zarraa .... har ek gaam pe kaaNte bichha raha hai koi

by zarraa on October 04, 2019, 11:52:12 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 101 times)
zarraa
Yoindian Shayar
******

Rau: 93
Offline Offline

Waqt Bitaya:
8 days, 31 minutes.
Posts: 2103
Member Since: May 2012


View Profile
Reply with quote
हर एक गाम पे कांटे बिछा रहा है कोई
हर आबले को मेरे गुल बना रहा है कोई

जब आंख हार अंधेरे से मानने को हुई
उस एक पल कोई दीपक जला रहा है कोई

ख़ुशी ख़ुशी मैं चला जा रहा पस-ए-ज़िंदां
चलो कहीं से तो मुझ को बुला रहा है कोई

था मय का वादा मगर ज़हर भी है हो सकता
के जाम कितनी नज़ाकत से ला रहा है कोई

रहा न इश्क़ तो आराम कर लें फ़ुरक़त में
कोई खफा न किसी को मना रहा है कोई

उठा रहा है वो पलकें के देखना है असर
जब अपने कांधे पे ज़ुल्फ़ें गिरा रहा है कोई

तमाम रात का जागा सुबह उठे कैसे
एक एक ख्वाब को दफ़ना के आ रहा है कोई

किसी को क्या हो यक़ीन अब है शक़ मकान को भी
मकीन मुझ में कभी जाने क्या रहा है कोई

ग़ज़ल में जो नहीं बैठा सो कट गया वो शेर
के बहर-ओ-काफ़िया शायर निभा रहा है कोई

नहीं है मोल जहां को सुख़न का “ज़र्रा” तेरे
पर इस अमल में जहां को भुला रहा है कोई

- ज़र्रा

har ek gaam* pe kaaNte bichha raha hai koi
har aable** ko mere gul bana raha hai koi
*step         **blister

jab aaNkh haar aNdhere se maanne ko hui
us ek pal koi deepak jala raha hai koi

khushi khushi maiN chala ja raha pas-e-zindaaN*
chalo kaheeN se to mujh ko bula raha hai koi
*behind the prison

tha may* ka vaada magar zahar bhi hai ho sakta
ke jaam kitni nazaakat** se la raha hai koi
*liquor         **elegance

raha na ishq to aaraam kar leN furqat* meiN
koi khafa na kisi ko mana raha hai koi
*separation

utha raha hai wo palkeiN ke dekhna hai asar
jab apne kaaNdhe pe zulfeiN gira raha hai koi
(*tumult/end on doomsday)

tamaam raat ka jaaga subah uthe kaise
ek ek khwaab ko dafna ke aa raha hai koi

kisi ka kya ho yaqeen ab hai shaq makaan ko bhi
makeen mujh meiN kabhi jaane kya raha hai koi

ghazal meiN jo naheeN baitha so kat gaya wo sher
ke bahr-o-qaafiya* shaayar nibha raha hai koi
*meter and rhyme

naheeN hai mol jahaaN ko sukhan ka “zarraa” tere
par is amal** meiN jahaaN ko bhula raha hai koi
*poetry                   **process/practice

- zarraa
Logged
MANOJ6568
Khaas Shayar
**

Rau: 28
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 9 hours and 35 minutes.

Astrologer & Shayer

Posts: 9863
Member Since: Feb 2010


View Profile
«Reply #1 on: October 08, 2019, 05:09:29 PM »
Reply with quote
हर एक गाम पे कांटे बिछा रहा है कोई
हर आबले को मेरे गुल बना रहा है कोई

जब आंख हार अंधेरे से मानने को हुई
उस एक पल कोई दीपक जला रहा है कोई

ख़ुशी ख़ुशी मैं चला जा रहा पस-ए-ज़िंदां
चलो कहीं से तो मुझ को बुला रहा है कोई

था मय का वादा मगर ज़हर भी है हो सकता
के जाम कितनी नज़ाकत से ला रहा है कोई

रहा न इश्क़ तो आराम कर लें फ़ुरक़त में
कोई खफा न किसी को मना रहा है कोई

उठा रहा है वो पलकें के देखना है असर
जब अपने कांधे पे ज़ुल्फ़ें गिरा रहा है कोई

तमाम रात का जागा सुबह उठे कैसे
एक एक ख्वाब को दफ़ना के आ रहा है कोई

किसी को क्या हो यक़ीन अब है शक़ मकान को भी
मकीन मुझ में कभी जाने क्या रहा है कोई

ग़ज़ल में जो नहीं बैठा सो कट गया वो शेर
के बहर-ओ-काफ़िया शायर निभा रहा है कोई

नहीं है मोल जहां को सुख़न का “ज़र्रा” तेरे
पर इस अमल में जहां को भुला रहा है कोई

- ज़र्रा

har ek gaam* pe kaaNte bichha raha hai koi
har aable** ko mere gul bana raha hai koi
*step         **blister

