ghazal

by shahid hasan on October 23, 2015, 02:50:33 PM
Pages: [1]
Print
Author  (Read 486 times)
shahid hasan
New Member


Rau: 3
Offline Offline

Waqt Bitaya:
5 hours and 25 minutes.
Posts: 18
Member Since: Jan 2012


View Profile

          ghazal
 
होंटों पे जो अपने लिए इन्कार खड़े हैं
आँखों में समाये हुए इक़रार खड़े हैं

आवाज़ मिरे कानों में आती है मुसलसल
सरगोशियाँ करते दरो-दीवार खड़े हैं

ऐ झूट के शैदाई तू हम से न उलझना
हम लफ़्ज़ों की मुंह में लिए तलवार खड़े हैं

खुशियां कहीं लाएँ किसी नौख़ेज़ की आमद
कुछ लोग मगर जाने को तय्यार खड़े हैं

दिल चाहता है खुद से मुलाक़ात करें हम
हम हाथ में थामे हुए अखबार खड़े हैं

अरसा हुआ छोड़ आया था जो गाँव में अपने
क्या अब भी मुहब्बत के वो अश्जार खड़े हैं

पैरों में नदामत की ये ज़ंजीरें हैं 'शाहिद'
महफ़िल में तिरी तेरे गुनहगार खड़े हैं

शाहिद हसन 'शाहिद'      9759698300
 
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
a ghazal by mudassirali in Shayri for Khumar -e- Ishq
ghazal by roomaharis in Shayri-E-Dard « 1 2 3  All »
Ghazal by Pooja in Ghazals
ghazal by Faisal Husain in Ghazals
ghazal mein unka zikar * ghazal * by saahill in Shayri for Khumar -e- Ishq
Shihab
Yoindian Shayar
******

Rau: 27
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
27 days, 19 hours and 13 minutes.

Maut To Ek Shuruaat Hai...

Posts: 2060
Member Since: Dec 2006


View Profile
«Reply #1 on: October 23, 2015, 07:28:28 PM »
वाह वाह बहुत खूब शाहीद साहेब Clapping Smiley



शाद ओ आबद रहीये


शीहाब
Logged
adil bechain
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
31 days, 15 hours and 53 minutes.

Posts: 6546
Member Since: Mar 2009


View Profile
«Reply #2 on: October 24, 2015, 08:20:17 AM »

          ghazal
 
होंटों पे जो अपने लिए इन्कार खड़े हैं
आँखों में समाये हुए इक़रार खड़े हैं

आवाज़ मिरे कानों में आती है मुसलसल
सरगोशियाँ करते दरो-दीवार खड़े हैं

ऐ झूट के शैदाई तू हम से न उलझना
हम लफ़्ज़ों की मुंह में लिए तलवार खड़े हैं

खुशियां कहीं लाएँ किसी नौख़ेज़ की आमद
कुछ लोग मगर जाने को तय्यार खड़े हैं

दिल चाहता है खुद से मुलाक़ात करें हम
हम हाथ में थामे हुए अखबार खड़े हैं

अरसा हुआ छोड़ आया था जो गाँव में अपने
क्या अब भी मुहब्बत के वो अश्जार खड़े हैं

पैरों में नदामत की ये ज़ंजीरें हैं 'शाहिद'
महफ़िल में तिरी तेरे गुनहगार खड़े हैं

शाहिद हसन 'शाहिद'      9759698300
 


waaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah janaab bahot khooobsoorat ghazal per rau ka nazranaa pesh hai Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
durgaprasadbehera
New Member


Rau: 0
Offline Offline

Waqt Bitaya:
1 hours and 51 minutes.
Posts: 15
Member Since: Sep 2015


View Profile
«Reply #3 on: October 25, 2015, 05:00:58 PM »
Bahut khub...  Applause Applause Applause Applause
Logged
shahid hasan
New Member


Rau: 3
Offline Offline

Waqt Bitaya:
5 hours and 25 minutes.
Posts: 18
Member Since: Jan 2012


View Profile
«Reply #4 on: October 27, 2015, 05:49:23 AM »
SHUKRIYA SHIHAB ,BHAI
Logged
Pages: [1]
Print
Jump to:  


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
June 05, 2020, 03:39:20 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[June 05, 2020, 02:04:52 PM]

[June 05, 2020, 01:58:35 PM]

[June 05, 2020, 01:56:47 PM]

[June 05, 2020, 01:55:17 PM]

[June 05, 2020, 01:53:52 PM]

[June 05, 2020, 01:52:41 PM]

[June 05, 2020, 01:51:46 PM]

[June 05, 2020, 01:50:04 PM]

[June 05, 2020, 01:48:37 PM]

[June 05, 2020, 01:46:41 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.221 seconds with 25 queries.
[x] Join now community of 14361 Real Poets and poetry admirer