jhansi ki raani

by bekarar on June 12, 2008, 11:46:50 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 1534 times)
bekarar
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
53 days, 3 hours and 55 minutes.

Posts: 3734
Member Since: Oct 2005


View Profile
ek aisi amar krati jab bhi pado thande se thande lahoo me bhi garmi foonk deti hai..bahoot purani kavita lekin hamesha tazi si hi lagati hai...shat shat naman hai subhadra kumari chauhan ko......

झाँसी की रानी

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।
चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी,
लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी,
नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी,
बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी।
वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार,
देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार,
नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार,
सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार।
महाराष्टर-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

हुई वीरता की वैभव के साथ सगाई झाँसी में,
ब्याह हुआ रानी बन आई लक्ष्मीबाई झाँसी में,
राजमहल में बजी बधाई खुशियाँ छाई झाँसी में,
चित्रा ने अर्जुन को पाया, शिव से मिली भवानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

उदित हुआ सौभाग्य, मुदित महलों में उजियाली छाई,
किंतु कालगति चुपके-चुपके काली घटा घेर लाई,
तीर चलाने वाले कर में उसे चूड़ियाँ कब भाई,
रानी विधवा हुई, हाय! विधि को भी नहीं दया आई।
निसंतान मरे राजाजी रानी शोक-समानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

बुझा दीप झाँसी का तब डलहौज़ी मन में हरषाया,
राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया,
फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया,
लावारिस का वारिस बनकर ब्रिटिश राज्य झाँसी आया।
अश्रुपूर्णा रानी ने देखा झाँसी हुई बिरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

अनुनय विनय नहीं सुनती है, विकट शासकों की माया,
व्यापारी बन दया चाहता था जब यह भारत आया,
डलहौज़ी ने पैर पसारे, अब तो पलट गई काया,
राजाओं नव्वाबों को भी उसने पैरों ठुकराया।
रानी दासी बनी, बनी यह दासी अब महरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

छिनी राजधानी दिल्ली की, लखनऊ छीना बातों-बात,
कैद पेशवा था बिठुर में, हुआ नागपुर का भी घात,
उदैपुर, तंजौर, सतारा, करनाटक की कौन बिसात?
जबकि सिंध, पंजाब ब्रह्म पर अभी हुआ था वज्र-निपात।
बंगाले, मद्रास आदि की भी तो वही कहानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी रोयीं रिनवासों में, बेगम ग़म से थीं बेज़ार,
उनके गहने कपड़े बिकते थे कलकत्ते के बाज़ार,
सरे आम नीलाम छापते थे अंग्रेज़ों के अखबार,
'नागपूर के ज़ेवर ले लो लखनऊ के लो नौलख हार'।
यों परदे की इज़्ज़त परदेशी के हाथ बिकानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

कुटियों में भी विषम वेदना, महलों में आहत अपमान,
वीर सैनिकों के मन में था अपने पुरखों का अभिमान,
नाना धुंधूपंत पेशवा जुटा रहा था सब सामान,
बहिन छबीली ने रण-चण्डी का कर दिया प्रकट आहवान।
हुआ यज्ञ प्रारम्भ उन्हें तो सोई ज्योति जगानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,
यह स्वतंत्रता की चिनगारी अंतरतम से आई थी,
झाँसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,
मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचाई थी,
जबलपूर, कोल्हापूर में भी कुछ हलचल उकसानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इस स्वतंत्रता महायज्ञ में कई वीरवर आए काम,
नाना धुंधूपंत, ताँतिया, चतुर अज़ीमुल्ला सरनाम,
अहमदशाह मौलवी, ठाकुर कुँवरसिंह सैनिक अभिराम,
भारत के इतिहास गगन में अमर रहेंगे जिनके नाम।
लेकिन आज जुर्म कहलाती उनकी जो कुरबानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

इनकी गाथा छोड़, चले हम झाँसी के मैदानों में,
जहाँ खड़ी है लक्ष्मीबाई मर्द बनी मर्दानों में,
लेफ्टिनेंट वाकर आ पहुँचा, आगे बड़ा जवानों में,
रानी ने तलवार खींच ली, हुया द्वन्द्ध असमानों में।
ज़ख्मी होकर वाकर भागा, उसे अजब हैरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी बढ़ी कालपी आई, कर सौ मील निरंतर पार,
घोड़ा थक कर गिरा भूमि पर गया स्वर्ग तत्काल सिधार,
यमुना तट पर अंग्रेज़ों ने फिर खाई रानी से हार,
विजयी रानी आगे चल दी, किया ग्वालियर पर अधिकार।
अंग्रेज़ों के मित्र सिंधिया ने छोड़ी रजधानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

विजय मिली, पर अंग्रेज़ों की फिर सेना घिर आई थी,
अबके जनरल स्मिथ सम्मुख था, उसने मुहँ की खाई थी,
काना और मंदरा सखियाँ रानी के संग आई थी,
युद्ध श्रेत्र में उन दोनों ने भारी मार मचाई थी।
पर पीछे ह्यूरोज़ आ गया, हाय! घिरी अब रानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

तो भी रानी मार काट कर चलती बनी सैन्य के पार,
किन्तु सामने नाला आया, था वह संकट विषम अपार,
घोड़ा अड़ा, नया घोड़ा था, इतने में आ गये अवार,
रानी एक, शत्रु बहुतेरे, होने लगे वार-पर-वार।
घायल होकर गिरी सिंहनी उसे वीर गति पानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

