band kro shiv per dudh chadna - Jash Panchi

by JASH PANCHI on June 15, 2016, 05:05:10 AM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 885 times)
JASH PANCHI
New Member


Rau: 1
Offline Offline

Waqt Bitaya:
3 hours and 25 minutes.
Posts: 16
Member Since: May 2016


View Profile
हज़ारो लीटर दूध " शिवजी पर चढ़ता है
आता कोई काम नहीं" जा नाली मे  मिलता है
बेजुबान है जो उसको " भोग लगाना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना
बंद करो शिव " पर दूध चढ़ाना

जूठी दुनिया से बहार निकल क्रर "सोचो दिमाग लगाकर
हज़ारो लोग मर जाते है "सड़कों पर भूखे रह कर
उससे बड़ा पूण कोई न "भूखे को अन्न खिलना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना

माँ बाप की सेवा "घर को स्वर्ग बना देती
गंगा जमना  सरस्वती " सब घर मे बहा  देती
जीते जी ठोकर मार कर "मरने पर लंगर लगाना  
बंद करो मरने के बाद "श्राद्ध  बनाना

लंगर लगाकर भी कुछ  लोग " पाप कमा जाते
दे के धक्के गरीबो को " आप डोलू भर ले जाते
खाने को दाने नहीं " मंदिर को सोने का बनना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना

मत बोल सच "पंछी " जाल मे फस जाएगा
बैठे है लोग लड़ने को " धार्मिक मुदा  बन जाएगा
जूठी दुनिया मे " सच को दबाना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना


facebook :  Jash Panchi

Logged
Shikha sanghvi
Yoindian Shayar
******

Rau: 25
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
7 days, 14 hours and 15 minutes.

Shayari likhna or padhna humari hobby hai

Posts: 2266
Member Since: Jan 2015


View Profile WWW
«Reply #1 on: June 15, 2016, 11:03:37 AM »
Very true and niceeee thought
Logged
surindarn
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 273
Offline Offline

Waqt Bitaya:
134 days, 2 hours and 27 minutes.
Posts: 31520
Member Since: Mar 2012


View Profile
«Reply #2 on: June 15, 2016, 10:51:26 PM »
Achhaa vichar hai par maantaa kaun hai aapke ehsaas pe waah waah.
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
Rustum Rangila
Yoindian Shayar
******

Rau: 128
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
10 days, 16 hours and 31 minutes.

Posts: 2534
Member Since: Oct 2015


View Profile
«Reply #3 on: June 16, 2016, 10:46:23 AM »
हज़ारो लीटर दूध " शिवजी पर चढ़ता है
आता कोई काम नहीं" जा नाली मे  मिलता है
बेजुबान है जो उसको " भोग लगाना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना
बंद करो शिव " पर दूध चढ़ाना

जूठी दुनिया से बहार निकल क्रर "सोचो दिमाग लगाकर
हज़ारो लोग मर जाते है "सड़कों पर भूखे रह कर
उससे बड़ा पूण कोई न "भूखे को अन्न खिलना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना

माँ बाप की सेवा "घर को स्वर्ग बना देती
गंगा जमना  सरस्वती " सब घर मे बहा  देती
जीते जी ठोकर मार कर "मरने पर लंगर लगाना   
बंद करो मरने के बाद "श्राद्ध  बनाना

लंगर लगाकर भी कुछ  लोग " पाप कमा जाते
दे के धक्के गरीबो को " आप डोलू भर ले जाते
खाने को दाने नहीं " मंदिर को सोने का बनना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना

मत बोल सच "पंछी " जाल मे फस जाएगा
बैठे है लोग लड़ने को " धार्मिक मुदा  बन जाएगा
जूठी दुनिया मे " सच को दबाना
बंद करो पत्थर " पर अन्न चढ़ाना


facebook :  Jash Panchi



Bhai Jash ji, aate hi hangama aur itna pyara hangama ke aqhlon par gire parde hat jaen...  Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 8 hours and 51 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #4 on: June 17, 2016, 12:14:41 AM »
 icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut icon_salut
Logged
Sps
Guest
«Reply #5 on: June 17, 2016, 08:52:40 AM »
nice thought!
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
August 09, 2022, 08:22:06 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[August 09, 2022, 01:30:38 PM]

[August 09, 2022, 12:50:30 AM]

[August 08, 2022, 10:03:55 AM]

[August 08, 2022, 09:59:11 AM]

[August 06, 2022, 12:57:55 PM]

[August 06, 2022, 12:57:05 PM]

[August 05, 2022, 06:12:55 AM]

by ass
[August 04, 2022, 11:32:44 AM]

[August 04, 2022, 03:12:09 AM]

[August 04, 2022, 03:09:55 AM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.151 seconds with 26 queries.
[x] Join now community of 8450 Real Poets and poetry admirer