बड़ी जालिम थी वो संग दिल हसीना.. " ऋषि "

by Rishi Agarwal on January 06, 2014, 08:23:14 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 547 times)
Rishi Agarwal
Umda Shayar
*

Rau: 14
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
28 days, 5 hours and 40 minutes.

साहित्य सागर

Posts: 6756
Member Since: Jul 2009


View Profile

अधूरे जज्बातों पे लूट लिया मेरे प्यार को,
खामोशी से सहता रहा, टूटते विश्वास को..

लिखने को लिख दूँ, मोहब्बत की दास्तान,
पर कैसे समझाऊगा, इस टूटे दिल यार को..

घुट घुट कर जीना भी क्या जीना प्यार में,
दर्दो की गुलामी नहीं पसंद, इस नवाब को..

प्यार के आलम ने भी खेल खेला हैं अजब,
चंद पल की खुशियाँ, कैसे भूलू सौगात को..

कैसी फ़ितरत, इस जालसाज मोहब्बत की,
बिखर जाते सपने और लुट लेती सकुन को..

"ऋषि" बड़ी जालिम थी वो संग दिल हसीना,
खुद की ख़ुशी के लिए लुट लिया एहसास को..



दिनांक :- ०५ जनवरी २०१४
Logged
RAJAN KONDAL
Umda Shayar
*

Rau: 10
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
24 days, 1 hours and 59 minutes.

main shaiyar ta nahi magar shaiyri meri zindgi hai

Posts: 5103
Member Since: Jan 2013


View Profile WWW
«Reply #1 on: January 06, 2014, 08:38:18 AM »

अधूरे जज्बातों पे लूट लिया मेरे प्यार को,
खामोशी से सहता रहा, टूटते विश्वास को..

लिखने को लिख दूँ, मोहब्बत की दास्तान,
पर कैसे समझाऊगा, इस टूटे दिल यार को..

घुट घुट कर जीना भी क्या जीना प्यार में,
दर्दो की गुलामी नहीं पसंद, इस नवाब को..

प्यार के आलम ने भी खेल खेला हैं अजब,
चंद पल की खुशियाँ, कैसे भूलू सौगात को..

कैसी फ़ितरत, इस जालसाज मोहब्बत की,
बिखर जाते सपने और लुट लेती सकुन को..

"ऋषि" बड़ी जालिम थी वो संग दिल हसीना,
खुद की ख़ुशी के लिए लुट लिया एहसास को..



दिनांक :- ०५ जनवरी २०१४
Wha wha rishi ji bhut khub
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 4 hours and 17 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #2 on: January 06, 2014, 05:02:19 PM »
bahut khoob
Logged
Miraj.
Yoindian Shayar
******

Rau: 12
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
7 days, 21 hours and 3 minutes.
Tere Liye Hai Meri Saanse..!!

Posts: 2554
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #3 on: January 06, 2014, 06:18:10 PM »
BAHUT BAHUT KHOOB......

 Applause Applause Applause Applause
Logged
amit_prakash_meet
Umda Shayar
*

Rau: 33
Offline Offline

Waqt Bitaya:
15 days, 15 hours and 2 minutes.
Posts: 5686
Member Since: Dec 2011


View Profile
«Reply #4 on: January 06, 2014, 06:39:32 PM »
बहुत खूब.....
Logged
aqsh
Poetic Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 230
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
54 days, 3 hours and 29 minutes.

aqsh

Posts: 13034
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #5 on: January 07, 2014, 12:53:26 AM »
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Bahut khoooooooooob... dheron daaaaaaaaaad...
Logged
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
«Reply #6 on: January 07, 2014, 02:54:59 AM »
अधूरे जज्बातों पे लूट लिया मेरे प्यार को,
खामोशी से सहता रहा, टूटते विश्वास को..

लिखने को लिख दूँ, मोहब्बत की दास्तान,
पर कैसे समझाऊगा, इस टूटे दिल यार को..

घुट घुट कर जीना भी क्या जीना प्यार में,
दर्दो की गुलामी नहीं पसंद, इस नवाब को..

प्यार के आलम ने भी खेल खेला हैं अजब,
चंद पल की खुशियाँ, कैसे भूलू सौगात को..

कैसी फ़ितरत, इस जालसाज मोहब्बत की,
बिखर जाते सपने और लुट लेती सकुन को..

"ऋषि" बड़ी जालिम थी वो संग दिल हसीना,
खुद की ख़ुशी के लिए लुट लिया एहसास को..

 Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
October 17, 2019, 08:24:50 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.186 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 48386 Real Poets and poetry admirer