kashmkash jaati nahin.................saru...................

by SURESH SANGWAN on December 25, 2013, 01:58:30 AM
Pages: 1 [2] 3  All
ReplyPrint
Author  (Read 1234 times)
marhoom bahayaat
Guest
«Reply #15 on: December 26, 2013, 10:20:08 PM »
Reply with quote


रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं






wonderful,ma'am your ghazal is closed to reality
Logged
Similar Poetry and Posts (Note: Find replies to above post after the related posts and poetry)
Takleef Jaati Nahin......!! by Talat in Ghazals « 1 2 3 4  All »
Ibaadat si hui jaati hai...................saru................. by SURESH SANGWAN in Miscellaneous Shayri « 1 2 3  All »
panw tale zameen nahin hai................saru.................. by SURESH SANGWAN in Shayri for Khumar -e- Ishq « 1 2  All »
Bujhi aankhon ki thakaan chali jaati..............saru............. by SURESH SANGWAN in Miscellaneous Shayri « 1 2  All »
koi manjil bhi nahiN...........saru...........111 by SURESH SANGWAN in Ghazals « 1 2  All »
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #16 on: December 28, 2013, 12:20:41 AM »
Reply with quote
thanks a lot jeet ji
wav
रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं

 Applause Applause Applause Applause Applause

wah wah wah bohut khub
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #17 on: December 28, 2013, 12:21:15 AM »
Reply with quote
 icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
thanks a lot Bahahaayat ji
 icon_flower icon_flower
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #18 on: December 28, 2013, 12:22:13 AM »
Reply with quote
thanks a lot Musaahib ji
wav
WAAH WAAH WAAH Suresh Jee...Kamaal Ki Peshkash..Dheron Daad...
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #19 on: December 28, 2013, 12:23:19 AM »
Reply with quote
Iftakhar ji thankewwwwwwwwwwwwww soooooooooooooooooooo much.
wav
wav
या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

waah waah Saru jee behad khoob, above ashaar bahut pasand aaye, dheroN daad aur ek Rau meri taraf se qubool kareN.
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #20 on: December 28, 2013, 12:27:53 AM »
Reply with quote
bahut bahut shukriya shihab ji
wav

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

Wah Bahut Khub Suresh Jee Clapping Smiley


Shad o Aabaad Rahiye


Shihab
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #21 on: December 28, 2013, 12:28:48 AM »
Reply with quote
bahut 2 shukriya sksaini ji
wav
wav
रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं
 laajawaab peshkash dheron daad keep it up
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #22 on: December 28, 2013, 12:29:41 AM »
Reply with quote
 icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
thanks Miraj ji
Waah waah bahut umda.....super one...... Thumbs UP

 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #23 on: December 28, 2013, 12:30:21 AM »
Reply with quote
sudhir ji thankewww very much
:waV:
Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #24 on: December 28, 2013, 02:22:13 PM »
Reply with quote
thanks nandbahu ji
wav
wah wah
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #25 on: December 29, 2013, 01:05:38 AM »
Reply with quote
thanks qalb ji
wav

 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #26 on: December 29, 2013, 07:01:19 PM »
Reply with quote
thanks shihab ji.

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

Wah Bahut Khub Suresh Jee Clapping Smiley


Shad o Aabaad Rahiye


Shihab
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #27 on: January 04, 2014, 10:10:32 PM »
Reply with quote
thankeww soooooo much aqsh ji
wav
Logged
suman59
Guest
«Reply #28 on: January 04, 2014, 11:42:51 PM »
Reply with quote
excellant  Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
SURESH SANGWAN
Guest
«Reply #29 on: January 05, 2014, 08:41:19 PM »
Reply with quote
thankeeewwww suman ji
wav
wav
excellant  Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
Pages: 1 [2] 3  All
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
September 27, 2020, 10:11:08 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[September 27, 2020, 07:10:39 PM]

[September 27, 2020, 05:01:41 PM]

[September 27, 2020, 04:59:24 PM]

[September 27, 2020, 04:52:44 PM]

[September 27, 2020, 04:41:44 PM]

[September 27, 2020, 04:31:31 PM]

[September 27, 2020, 02:42:39 PM]

[September 27, 2020, 02:36:31 PM]

[September 27, 2020, 02:34:28 PM]

[September 27, 2020, 02:33:36 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.251 seconds with 23 queries.
[x] Join now community of 8396 Real Poets and poetry admirer