pyaar dekhte hain.........................saru............123

by SURESH SANGWAN on August 18, 2014, 06:07:52 PM
Pages: [1] 2 3  All
ReplyPrint
Author  (Read 966 times)
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
Reply with quote



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं


Logged
Rajigujral
Khususi Shayar
*****

Rau: 17
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
4 days, 59 minutes.
Posts: 1703
Member Since: Apr 2014


View Profile
«Reply #1 on: August 18, 2014, 06:29:48 PM »
Reply with quote
Bahut Umda peshkash. Dheron Daad. hello2 hello2 hello2 hello2
Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #2 on: August 18, 2014, 06:33:19 PM »
Reply with quote
 हौसला अफज़ाही के लिये  तहे दिल से बहुत 2 शुक्रिया .......RajiGujral ji....

Bahut Umda peshkash. Dheron Daad. hello2 hello2 hello2 hello2
Logged
khwahish
WeCare
Khaas Shayar
**

Rau: 166
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
271 days, 21 hours and 54 minutes.

Posts: 11812
Member Since: Sep 2006


View Profile
«Reply #3 on: August 18, 2014, 07:25:04 PM »
Reply with quote



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं





Bahutttttttttttttttt Bahutttttttttttt Khoooob Saru Ji..

lajawaab Peshkash...

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं


 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #4 on: August 18, 2014, 07:28:47 PM »
Reply with quote
 icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower हौसला अफज़ाही के लिये  तहे दिल से बहुत 2 शुक्रिया ..........khwahish ji.


Bahutttttttttttttttt Bahutttttttttttt Khoooob Saru Ji..

lajawaab Peshkash...

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं


 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
  Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley

Logged
NakulG
Maqbool Shayar
****

Rau: 63
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
5 days, 23 hours and 55 minutes.
Posts: 804
Member Since: May 2014


View Profile WWW
«Reply #5 on: August 18, 2014, 08:16:19 PM »
Reply with quote
Waah Waahh Waahhh!!!

Kya baat hai Saru ji!!

उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

Applause Applause Applause Applause Applause
Rau Hazir he!!

सुन्दर से बढ़ के सुन्दर, अशआर देखते हैं,
हम आप में गज़ब का, ग़ज़लकार देखते हैं!!
Logged
MANOJ6568
Khaas Shayar
**

Rau: 28
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 9 hours and 38 minutes.

Astrologer & Shayer

Posts: 9865
Member Since: Feb 2010


View Profile
«Reply #6 on: August 18, 2014, 09:33:09 PM »
Reply with quote



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं



gd
Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #7 on: August 18, 2014, 10:08:39 PM »
Reply with quote
 हौसला अफज़ाही के लिये  तहे दिल से बहुत 2 शुक्रिया ..........Nakul g.

Waah Waahh Waahhh!!!

Kya baat hai Saru ji!!

उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

Applause Applause Applause Applause Applause
Rau Hazir he!!

सुन्दर से बढ़ के सुन्दर, अशआर देखते हैं,
हम आप में गज़ब का, ग़ज़लकार देखते हैं!!
Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #8 on: August 18, 2014, 10:10:40 PM »
Reply with quote
 हौसला अफज़ाही के लिये  तहे दिल से बहुत 2 शुक्रिया ...........Manoj ji

gd
Logged
parinde
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 5
Offline Offline

Waqt Bitaya:
1 days, 8 hours and 55 minutes.
Posts: 238
Member Since: Jan 2011


View Profile
«Reply #9 on: August 18, 2014, 10:20:42 PM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause
 Applause Applause Applause Applause Applause
                 Applause Applause Applause Applause Applause
                  Applause Applause Applause Applause Applause
                                 Applause Applause Applause Applause
                                   Applause Applause Applause Applause
bahut bahut khoooooooooooooooooooob saru ji mubarakbaad



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं



Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #10 on: August 18, 2014, 10:21:31 PM »
Reply with quote
 हौसला अफज़ाही के लिये  तहे दिल से बहुत 2 शुक्रिया ..........parinde ji.

Applause Applause Applause Applause Applause
 Applause Applause Applause Applause Applause
                 Applause Applause Applause Applause Applause
                  Applause Applause Applause Applause Applause
                                 Applause Applause Applause Applause
                                   Applause Applause Applause Applause
bahut bahut khoooooooooooooooooooob saru ji mubarakbaad
Logged
ambalika sharma
Khususi Shayar
*****

Rau: 23
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
9 days, 23 hours and 44 minutes.
sirf ehsaas hi kafi hai rishte nibhane ke liye.

Posts: 1343
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #11 on: August 18, 2014, 10:46:49 PM »
Reply with quote



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं



beautifully written suresh ji....
Logged
surindarn
Sarparast ae Shayari
****

Rau: 258
Offline Offline

Waqt Bitaya:
97 days, 15 hours and 38 minutes.
Posts: 20303
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #12 on: August 19, 2014, 01:45:52 AM »
Reply with quote



उस  पार वो  तो  जाके  इस  पार  देखते हैं
साहिल  पे  बैठे  हम  ही  मझधार  देखते हैं

ये जिंदगी हमारी उलझन का  सिलसिला है
पहले   से  पहले   अगली   तैयार  देखते  हैं

दी  है हमें हिदायत बचने की जिससे वाइज़
दुनियां  को  हम  उसी  का बीमार देखते हैं

बैठे   हैं  डाले  डेरा  इस   राह  के  मुसाफ़िर
आने  के  तेरे   जब   से   आसार  देखते हैं

ग़म-ओ-खुशी से  मौला बेज़ार  मुझे कर दे
खुशियों  के  साये- साये  आज़ार  देखते हैं

गलियों का ईश्क़ की तज़र्बा हो  गया शायद
अशआर जो  भी  कह  दें  दमदार देखते हैं

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं



waah waah nihaayat umdad peshkash haiSaru Sahiba, dheron daad.
 icon_flower Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP icon_flower
 icon_flower icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_flower
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 4 hours and 19 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #13 on: August 19, 2014, 06:09:13 AM »
Reply with quote
waah waah bahut khoobsoorat kalaam dheron daad
Logged
amit_prakash_meet
Umda Shayar
*

Rau: 33
Offline Offline

Waqt Bitaya:
15 days, 15 hours and 2 minutes.
Posts: 5686
Member Since: Dec 2011


View Profile
«Reply #14 on: August 19, 2014, 10:09:20 AM »
Reply with quote
वाह....वाह.....वाह....

इस वास्ते 'सरु'को सुबह-ओ-शाम  छेड़ते हैं
गुस्से  में  भी  ग़ज़ब  का  प्यार देखते हैं

 icon_flower icon_flower Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley icon_flower icon_flower
Logged
Pages: [1] 2 3  All
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 21, 2019, 11:06:23 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[October 21, 2019, 07:34:07 PM]

[October 21, 2019, 07:32:59 PM]

[October 20, 2019, 01:01:17 AM]

[October 20, 2019, 01:01:10 AM]

[October 19, 2019, 02:15:17 PM]

[October 19, 2019, 01:58:58 PM]

[October 19, 2019, 01:57:48 PM]

[October 19, 2019, 01:34:20 PM]

[October 19, 2019, 01:32:35 PM]

[October 19, 2019, 12:54:52 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.279 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48390 Real Poets and poetry admirer