SHAASHAN CHALTA TALWAAR SE : GOPAL SINGH " NEPALI" KI EK RACHNA

by anand mohan on October 20, 2013, 11:53:28 PM
Pages: [1]
ReplyPrint
Author  (Read 537 times)
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
Reply with quote
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।

यह राम-कृष्ण की जन्मभूमि, पावन धरती सीताओं की
फिर कमी रही कब भारत में सभ्यता, शांति, सदभावों की
पर बने पड़ोसी कुछ ऐसे, गोली चलती उस पार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


तुम उड़ा कबूतर अंबर में संदेश शांति का देते हो
चिट्ठी लिखकर रह जाते हो, जब कुछ गड़बड़ सुन लेते हो
वक्तव्य लिखो कि विरोध करो, यह भी काग़ज़ वह भी काग़ज़
कब नाव राष्ट्र की पार लगी यों काग़ज़ की पतवार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


तुम चावल भिजवा देते हो, जब प्यार पुराना दर्शाकर
वह प्राप्ति सूचना देते हैं, सीमा पर गोली-वर्षा कर
चुप रहने को  हम चुप इतना  कि मरघट भी शर्म से गड़ जाए
बंदूकों से छूटी गोली पर, कैसे चूमोगे प्यार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।

मालूम हमें है तेज़ी से निर्माण हो रहा भारत का
चहुँ ओर अहिंसा के कारण गुणगान हो रहा भारत का
पर यह भी सच है, आज़ादी है, तो ही चल रही अहिंसा है
वरना अपना घर दीखेगा फिर कहाँ क़ुतुब मीनार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

स्वातंत्र्य न निर्धन की पत्नी कि पड़ोसी जब चाहें छेड़ें
यह वह पागलपन है जिसमें शेरों से लड़ जाती हैं भेड़ें
पर यहाँ ठीक इसके उल्टे, हैं भेड़ छेड़ने वाले ही
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

नहरें फिर भी खुद सकती हैं, बन सकती है योजना नई
जीवित है तो फिर कर लेंगे कल्पना नई, कामना नई
घर की है बात, यहाँ 'बोतल' पीछे भी पकड़ी जाएगी
पहले चलकर के सीमा पर सर झुकवा लो संसार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

फिर कहीं ग़ुलामी आई तो, क्या कर लेंगे हम निर्भय भी
स्वातंत्र्य सूर्य के साथ अस्त हो जाएगा सर्वोदय भी
इसलिए मोल आज़ादी का नित सावधान रहने में है
लड़ने का साहस कौन करे, फिर मरने को तैयार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

तैयारी को भी तो थोड़ा चाहिए समय, साधन, सुविधा
इसलिए जुटाओ अस्त्र-शस्त्र, छोड़ो ढुलमुल मन की दुविधा
जब इतना बड़ा विमान तीस नखरे करता तब उड़ता है
फिर कैसे तीस करोड़ समर को चल देंगे बाज़ार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

हम लड़ें नहीं प्रण तो ठानें, रण-रास रचाना तो सीखें
होना स्वतंत्र हम जान गए, स्वातंत्र्य बचाना तो सीखें
वह माने सिर्फ़ नमस्ते से, जो हँसे, मिले, मृदु बात करे
बंदूक चलाने वाला माने बमबारी की मार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


सिद्धांत, धर्म कुछ और चीज़, आज़ादी है कुछ और चीज़
सब कुछ है तरु-डाली-पत्ते, आज़ादी है बुनियाद चीज़
इसलिए वेद, गीता, कुर‍आन, दुनिया ने लिखे स्याही से
लेकिन लिक्खा आज़ादी का इतिहास रुधिर की धार से
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।
चर्खा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।
Logged
zarraa
Yoindian Shayar
******

Rau: 92
Offline Offline

Waqt Bitaya:
7 days, 23 hours and 5 minutes.
Posts: 2093
Member Since: May 2012


View Profile
«Reply #1 on: October 21, 2013, 12:31:37 AM »
Reply with quote
Waah ....bahaut khoob....ek damdaar asardaar aur sawaal uthaatee huwee rachna share karne ka shukriya Anand ji
Logged
ambalika sharma
Khususi Shayar
*****

Rau: 23
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
9 days, 23 hours and 37 minutes.
sirf ehsaas hi kafi hai rishte nibhane ke liye.

Posts: 1343
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #2 on: October 21, 2013, 12:33:31 AM »
Reply with quote
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
kafi mahatvapurna baatein kahi apne...
Logged
RAJAN KONDAL
Umda Shayar
*

Rau: 10
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
24 days, 1 hours and 59 minutes.

main shaiyar ta nahi magar shaiyri meri zindgi hai

Posts: 5103
Member Since: Jan 2013


View Profile WWW
«Reply #3 on: October 21, 2013, 12:48:22 AM »
Reply with quote
wha wha bhut khub
Gud sharing
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 1 hours and 45 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #4 on: October 21, 2013, 04:01:57 AM »
Reply with quote
ek rau ke saath badhaai
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 112
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 5 hours and 38 minutes.
Posts: 13629
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #5 on: October 21, 2013, 04:25:42 AM »
Reply with quote
wah wah Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 34 minutes.

