*** Main Ladungi ***

by Zaif on February 20, 2014, 06:04:28 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 316 times)
Zaif
Maqbool Shayar
****

Rau: 23
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
2 days, 22 hours and 59 minutes.

Posts: 601
Member Since: Feb 2013


View Profile WWW
मैं लडूंगी - (एक कविता)
(About domestic voilence)
****************************--

कली हूँ एक नाज़ुक-सी, "धरा पे भार" नहीं हूँ मैं।
मैं भी एक इंसाँ हूँ आख़िर गुनाहगार नहीं हूँ मैं।

कब तुम ये समझोगे, किस हाल में होती थी मैं?
दबा कर मुँह तकिये से, रात-भर रोती थी मैं।

आज भी मेरी याद में, वो भेड़िये-से इंसान हैं।
मेरे तन पर अब भी जिनके पंजों के निशान हैं।

उस दिन जो देख लिया था बहता वो लहू मेरा।
आज तक उस दर्द से उभरा नहीं अब्बू मेरा।

आकर कोई देखो क्या हालत हुई है भाई की?
रो-रोकर पत्थर हुईं हैं आँखें मेरी माई की।

जीने दो, कि जीने का अधिकार मुझे भी है।
हाँ अपनी ख़ुदी पर थोड़ा प्यार मुझे भी है।

छींनो न पहचान मेरी, अब और यूँ दुत्कारो मत।
बहुत सह लिया है मैंने, अब मुझे ललकारो मत।

बस बहुत हुआ, अब ज़ुल्म-ओ-सितम मैं क्यूँ झेलूँ?
दुर्गा मेरे अंदर है, काली का मैं रूप न ले लूँ।

मैं घुट रही हूँ सदियों से, मैं छुप रही हूँ सदियों से।
लाख ज़ुल्म के बावजूद में चुप रही हूँ सदियों से।

पर अब भी आग बाक़ी है, आस मरी नहीं मुझमें।
आज हुआ अहसास मुझे, है चिंगारी कहीं मुझमें।

अफ़सोस कि ये चिंगारी उसी दिन बड़ी क्यूँ नहीं?7
हाँ मैं लडूंगी कि मैं अब तक लड़ी क्यूँ नहीं?  

© 'ज़ैफ'
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 1 hours and 45 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #1 on: February 20, 2014, 06:55:20 PM »
bahut khoob dher saree dad
Logged
Akash Basudev
Shayari Qadrdaan
***

Rau: 8
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
1 days, 13 hours and 27 minutes.

Posts: 353
Member Since: Jan 2014


View Profile
«Reply #2 on: February 20, 2014, 08:04:17 PM »
Waah Zaif bhaijaan aapne dil jeet jeet liye is tareh ki rachna likhkar...aurat ka sthaan yun to sabse upar hona chahiye par sabse neeche hain....is tareh ki rachne likhte rahiye ...kudos 2 u ..well done Usual Smile
Logged
ambalika sharma
Khususi Shayar
*****

Rau: 23
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
9 days, 23 hours and 37 minutes.
sirf ehsaas hi kafi hai rishte nibhane ke liye.

Posts: 1343
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #3 on: February 20, 2014, 08:11:00 PM »
 tearyeyed  nice lines
Logged
Shireen Hakani
Poetic Patrol
Yoindian Shayar
******

Rau: 134
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
29 days, 1 hours and 51 minutes.
Posts: 2313
Member Since: May 2012


View Profile
«Reply #4 on: February 20, 2014, 08:58:43 PM »
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley

 Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
Logged
jeet jainam
Khaas Shayar
**

Rau: 237
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
60 days, 8 hours and 57 minutes.

my rule no type no life and ,i m happy single

Posts: 10150
Member Since: Dec 2012


View Profile WWW
«Reply #5 on: February 21, 2014, 02:49:18 AM »
कली हूँ एक नाज़ुक-सी, "धरा पे भार" नहीं हूँ मैं।
मैं भी एक इंसाँ हूँ आख़िर गुनाहगार नहीं हूँ मैं।

कब तुम ये समझोगे, किस हाल में होती थी मैं?
दबा कर मुँह तकिये से, रात-भर रोती थी मैं।

आज भी मेरी याद में, वो भेड़िये-से इंसान हैं।
मेरे तन पर अब भी जिनके पंजों के निशान हैं।

उस दिन जो देख लिया था बहता वो लहू मेरा।
आज तक उस दर्द से उभरा नहीं अब्बू मेरा।

आकर कोई देखो क्या हालत हुई है भाई की?
रो-रोकर पत्थर हुईं हैं आँखें मेरी माई की।

जीने दो, कि जीने का अधिकार मुझे भी है।
हाँ अपनी ख़ुदी पर थोड़ा प्यार मुझे भी है।

छींनो न पहचान मेरी, अब और यूँ दुत्कारो मत।
बहुत सह लिया है मैंने, अब मुझे ललकारो मत।

बस बहुत हुआ, अब ज़ुल्म-ओ-सितम मैं क्यूँ झेलूँ?
दुर्गा मेरे अंदर है, काली का मैं रूप न ले लूँ।

मैं घुट रही हूँ सदियों से, मैं छुप रही हूँ सदियों से।
लाख ज़ुल्म के बावजूद में चुप रही हूँ सदियों से।

पर अब भी आग बाक़ी है, आस मरी नहीं मुझमें।
आज हुआ अहसास मुझे, है चिंगारी कहीं मुझमें।

अफ़सोस कि ये चिंगारी उसी दिन बड़ी क्यूँ नहीं?7
हाँ मैं लडूंगी कि मैं अब तक लड़ी क्यूँ नहीं

 Applause Applause Applause Applause Applause
 kiya baat kiya baat kiya baat sir ji
Logged
F.H.SIDDIQUI
General Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 528
Offline Offline

Waqt Bitaya:
66 days, 6 hours and 51 minutes.
Posts: 9946
Member Since: Oct 2010


View Profile
«Reply #6 on: February 21, 2014, 03:25:49 AM »
Waah zaif sb , Bahut hi khubsurat kalaam hai .
Achha dard pesh kiya hai . Tah e dil s daad
aur mubarakbad.
Logged
RAJAN KONDAL
Umda Shayar
*

Rau: 10
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
24 days, 1 hours and 59 minutes.

main shaiyar ta nahi magar shaiyri meri zindgi hai

Posts: 5103
Member Since: Jan 2013


View Profile WWW
«Reply #7 on: February 21, 2014, 07:41:58 AM »
bhoooot khooooooob ......
Logged
Advo.RavinderaRavi
Khaas Shayar
**

Rau: 135
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
61 days, 3 hours and 30 minutes.
I Love My Nation.

Posts: 12009
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #8 on: February 21, 2014, 09:39:33 AM »
बहुत खूब.
Logged
Abdul Azeem Azaad
Mashhur Shayar
***

Rau: 14
Online Online

Gender: Male
Waqt Bitaya:
63 days, 16 hours and 8 minutes.

Humko Abtak Aashiqi Ka Wo Zamaana Yaad Hai,.

Posts: 19789
Member Since: Feb 2006


View Profile
«Reply #9 on: February 25, 2014, 11:07:41 AM »
Bohat achcha likha hai yunhi Likhte rahiye
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 16, 2019, 02:46:17 AM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 16, 2019, 12:15:27 AM]

[July 16, 2019, 12:00:41 AM]

[July 15, 2019, 11:56:35 PM]

[July 15, 2019, 11:55:43 PM]

[July 15, 2019, 11:54:28 PM]

[July 15, 2019, 09:11:21 PM]

[July 14, 2019, 03:11:22 PM]

[July 14, 2019, 01:52:10 PM]

by Hrishikesh tandekar
[July 14, 2019, 01:21:47 PM]

[July 13, 2019, 11:22:08 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.174 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer