kashmkash jaati nahin.................saru...................

by SURESH SANGWAN on December 25, 2013, 07:28:30 AM
Pages: [1] 2 3  All
ReplyPrint
Author  (Read 1031 times)
SURESH SANGWAN
Umda Shayar
*

Rau: 776
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
27 days, 13 hours and 31 minutes.

I'm full of life !life is full of love

Posts: 8804
Member Since: Feb 2010


View Profile WWW
Reply with quote


रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं


Logged
jeet jainam
Khaas Shayar
**

Rau: 237
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
60 days, 8 hours and 57 minutes.

my rule no type no life and ,i m happy single

Posts: 10150
Member Since: Dec 2012


View Profile WWW
«Reply #1 on: December 25, 2013, 08:11:54 AM »
Reply with quote
रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं

 Applause Applause Applause Applause Applause

wah wah wah bohut khub
Logged
Bishwajeet 'Musaahib'
Khususi Shayar
*****

Rau: 73
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
14 days, 13 hours and 25 minutes.

मेरी ग़ज़ल ही मेरी आबरू है ..

Posts: 1806
Member Since: Apr 2011


View Profile WWW
«Reply #2 on: December 25, 2013, 08:41:06 AM »
Reply with quote
WAAH WAAH WAAH Suresh Jee...Kamaal Ki Peshkash..Dheron Daad...
Logged
Shihab
Yoindian Shayar
******

Rau: 27
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
27 days, 14 hours and 0 minutes.

Maut To Ek Shuruaat Hai...

Posts: 2060
Member Since: Dec 2006


View Profile
«Reply #3 on: December 25, 2013, 09:53:59 AM »
Reply with quote

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

Wah Bahut Khub Suresh Jee Clapping Smiley


Shad o Aabaad Rahiye


Shihab
Logged
Iftakhar Ahmad
Yoindian Shayar
******

Rau: 172
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
25 days, 22 hours and 17 minutes.

Iftakhar Ahmad Siddiqui

Posts: 4033
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #4 on: December 25, 2013, 10:49:59 AM »
Reply with quote
या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

waah waah Saru jee behad khoob, above ashaar bahut pasand aaye, dheroN daad aur ek Rau meri taraf se qubool kareN.
Logged
sksaini4
Ustaad ae Shayari
*****

Rau: 853
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
112 days, 1 hours and 45 minutes.
Posts: 36414
Member Since: Apr 2011


View Profile
«Reply #5 on: December 25, 2013, 01:53:06 PM »
Reply with quote
रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं
 laajawaab peshkash dheron daad keep it up
Logged
Miraj.
Yoindian Shayar
******

Rau: 12
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
7 days, 21 hours and 3 minutes.
Tere Liye Hai Meri Saanse..!!

Posts: 2554
Member Since: Jan 2013


View Profile
«Reply #6 on: December 25, 2013, 02:42:58 PM »
Reply with quote
Waah waah bahut umda.....super one...... Thumbs UP

 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley
Logged
nandbahu
Khaas Shayar
**

Rau: 112
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
18 days, 5 hours and 38 minutes.
Posts: 13629
Member Since: Sep 2011


View Profile
«Reply #7 on: December 25, 2013, 02:45:08 PM »
Reply with quote
wah wah
Logged
Sudhir Ashq
Khususi Shayar
*****

Rau: 108
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
16 days, 17 hours and 12 minutes.

Posts: 1810
Member Since: Feb 2013


View Profile WWW
«Reply #8 on: December 25, 2013, 05:17:29 PM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause
Logged
RAJAN KONDAL
Umda Shayar
*

Rau: 10
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
24 days, 1 hours and 59 minutes.

main shaiyar ta nahi magar shaiyri meri zindgi hai

Posts: 5103
Member Since: Jan 2013


View Profile WWW
«Reply #9 on: December 25, 2013, 06:07:07 PM »
Reply with quote
नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं
Wha wha wha bhut khub suresh ji
Logged
qalb
Umda Shayar
*

Rau: 160
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
41 days, 21 hours and 16 minutes.
Posts: 7189
Member Since: Jun 2011


View Profile
«Reply #10 on: December 25, 2013, 06:41:02 PM »
Reply with quote


रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं





 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower icon_flower
Logged
pawan16
Khususi Shayar
*****

Rau: 12
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
10 days, 22 hours and 1 minutes.