Posts: 6544
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #6 on: October 21, 2013, 04:41:01 AM »
Reply with quote
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।

यह राम-कृष्ण की जन्मभूमि, पावन धरती सीताओं की
फिर कमी रही कब भारत में सभ्यता, शांति, सदभावों की
पर बने पड़ोसी कुछ ऐसे, गोली चलती उस पार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


तुम उड़ा कबूतर अंबर में संदेश शांति का देते हो
चिट्ठी लिखकर रह जाते हो, जब कुछ गड़बड़ सुन लेते हो
वक्तव्य लिखो कि विरोध करो, यह भी काग़ज़ वह भी काग़ज़
कब नाव राष्ट्र की पार लगी यों काग़ज़ की पतवार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


तुम चावल भिजवा देते हो, जब प्यार पुराना दर्शाकर
वह प्राप्ति सूचना देते हैं, सीमा पर गोली-वर्षा कर
चुप रहने को  हम चुप इतना  कि मरघट भी शर्म से गड़ जाए
बंदूकों से छूटी गोली पर, कैसे चूमोगे प्यार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।

मालूम हमें है तेज़ी से निर्माण हो रहा भारत का
चहुँ ओर अहिंसा के कारण गुणगान हो रहा भारत का
पर यह भी सच है, आज़ादी है, तो ही चल रही अहिंसा है
वरना अपना घर दीखेगा फिर कहाँ क़ुतुब मीनार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

स्वातंत्र्य न निर्धन की पत्नी कि पड़ोसी जब चाहें छेड़ें
यह वह पागलपन है जिसमें शेरों से लड़ जाती हैं भेड़ें
पर यहाँ ठीक इसके उल्टे, हैं भेड़ छेड़ने वाले ही
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

नहरें फिर भी खुद सकती हैं, बन सकती है योजना नई
जीवित है तो फिर कर लेंगे कल्पना नई, कामना नई
घर की है बात, यहाँ 'बोतल' पीछे भी पकड़ी जाएगी
पहले चलकर के सीमा पर सर झुकवा लो संसार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

फिर कहीं ग़ुलामी आई तो, क्या कर लेंगे हम निर्भय भी
स्वातंत्र्य सूर्य के साथ अस्त हो जाएगा सर्वोदय भी
इसलिए मोल आज़ादी का नित सावधान रहने में है
लड़ने का साहस कौन करे, फिर मरने को तैयार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

तैयारी को भी तो थोड़ा चाहिए समय, साधन, सुविधा
इसलिए जुटाओ अस्त्र-शस्त्र, छोड़ो ढुलमुल मन की दुविधा
जब इतना बड़ा विमान तीस नखरे करता तब उड़ता है
फिर कैसे तीस करोड़ समर को चल देंगे बाज़ार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।

हम लड़ें नहीं प्रण तो ठानें, रण-रास रचाना तो सीखें
होना स्वतंत्र हम जान गए, स्वातंत्र्य बचाना तो सीखें
वह माने सिर्फ़ नमस्ते से, जो हँसे, मिले, मृदु बात करे
बंदूक चलाने वाला माने बमबारी की मार से ।
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।।
चरखा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।


सिद्धांत, धर्म कुछ और चीज़, आज़ादी है कुछ और चीज़
सब कुछ है तरु-डाली-पत्ते, आज़ादी है बुनियाद चीज़
इसलिए वेद, गीता, कुर‍आन, दुनिया ने लिखे स्याही से
लेकिन लिक्खा आज़ादी का इतिहास रुधिर की धार से
ओ राही दिल्ली जाना तो कहना अपनी सरकार से ।
चर्खा चलता है हाथों से, शासन चलता तलवार से ।।



waaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaah kya kavita hai ek RAU wali hai Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause

anand mohan ji ise kisi patrika mein bhejna zaroor chhape gi
Logged
Advo.RavinderaRavi
Khaas Shayar
**

Rau: 135
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
61 days, 3 hours and 30 minutes.
I Love My Nation.

Posts: 12009
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #7 on: October 21, 2013, 06:16:52 AM »
Reply with quote
क्या बात है क्या बात है,,,,,,,,,,,
Logged
Ishq007
Aghaaz ae Shayar
*

Rau: 1
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
5 days, 7 hours and 31 minutes.

Posts: 37
Member Since: Mar 2013


View Profile
«Reply #8 on: October 21, 2013, 08:02:43 AM »
Reply with quote
bhai , aap ne mera dil jeet liya... mai aap ko salute karta hun.....#respect !!
kya tareef kaun... tareef se bahut upar ki lines hai aap ki........
Logged
aqsh
Poetic Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 230
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
54 days, 3 hours and 29 minutes.

aqsh

Posts: 13034
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #9 on: October 21, 2013, 06:07:58 PM »
Reply with quote
Nice sharinggggggggggg....
Logged
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
«Reply #10 on: October 22, 2013, 04:52:50 AM »
Reply with quote
Waah ....bahaut khoob....ek damdaar asardaar aur sawaal uthaatee huwee rachna share karne ka shukriya Anand ji
THANKS ZARRAA JEE
Logged
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
«Reply #11 on: October 26, 2013, 09:00:29 PM »
Reply with quote
Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
kafi mahatvapurna baatein kahi apne...
pasandgi ke liye shukriya , ambalika jee
Logged
anand mohan
Maqbool Shayar
****

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
3 days, 23 hours and 18 minutes.

Posts: 457
Member Since: Jul 2008


View Profile
«Reply #12 on: October 29, 2013, 11:27:15 PM »
Reply with quote
..
Logged
Pages: [1]
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 20, 2019, 11:44:51 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 20, 2019, 04:30:14 AM]

[July 20, 2019, 12:00:47 AM]

[July 19, 2019, 09:50:39 PM]

[July 19, 2019, 09:39:37 PM]

[July 19, 2019, 09:36:14 PM]

[July 19, 2019, 09:35:20 PM]

[July 19, 2019, 09:34:25 PM]

[July 19, 2019, 09:33:37 PM]

[July 19, 2019, 09:31:00 PM]

[July 18, 2019, 09:06:19 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.214 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer