit_prakash_meet
Guest
«Reply #3 on: December 07, 2013, 04:47:42 PM »
कड़वा है पर सच है....
Logged
khujli
Guest
«Reply #4 on: December 07, 2013, 04:55:27 PM »
एक युवक क़रीब 20 साल के बाद विदेश से अपने शहर लौटा था !

बाज़ार में घुमते हुए सहसा उसकी नज़रें सब्जी का ठेला लगाये एक बूढे पर जा टिकीं,

बहुत कोशिश के बावजूद भी युवक उसको पहचान
नहीं पा रहा था !

लेकिन न जाने बार बार ऐसा क्यों लग रहा था की वो उसे बड़ी अच्छी तरह से जनता है !

उत्सुकता उस बूढ़े से भी छुपी न रही , उसके चेहरे पर आई अचानक मुस्कान से मैं समझ गया था कि उसने युवक को पहचान लिया था!

काफी देर की जेहनी कशमकश के बाद जब युवक ने उसे पहचाना तो उसके पाँव के नीचे से मानो ज़मीन खिसक गई !

जब युवक विदेश गया था तो उनकी एक बड़ी आटा मिल हुआ करती थी घर में नौकर चाकर कIम किया करते थे !

धर्म कर्म, दान पुण्य में सब से अग्रणी इस दानवीर पुरुष को युवक ताऊजी कह कर बुलाया करता था !

वही आटा मिल का मालिक और आज सब्जी का ठेला लगाने पर मजबूर .. ?

युवक से रहा नहीं गया और वो उसके पास जा पहुँचा और बहुत मुश्किल से रुंधे गले से पूछा :"ताऊ जी, ये सब कैसे हो गया ...?"

भरी ऑंखें से बूढ़े ने युवक के कंधे पर हाथ रख उत्तर दिया:-
.
.
"बच्चे बड़े हो गए हैं बेटा"..



 tearyeyed tearyeyed tearyeyed tearyeyed tearyeyed tearyeyed
Logged
F.H.SIDDIQUI
Guest
«Reply #5 on: December 07, 2013, 06:02:35 PM »
 tearyeyed tearyeyed  kaash ........
Logged
sahal
Umda Shayar
*

Rau: 109
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
47 days, 3 hours and 18 minutes.

love is in the Air,but CuPiD is alone here.

Posts: 4410
Member Since: Sep 2012


View Profile WWW
«Reply #6 on: December 07, 2013, 06:47:12 PM »
aaj kal ka yahi haal hogaya hai ,,
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #7 on: December 07, 2013, 07:02:44 PM »
sach hai..... tearyeyed tearyeyed tearyeyed
suman ji.
nice sharing icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 8 hours and 51 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #8 on: December 07, 2013, 09:47:15 PM »
dil chhoo liyaa
Logged
khwahish
WeCare
Khaas Shayar
**

Rau: 166
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
272 days, 1 hours and 53 minutes.

Posts: 11813
Member Since: Sep 2006


View Profile
«Reply #9 on: December 07, 2013, 10:43:50 PM »
एक युवक क़रीब 20 साल के बाद विदेश से अपने शहर लौटा था !

बाज़ार में घुमते हुए सहसा उसकी नज़रें सब्जी का ठेला लगाये एक बूढे पर जा टिकीं,

बहुत कोशिश के बावजूद भी युवक उसको पहचान
नहीं पा रहा था !

लेकिन न जाने बार बार ऐसा क्यों लग रहा था की वो उसे बड़ी अच्छी तरह से जनता है !

उत्सुकता उस बूढ़े से भी छुपी न रही , उसके चेहरे पर आई अचानक मुस्कान से मैं समझ गया था कि उसने युवक को पहचान लिया था!

काफी देर की जेहनी कशमकश के बाद जब युवक ने उसे पहचाना तो उसके पाँव के नीचे से मानो ज़मीन खिसक गई !

जब युवक विदेश गया था तो उनकी एक बड़ी आटा मिल हुआ करती थी घर में नौकर चाकर कIम किया करते थे !

धर्म कर्म, दान पुण्य में सब से अग्रणी इस दानवीर पुरुष को युवक ताऊजी कह कर बुलाया करता था !

वही आटा मिल का मालिक और आज सब्जी का ठेला लगाने पर मजबूर .. ?

युवक से रहा नहीं गया और वो उसके पास जा पहुँचा और बहुत मुश्किल से रुंधे गले से पूछा :"ताऊ जी, ये सब कैसे हो गया ...?"

भरी ऑंखें से बूढ़े ने युवक के कंधे पर हाथ रख उत्तर दिया:-
.
.
"बच्चे बड़े हो गए हैं बेटा"..



Just Speechless...................
Logged
suman59
Guest
«Reply #10 on: December 07, 2013, 11:26:15 PM »

Just Speechless...................

me too sad5 sad5
Logged
suman59
Guest
«Reply #11 on: December 07, 2013, 11:27:06 PM »
dil chhoo liyaa

haan  sad11
Logged
suman59
Guest
«Reply #12 on: December 07, 2013, 11:28:58 PM »
sach hai..... tearyeyed tearyeyed tearyeyed
suman ji.
nice sharing icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower

thanks for reading
Logged
suman59
Guest
«Reply #13 on: December 07, 2013, 11:30:40 PM »
aaj kal ka yahi haal hogaya hai ,,


kahi kahi yahi hote dekha bi hai... jab se yeh maine pada tab se mann udas hai
Logged
nandbahu
Mashhur Shayar
***

Rau: 122
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
20 days, 2 hours and 17 minutes.
Posts: 14540
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #14 on: December 08, 2013, 10:20:12 AM »
very heart touching   tearyeyed tearyeyed tearyeyed
kash bachhey aisa samajh patey
Logged
Pages: [1] 2  All
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
September 25, 2022, 10:33:46 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[September 19, 2022, 02:16:10 PM]

[September 10, 2022, 12:45:22 PM]

[September 08, 2022, 07:03:47 PM]

[September 06, 2022, 07:30:51 PM]

[September 06, 2022, 01:26:16 AM]

[September 06, 2022, 01:06:19 AM]

by G s
[September 01, 2022, 12:13:36 PM]

[August 31, 2022, 07:17:58 AM]

[August 29, 2022, 05:55:12 PM]

[August 28, 2022, 07:19:43 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.159 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 8452 Real Poets and poetry admirer