रानी गई सिधार चिता अब उसकी दिव्य सवारी थी,
मिला तेज से तेज, तेज की वह सच्ची अधिकारी थी,
अभी उम्र कुल तेइस की थी, मनुज नहीं अवतारी थी,
हमको जीवित करने आयी बन स्वतंत्रता-नारी थी,
दिखा गई पथ, सिखा गई हमको जो सीख सिखानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।

जाओ रानी याद रखेंगे ये कृतज्ञ भारतवासी,
यह तेरा बलिदान जगावेगा स्वतंत्रता अविनासी,
होवे चुप इतिहास, लगे सच्चाई को चाहे फाँसी,
हो मदमाती विजय, मिटा दे गोलों से चाहे झाँसी।
तेरा स्मारक तू ही होगी, तू खुद अमिट निशानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।।



सुभद्रा कुमारी चौहान
Logged
syednaami
Umda Shayar
*

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
32 days, 19 hours and 13 minutes.

OMG!

Posts: 5709
Member Since: Jan 2006


View Profile
«Reply #1 on: June 12, 2008, 01:24:25 PM »
आप ने बुहत ही चुनिंदा कविता अरपित कि है ।।।
आगे कुछ लिखने का प्रयत्न करेंगे
Logged
honeyrose
Guest
«Reply #2 on: June 12, 2008, 03:57:40 PM »
Very nice sharing sanjeev ji..Usual Smile
Logged
Shikha12
Guest
«Reply #3 on: June 12, 2008, 05:05:14 PM »
Nice Sharing Sanjeev ji..

I read this when I was in 5th or 6th Standard, and this was one of my favorite.. But, that time, our books have not full version of this, and I never knew, that it has so brief explanation of Laxmibai's bravery..

I really appreciate, that you shared full version here.. Thanks a lot.. notworthy

Quote
ek aisi amar krati jab bhi pado thande se thande lahoo me bhi garmi foonk deti hai..bahoot purani kavita lekin hamesha tazi si hi lagati hai...shat shat naman hai subhadra kumari chauhan ko......

Sahi kaha hai aapne.. yeh sach mein ek amar kriti hai Subhadra Kumari Chauhaan ji ki..

Logged
Sonia01
Yoindian Shayar
******

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
10 days, 17 hours and 34 minutes.

Posts: 2640
Member Since: Apr 2008


View Profile
«Reply #4 on: June 12, 2008, 10:41:26 PM »
Her ek line Us Mahan Rani ka himmat darshaya hai. Very good sharing.
Bahut accha laga padkar ... Nice Sharing Sanjeev Jee
Logged
bekarar
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
53 days, 3 hours and 55 minutes.

Posts: 3734
Member Since: Oct 2005


View Profile
«Reply #5 on: June 18, 2008, 10:46:51 AM »
Nice Sharing Sanjeev ji..

I read this when I was in 5th or 6th Standard, and this was one of my favorite.. But, that time, our books have not full version of this, and I never knew, that it has so brief explanation of Laxmibai's bravery..

I really appreciate, that you shared full version here.. Thanks a lot.. notworthy

Sahi kaha hai aapne.. yeh sach mein ek amar kriti hai Subhadra Kumari Chauhaan ji ki..



thanks mahiya ji aapne pasand kiya..............
maine bhi ye kavita bachpan me hi padhi thi aur mai aksar is kavita ko bade hi joshile tareeke se school me hone wale functions (15 aug,) me sunata tha.....
 
Logged
bekarar
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
53 days, 3 hours and 55 minutes.

Posts: 3734
Member Since: Oct 2005


View Profile
«Reply #6 on: June 18, 2008, 10:49:36 AM »
आप ने बुहत ही चुनिंदा कविता अरपित कि है ।।।
आगे कुछ लिखने का प्रयत्न करेंगे


shukriya sami....
aage kuch likhne ka prayatn karenge ye tumne mere liye likha hai ya apne liye?
Logged
bekarar
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
53 days, 3 hours and 55 minutes.

Posts: 3734
Member Since: Oct 2005


View Profile
«Reply #7 on: June 18, 2008, 10:51:30 AM »
Very nice sharing sanjeev ji..Usual Smile
thanks honey ji
Logged
bekarar
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 4
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
53 days, 3 hours and 55 minutes.

Posts: 3734
Member Since: Oct 2005


View Profile
«Reply #8 on: June 18, 2008, 10:53:09 AM »
Her ek line Us Mahan Rani ka himmat darshaya hai. Very good sharing.
Bahut accha laga padkar ... Nice Sharing Sanjeev Jee


shukriya sonia sis
Logged
shab
Maqbool Shayar
****

Rau: 0
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
2 days, 10 hours and 53 minutes.

SHAHEEN SHABANA MOHAMMED

Posts: 507
Member Since: Jun 2009


View Profile WWW
«Reply #9 on: June 19, 2009, 08:43:37 AM »
  BAHUT ACHCHE SANJEEV JI
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
November 13, 2019, 09:46:26 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[November 13, 2019, 01:54:34 PM]

[November 13, 2019, 01:50:22 PM]

[November 13, 2019, 01:49:10 PM]

[November 13, 2019, 12:33:48 AM]

[November 12, 2019, 10:16:49 PM]

[November 12, 2019, 10:11:25 PM]

[November 12, 2019, 10:09:39 PM]

[November 12, 2019, 10:08:41 PM]

[November 12, 2019, 10:07:50 PM]

[November 12, 2019, 12:38:58 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.222 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48403 Real Poets and poetry admirer