गगन को चूमते ऊंचे मकान वालों सुनो.(1st May)..Kavi Deepak Sharma

by kavyadharateam on May 03, 2009, 11:59:45 AM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 1416 times)
kavyadharateam
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 15
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 6 minutes.

Deepak Sharmaa

Posts: 222
Member Since: Sep 2008


View Profile WWW
Reply with quote
गगन को चूमते ऊंचे मकान वालों सुनो
बहुत दिलकश , मुन्नकश ऐवान वालों सुनो
तुम्हें क्यों अपनी इमारत पे गुरुर  है
इसका असली मालिक तो केवल मजदूर है

इनकी हकदार रोते बच्चों की निगाहें है
इनकी हक़दार पत्थर तोड़ती बेबस माँऐं   हैं
इनके हक़दार घायल हाथ , ज़ख्मी पाँव हैं
इनके हक़दार तो बहते- रिसते घाव हैं
तन तुम्हारा तो ऐसी चोटों से दूर है
इसका असली हक़दार तो केवल मजदूर है

कितने मजदूरों ने छोड़कर बीमार बच्चों को
सूरत इन महलों की अपने हाथों से संवारी है
दबा कर भूख के शोले एक लोटा पानी से
इनके दरवाजों पर लाजवाब नक्काशी उभारी है
तुने तो सिक्कों की रौशनी फेंकी पसीने पर
मगर मजदूर की मेहनत ने तराशा कोहिनूर है

चमकते फर्श पर तुम जो खड़े हो इतराये से
कई हाथों ने इसे प्यार से सहलाया है
हर टुकडा लगाया है बहुत करीने से
बड़े सलीके से दुल्हन - सा इसे सजाया है
आज उनको ही नहीं इजाजत दहलीज़ चड़ने की
जिनके हुनर की बदौलत ड्योढी  तेरी नूर है
@कवि दीपक शर्मा
Nazm taken from his Collection"Manzar"
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
एक शून्य के ही ध्यान से मिल जाते देवी - देवता ,---K by kavyadharateam in Other Languages
Deepawali ki haardik subhkaamnaayen-----Kavi Deepak Sharma...चिरागों से अँधेरा मिटेगा कहाँ तक by kavyadharateam in Occassion Specific Poetry
तिरंगा उन्हीं की सुनाता कहानी***सतीश शुक्ला ' by Satish Shukla in Ghazals « 1 2  All »
कितना याद कर रहा हू, क्यों तुझको नहीं खबर ...... by satay in Shayri for Dard -e- Judai
क्यूँ हुई बच्चों से नादानी न पूछ by navincchaturvedi in Miscellaneous Shayri « 1 2  All »
pankshivam
Yoindian Shayar
******

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
20 days, 4 hours and 42 minutes.
Posts: 1927
Member Since: Nov 2008


View Profile
«Reply #1 on: May 03, 2009, 12:08:54 PM »
Reply with quote
गगन को चूमते ऊंचे मकान वालों सुनो
बहुत दिलकश , मुन्नकश ऐवान वालों सुनो
तुम्हें क्यों अपनी इमारत पे गुरुर  है
इसका असली मालिक तो केवल मजदूर है

इनकी हकदार रोते बच्चों की निगाहें है
इनकी हक़दार पत्थर तोड़ती बेबस माँऐं   हैं
इनके हक़दार घायल हाथ , ज़ख्मी पाँव हैं
इनके हक़दार तो बहते- रिसते घाव हैं
तन तुम्हारा तो ऐसी चोटों से दूर है
इसका असली हक़दार तो केवल मजदूर है

कितने मजदूरों ने छोड़कर बीमार बच्चों को
सूरत इन महलों की अपने हाथों से संवारी है
दबा कर भूख के शोले एक लोटा पानी से
इनके दरवाजों पर लाजवाब नक्काशी उभारी है
तुने तो सिक्कों की रौशनी फेंकी पसीने पर
मगर मजदूर की मेहनत ने तराशा कोहिनूर है

चमकते फर्श पर तुम जो खड़े हो इतराये से
कई हाथों ने इसे प्यार से सहलाया है
हर टुकडा लगाया है बहुत करीने से
बड़े सलीके से दुल्हन - सा इसे सजाया है
आज उनको ही नहीं इजाजत दहलीज़ चड़ने की
जिनके हुनर की बदौलत ड्योढी  तेरी नूर है
@कवि दीपक शर्मा
Nazm taken from his Collection"Manzar"

Very Nice Sharing Sirji  Applause Applause Applause
Logged
{Angel}
Khair-Khwah
Ustaad ae Shayari
*

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
21 days, 15 hours and 48 minutes.

Nazar Samete Hue Khadi Hoon

Posts: 37158
Member Since: Apr 2006


View Profile
«Reply #2 on: May 03, 2009, 12:10:58 PM »
Reply with quote
Bahut khoob Deepak Ji.

Clapping Smiley
Logged
syednaami
Umda Shayar
*

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
32 days, 19 hours and 13 minutes.

OMG!

Posts: 5709
Member Since: Jan 2006


View Profile
«Reply #3 on: May 03, 2009, 12:26:57 PM »
Reply with quote
Bahut nirala andaaz hai aapka Deepak...
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
February 27, 2020, 01:55:33 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[February 27, 2020, 03:58:46 AM]

[February 27, 2020, 12:40:09 AM]

[February 26, 2020, 10:21:25 PM]

[February 26, 2020, 10:06:20 PM]

[February 26, 2020, 10:05:41 PM]

[February 26, 2020, 10:05:03 PM]

[February 26, 2020, 10:00:16 PM]

[February 26, 2020, 09:58:17 PM]

[February 26, 2020, 09:51:37 PM]

[February 26, 2020, 09:50:56 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.194 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48463 Real Poets and poetry admirer