Posts: 1172
Member Since: Jul 2011


View Profile WWW
«Reply #11 on: December 25, 2013, 07:03:04 PM »
Reply with quote
waaahhhhh bhut bhut khoob suresh ji!!!!!
Logged
nashwani
Yoindian Shayar
******

Rau: 75
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
38 days, 20 hours and 39 minutes.

ZINDAGI TERE NAAM...Ñ

Posts: 3357
Member Since: Mar 2013


View Profile
«Reply #12 on: December 25, 2013, 11:17:43 PM »
Reply with quote
 Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley Clapping Smiley

Waaah waah laajwab likha hai suresh jee..
Great..Dhero dhero daad..happy9
Logged
dksaxenabsnl
YOS Friend of the Month
Yoindian Shayar
*

Rau: 109
Offline Offline

Gender: Male
Waqt Bitaya:
20 days, 14 hours and 24 minutes.

खुश रहो खुश रहने दो l

Posts: 4115
Member Since: Feb 2013


View Profile
«Reply #13 on: December 26, 2013, 05:41:59 AM »
Reply with quote


रोने   कोई   देता  नहीं   और  हँसी  आती  नहीं
इस ज़िंदगी की क्या बताएँ कश्मकश जाती नहीं

खबर वो झूठी ही सही पर सुनने में अच्छी लगी
सच्ची  बातें तो  हरगिज़ इस दौर में भाती नहीं

वो नायाब मोती हैं जो मिलते  नहीं  बाज़ारों में
वफ़ा बिन उल्फ़त यूँ है जैसे दीया है बाती नहीं

या रब इस नादान को अपनी दीद का रास्ता बता
हौसले तूफ़ां  के कभी तितलियाँ जान पाती नहीं

सजाकर ख्यालों को मीठी जबां से करना पेश
फिर  देखना बात तुम्हारी कैसे रंग लाती नहीं

उतनी ही नज़दीकियाँ हैं उसकी खुदा से जान लो
जिसकी ज़रूरत और अना यूँ ही सर उठाती नहीं

उसके दिल में ना उतार पाई कभी आवाज़'सरु'की
वर्ना  मोर पपीहा कोयल किस धुन में गाती नहीं




Kamaal Ka Likha hai Saru Ji. Ek Rau ke saath Daad Qabool karein.
Logged
aqsh
Poetic Patrol
Khaas Shayar
**

Rau: 230
Offline Offline

Gender: Female
Waqt Bitaya:
54 days, 3 hours and 29 minutes.

aqsh

Posts: 13034
Member Since: Sep 2012


View Profile
«Reply #14 on: December 26, 2013, 08:07:19 PM »
Reply with quote
 Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Applause Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP Thumbs UP
Waaaaaah Saru ji... is kalaam par sirf waaaaaaaaaaaaaaah hi waaaaaaaaaaaaaaah nikal rahi hai... hazaron hazaron dili daaaaad qubool kare...
Logged
Pages: [1] 2 3  All
ReplyPrint
Jump to:  

+ Quick Reply
With a Quick-Reply you can use bulletin board code and smileys as you would in a normal post, but much more conveniently.


Get Yoindia Updates in Email.

Enter your email address:

Ask any question to expert on eTI community..
Welcome, Guest. Please login or register.
Did you miss your activation email?
July 18, 2019, 06:01:49 PM

Login with username, password and session length
Recent Replies
[July 18, 2019, 10:33:23 AM]

[July 18, 2019, 01:16:49 AM]

[July 17, 2019, 10:16:59 PM]

[July 17, 2019, 10:10:13 PM]

[July 17, 2019, 10:08:07 PM]

[July 17, 2019, 10:04:58 PM]

[July 17, 2019, 10:04:02 PM]

[July 17, 2019, 10:00:32 PM]

[July 17, 2019, 09:59:06 PM]

[July 17, 2019, 09:56:26 PM]
Yoindia Shayariadab Copyright © MGCyber Group All Rights Reserved
Terms of Use| Privacy Policy Powered by PHP MySQL SMF© Simple Machines LLC
Page created in 0.228 seconds with 24 queries.
[x] Join now community of 48363 Real Poets and poetry admirer