jab aaNkh haar aNdhere se maanne ko hui
us ek pal koi deepak jala raha hai koi

khushi khushi maiN chala ja raha pas-e-zindaaN*
chalo kaheeN se to mujh ko bula raha hai koi
*behind the prison

tha may* ka vaada magar zahar bhi hai ho sakta
ke jaam kitni nazaakat** se la raha hai koi
*liquor         **elegance

raha na ishq to aaraam kar leN furqat* meiN
koi khafa na kisi ko mana raha hai koi
*separation

utha raha hai wo palkeiN ke dekhna hai asar
jab apne kaaNdhe pe zulfeiN gira raha hai koi
(*tumult/end on doomsday)

tamaam raat ka jaaga subah uthe kaise
ek ek khwaab ko dafna ke aa raha hai koi

kisi ka kya ho yaqeen ab hai shaq makaan ko bhi
makeen mujh meiN kabhi jaane kya raha hai koi

ghazal meiN jo naheeN baitha so kat gaya wo sher
ke bahr-o-qaafiya* shaayar nibha raha hai koi
*meter and rhyme

naheeN hai mol jahaaN ko sukhan ka “zarraa” tere
par is amal** meiN jahaaN ko bhula raha hai koi
*poetry                   **process/practice

- zarraa
gd
Logged
MANOJ6568
Khaas Shayar
**

Rau: 28
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 9 hours and 35 minutes.

Astrologer & Shayer

Posts: 9863
Member Since: Feb 2010


View Profile
«Reply #2 on: October 08, 2019, 05:11:46 PM »
Reply with quote
हर एक गाम पे कांटे बिछा रहा है कोई
हर आबले को मेरे गुल बना रहा है कोई

जब आंख हार अंधेरे से मानने को हुई
उस एक पल कोई दीपक जला रहा है कोई

ख़ुशी ख़ुशी मैं चला जा रहा पस-ए-ज़िंदां
चलो कहीं से तो मुझ को बुला रहा है कोई

था मय का वादा मगर ज़हर भी है हो सकता
के जाम कितनी नज़ाकत से ला रहा है कोई

रहा न इश्क़ तो आराम कर लें फ़ुरक़त में
कोई खफा न किसी को मना रहा है कोई

उठा रहा है वो पलकें के देखना है असर
जब अपने कांधे पे ज़ुल्फ़ें गिरा रहा है कोई

तमाम रात का जागा सुबह उठे कैसे
एक एक ख्वाब को दफ़ना के आ रहा है कोई

किसी को क्या हो यक़ीन अब है शक़ मकान को भी
मकीन मुझ में कभी जाने क्या रहा है कोई

ग़ज़ल में जो नहीं बैठा सो कट गया वो शेर
के बहर-ओ-काफ़िया शायर निभा रहा है कोई

नहीं है मोल जहां को सुख़न का “ज़र्रा” तेरे
पर इस अमल में जहां को भुला रहा है कोई

- ज़र्रा

har ek gaam* pe kaaNte bichha raha hai koi
har aable** ko mere gul bana raha hai koi
*step         **blister

jab aaNkh haar aNdhere se maanne ko hui
us ek pal koi deepak jala raha hai koi

khushi khushi maiN chala ja raha pas-e-zindaaN*
chalo kaheeN se to mujh ko bula raha hai koi
*behind the prison

tha may* ka vaada magar zahar bhi hai ho sakta
ke jaam kitni nazaakat** se la raha hai koi
*liquor         **elegance

raha na ishq to aaraam kar leN furqat* meiN
koi khafa na kisi ko mana raha hai koi
*separation

utha raha hai wo palkeiN ke dekhna hai asar
jab apne kaaNdhe pe zulfeiN gira raha hai koi
(*tumult/end on doomsday)

tamaam raat ka jaaga subah uthe kaise
ek ek khwaab ko dafna ke aa raha hai koi

kisi ka kya ho yaqeen ab hai shaq makaan ko bhi
makeen mujh meiN kabhi jaane kya raha hai koi

ghazal meiN jo naheeN baitha so kat gaya wo sher
ke bahr-o-qaafiya* shaayar nibha raha hai koi
*meter and rhyme

naheeN hai mol jahaaN ko sukhan ka “zarraa” tere
par is amal** meiN jahaaN ko bhula raha hai koi
*poetry                   **process/practice

- zarraa
didaar ko mere mujhe bula raha hai koi
kabra per meri aansu baha raha hai koi
aye khuda do pal ki zindgi udhaar de de
udas meri majaar se aaj jaa raha hai koi
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 14, 2019, 12:25:23 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[October 14, 2019, 08:14:07 AM]

[October 14, 2019, 08:12:16 AM]

[October 14, 2019, 02:30:13 AM]

[October 13, 2019, 11:44:18 PM]

[October 13, 2019, 11:32:39 PM]

by Asif Pai Khan
[October 12, 2019, 04:29:06 PM]

[October 12, 2019, 11:56:58 AM]

[October 12, 2019, 11:55:43 AM]

[October 11, 2019, 09:23:21 PM]

[October 11, 2019, 09:19:59 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.181 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48377 Real Poets and poetry admirer